मेरा पांच माह का वेतन भड़ास को दें

E-mail Print PDF

श्रीमान प्रताप जी राव, नमस्कार. आपकी जानकारी के लिए मैं अपना परिचय दे रहा हूं कि मैं मुकेश सुन्‍देशा, जालौर (राजस्‍थान) से आपके चैनल एचबीसी न्‍यूज का संवाददाता था. कई महीने आपके चैनल के लिए अपनी सेवाएं दीं. पांच महीने तक सेलरी मिलने के आश्‍वासन पर मैंने काम किया. अंत में सेलरी न मिलने से आजिज आकर मुझे आपका चैनल छोड़ना पड़ा. आपसे बार बार निवेदन के बाद भी आप मेरे वेतन पर कोई चर्चा नहीं कर रहे हैं, यह अत्‍यन्‍त ही दुख की बात है.

आप द्वारा एचबीवी न्‍यूज राजस्‍थान के पत्रकारों का शोषण तथा उनके जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है. क्‍या आप इससे पांच मंजिल की बिल्डिंग बना लेंगे, पर आपकी यह इच्‍छा शायद कभी पूरी नहीं होगी, क्‍यों कि ये पैसा मेरे जैसे पत्रकारों के मेहनत और खून-पसीने की कमाई है, जिनकी आह कभी भी आपका पीछा नहीं छोड़ेगी. अब आते हैं मुद्दे की बात पर. मैंने अपने पत्रकारिता के जीवन में देखा है कि भड़ास4मीडिया पत्रकारों के हर सुख-दुख में उनका भागीदार बना है. भड़ास ने पिछले काफी समय से पत्रकारों के हक की लड़ाई में निस्‍वार्थ भाव से साथ दिया है और मदद की है.

अब आपसे यह अनुरोध है कि मेरे पांच माह का वेतन, जो पचास हजार रुपये है, भड़ास4मीडिया को दे दें ताकि यह किसी पत्रकार के काम आ सके. मैं भड़ास4मीडिया को अपने वेतन को वसूल करने का अधिकार देता हूं और आशा करता हूं कि आप जल्‍द से जल्‍द मेरा वेतन भड़ास को देकर सहयोग प्रदान करेंगे. भड़ास को मेरे वेतन का धन न दिए जाने की स्थिति में मैं किसी भी कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार रहूंगा. मैं यशवंतजी से भी निवेदन करता हूं कि वो एचबीसी न्‍यूज से मेरा वेतन प्राप्‍त कर मुझे सूचित करावें. अगर एचबीसी न्‍यूज ऐसा नहीं करता है तो मैं कोर्ट जाने के लिए तैयार हूं. अगर जरूरत हुई तो कंपनी का एप्‍वाइंटमेंट लेटर, प्रेस कार्ड, चैनल का लोगो भी भेज दूंगा.

मुकेश सुन्‍देशा

पूर्व पत्रकार, एचबीसी न्‍यूज जालौर

मोबाइल-  9928126369

This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it


AddThis