''अगर जिंदा रहना चाहता है तो आरटीआई लगाना बंद कर दे''

E-mail Print PDF

: पत्रकार एवं आरटीआई एक्टिविस्‍ट को मिली धमकी : आदरणीय यशवंत जी, मैं आदर्श शर्मा बाहरी दिल्ली से एनएनआई न्यूज एजेंसी के लिए काम करता हूं। साथ ही मैं जनहित में आरटीआई भी लगाता हूं। कुछ दिनों पहले मैं बी-2 ब्लाक,  सुलतानपुरी,  दिल्ली-86 में स्थित एक पार्क,  जिसमें अवैध रूप से कब्जा किया गया है,  के खिलाफ आरटीआई लगाया था।

पूर्व में इस पार्क को तोड़ने के लिए दिल्‍ली नगर निगम रोहिणी जोन से दो बार बुलडोजर आया था,  परन्तु कब्जाधारियों के द्वारा दोनों बार इसे मैनेज कर बचा लिया गया। कुछ दिनों पहले पार्क पर कब्जा किये व्यक्ति को यह पता चला कि मैं ही उसके कब्जा के खिलाफ आरटीआई लगया था। कल जब मैं दिनांक 21.6.11 को रोहिणी स्थित अंबेडकर अस्पताल से आरटीआई लगा कर रोहीणी सेकटर-16 स्थित सब रजिस्ट्रार के कार्यालय अपने मित्र एवं पब्लिक संदेश के संपादक संजय सिंह के साथ किसी काम से आया था।

तभी वहां एक लगभग चालीस साल उम्र का एक व्यक्ति आया और गाड़ी रोककर मेरे साथ बदतमीजी करने लगा। उसने खुद का नाम विजय कुमार भारती बताया और बोला कि हां मैंने पार्क कब्जा कर रखा हैं,  तू मेरे खिलाफ आरटीआई लगाया हैं,  मै तुझे गुंडों से मरवा दूगां। और तुम्हारी लाश बिहार भेज दूंगा। अगर तू जिंदा रहना चहता है तो मेरे खिलाफ आरटीआई लगाना बंद कर दे। मैं मूलतः बिहार का रहने वाला हूं। और दिल्ली के सुलतानपुरी में रहता हूं। मुझे धमकी देने वाला भी सुलतानपुरी में ही रहता है। मैंने इस धमकी खिलाफ सुलतानपुरी थाना में 21.6.11 को आवेदन देकर अपने जान-माल की सुरक्षा का गुहार लगाया हूं। जिसका डीडी न0 56बी डीसीटी है। अतः आपसे निवेदन है कि आप मेरी अवाज को अपने मीडिया र्पोटल में जगह देने का कृपा करें।

आदर्श शर्मा

पत्रकार एनएनआई

मो.न. 09953656903

This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it


AddThis