खैर मनाएं कि मैंने बरखा दत्त पर चप्पल नहीं फेंका : योगेश शीतल

E-mail Print PDF

योगेश कुमार शीतल: इंटरव्यू : बिहार के बेगूसराय के रहने वाले योगेश कुमार शीतल के नाम में भले ही शीतल शब्द जुड़ा है लेकिन हैं वे फायरब्रांड. उनकी कद काठी और चेहरे मोहरे से आप अंदाजा नहीं लगा सकते कि उनके दिल में भ्रष्ट व्यवस्था और भ्रष्ट लोगों के खिलाफ कितनी आग है. योगेश कुमार शीतल ने इंडिया गेट पर करप्शन के खिलाफ जनसैलाब को कवर करने आईं एनडीटीवी की ग्रुप एडिटर बरखा दत्त को भागने पर मजबूर कर दिया.

योगेश ने बरखा मुर्दाबाद के जो नारे लगाए तो उनका साथ देने कई लोग आ पहुंचे.  शुरुआत में पहले सहयोगी के रूप में एक महिला ने नारे में स्वर मिलाना शुरू किया. भड़ास4मीडिया से एक वीडियो इंटरव्यू के दौरान इंडियन इंस्टीट्यूट आफ मास कम्युनिकेशन में हिंदी पत्रकारिता के छात्र योगेश कुमार शीतल ने उस अनजानी महिला को धन्यवाद दिया जिसने न सिर्फ उन्हें नारे लगाने का काम करने के लिए लिए अपनी सहमति दी बल्कि खुद भी इसमें सहयोगी बनी. योगेश कहते हैं कि शुक्र मनाओ कि मैंने बरखा दत्त पर चप्पल नहीं मारा अन्यथा पहले तो मन में यही था कि चप्पल फेंक दूं उसके उपर. योगेश एनडीटीवी की किसी महिला मीडियाकर्मी को पीटने के कथित आरोपों से इनकार करते हैं. योगेश के मुताबिक वे किसी महिला पर हाथ उठाने जैसी हरकत कभी नहीं कर सकते. उनका मकसद सिर्फ एनडीटीवी की बरखा दत्त को यह बताना था कि वे जब खुद भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरी हैं तो वे किसी हैसियत से भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन को कवर करने के लिए आई हैं.

योगेश का स्वास्थ्य ठीक नहीं है. उनके कई संगी-साथी और सहयोगी उनका साथ छोड़ चुके हैं. कई नए लोग उनके समर्थन में आ खड़े हुए हैं. आर्थिक तंगी अलग से घेरे है क्योंकि घर से अभी पैसा नहीं आया है. मीडियावालों से पंगा लेने के कारण उनके संगठन और उनके संगी-साथियों व शिक्षकों का प्रेशर अलग से उन पर है. बावजूद इसके जीवट योगेश शीतल किसी भी प्रकार झुकने या हार मानने के लिए तैयार नहीं है. उन्होंने कहा कि वे आगे भी भ्रष्टाचारियों का विरोध करते रहेंगे, वो चाहे बरखा दत्त हों या कोई और. इंडिया अगेंस्ट करप्शन से जुड़े योगेश शीतल के मुताबिक मीडिया के भ्रष्टाचारियों के खिलाफ भी मुहिम शुरू करने की जरूरत है. दूसरे संगठन सिर्फ इसलिए मीडिया के भ्रष्टाचारियों के खिलाफ चुप्पी साध लेते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे नाराज होकर मीडिया के लोग उनके आंदोलन और अभियान को कवर नहीं करेंगे. इंडिया गेड पर उस दिन क्या क्या हुआ और बरखा दत्त को हूट करने के बाद किस तरह पुलिस के हत्थे योगेश को चढ़ाने की साजिश एनडीटीवी के कुछ लोगों ने रची, इसका तफसील से विवरण योगेश ने इस वीडियो इंटरव्यू में दिया है. वीडियो देखने सुनने के लिए क्लिक करें-

बरखा प्रकरण पर आईआईएमसी के स्टूडेंट और इंडिया अगेंस्ट करप्शन के एक्टिविस्ट योगेश कुमार शीतल का कुबूलनामा


AddThis