दिल्ली में जामिया के दुष्टों से लड़ रही वो लड़की

E-mail Print PDF

शाहला निगारजामिया द्वारा प्रशासित और महिला बाल विकास मंत्रालय द्वारा वित्तपोषित मृदुला साराबाई हास्टल फार वर्किंग वोमेन से नियम विरुद्ध तरीके निकाल कर बाहर कर दी गईं महिला पत्रकार शाहला निगार लड़ाई जारी रखे हुए हैं. वे जामिया के दुष्टों को दंडित कराने के लिए उन सभी प्रभावशाली लोगों से मिल रही हैं, जिनके हाथों में कानून और न्याय की ताकत है. वे पिछले दिनों दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से मिलीं और आपबीती सुनाई.

शीला दीक्षित ने महिला बाल विकास की कृष्णा तीरथ को पत्र लिख शाहला को न्याय दिलाने का अनुरोध किया. शाहला ने अपनी तरफ से भी कृष्णा तीरथ को पत्र लिखकर न्याय की मांग की है. दोनों पत्रों को यहां प्रकाशित किया जा रहा है. पूरा प्रकरण समझने के लिए नीचे कमेंट बाक्स के बाद में आ रहे शीर्षकों पर एक-एक कर क्लिक कर सकते हैं. शाहला अपने साथ की गई बदतमीजी के मामले को कोर्ट में भी ले गई हैं. कोर्ट में 25 तारीख को अगली सुनवाई होनी है.

To: Mrs. Krishna Tirath
Women and Child Development
Room No 756, A  Wing, Shastri Bhawan, New Delhi
9Harichandra Mathur Lane, New Delhi 110001.

From:  Miss Shahla Nigar (Homeless),

Subject: Request for (justice) an appointment to show the letter issued by Hon'ble Chief Minister and discuss the matter. 
Dated: 17th February, 2011.
Respected Madam,

It is with great agony that I wish to bring to your kind notice the callousness done by Provost of my Hostel. I have already meet and discussed with Smt. Shela Dixit, Chief Minister, Govt of Delhi and she has forwarded this case to your efficient control. So, I need an appointment to explain and discuss all atrocities done by above mentioned authority. Many newspapers has been covered this episode that how civilized people (so called) can do atrocities on weak people.

Therefore I request to you kindly give me an appointment to get the justice.

I would be highly grateful and obliged if some special attention is given to me.

I feel confident of receiving a favorable and helpful reply.

Thanks and best regards,
Yours Faithfully, 
Miss Shahla Nigar


AddThis