हाशिमपुरा कर्ज की तरह मेरे सिर पर लदा था, उसे अब मैं उतार रहा हूं : वीएन राय

E-mail Print PDF

वीएन राय: इंटरव्यू : वीएन राय, कुलपति (महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय) : विभूति नारायण राय का इंटरव्यू, वादे के अनुरूप प्रकाशित किया जा रहा है लेकिन इसे टेक्स्ट फार्म में नहीं दे पा रहे हैं, इसके लिए माफी चाहता हूं. वेब मीडिया की खासियत है कि इसमें प्रिंट, इलेक्ट्रानिक और रेडियो, सभी मीडिया माध्यम समाहित हैं. सो, यह तय किया कि अगर वीडियो फार्मेट में इंटरव्यू है तो इसे टेक्स्ट में रूपांतरित करने जैसा थोड़ा मुश्किल काम क्यों किया जाए. दूसरे, वीडियो या इलेक्ट्रानिक फार्मेट जब अपने आप में कंप्लीट फार्मेट है तो उसका प्रिंट फार्म क्यों जनरेट किया जाए. सो, जस का तस रख दिया गया है पूरा इंटरव्यू. और, इसी बहाने भड़ास4मीडिया के इंटरव्यू सेक्शन में ये पहला वीडियो इंटरव्यू प्रकाशित करने का नया रिकार्ड भी कायम हो रहा है.

बाकी रही टेक्स्ट की बात तो देश भर के पत्रकारिता के विद्यार्थियों के उपर यह काम छोड़ता हूं कि वे इस इंटरव्यू के सवाल जवाब को टेक्स्ट फार्म में रूपांतरित करें और उसे नीचे कमेंट बाक्स में अपने नाम से या बेनामी नाम से डाल दें या मुझे मेल कर दें. उनकी मेहनत को व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा और जो सबसे बेहतर इंटरव्यू लिख पाएगा, उसे पुरस्कृत करने के साथ इंटरव्यू को प्रकाशित भी कर दिया जाएगा ताकि जो आफिस में नेट यूज करने वाले, वो भी बिना स्पीकर के, भड़ास4मीडिया के पाठक हैं, उन्हें पूरा इंटरव्यू पढ़ने को तो मिल ही जाए.

वेब मीडिया पर वीडियो इंटरव्यू के कई संकट है. अगर आपका नेट कनेक्शन कमजोर है, धीमा है, स्लो है तो आपको किसी भी वीडियो को पूरा देखने-सुनने में अच्छा खासा वक्त लगाना पड़ेगा, बीच-बीच में लोडिंग-बफरिंग जैसे रुकावटों के चलते इंटरव्यू का मजा किरकिरा होता जाएगा. सो, एक सलाह है. अगर आपके नेट की स्पीड स्लो है तो इन इंटरव्यू को एक बार प्ले करके और साउंड आफ करके छोड़ दें. जब ये एक बार पूरा चल जाएं तो फिर उसे प्ले करें, साउंड पूरा आन करके. आवाज ठीकठाक सुनने के लिए आपके पास स्पीकर होना चाहिए. सिर्फ लैपटाप के साउंड पर डिपेंड रहने से काम नहीं चलेगा. अपने सिस्टम का साउंड पूरा आन करने के साथ ही वीडियो के प्ले आप्शन के बगल में दिए गए साउंड आप्शन को भी पूरा आन करें. तो ये रहे थोड़े टिप्स. अब बात करते हैं इंटरव्यू की.

वीएन राय के इंटरव्यू को नोकिया एक्स6 मोबाइल से रिकार्ड किया गया है. पिक्चर क्वालिटी अन्य मोबाइलों की तुलना में थोड़ी बेहतर दिख रही है, लेकिन नतीजा उतना बढ़िया नहीं जितना अपेक्षित था. हां, इसे वेब फार्मेट के लिहाज से संतोषजनक जरूर कहा जा सकता है. महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के कुलपति वीएन राय का इंटरव्यू उनके वीसी निवास में, इस निवास के लॉन में और निवास के बाहर की सड़क पर लिया गया है. इंटरव्यू करने में सहयोग किया है वरिष्ठ ब्लागर प्रियंकर पालीवाल ने. इंटरव्यू में वीएन राय ने कई ऐसी बातें कहीं हैं, कई ऐसी स्वीकारोक्तियां की हैं, जिससे पता चलता है कि उपर से सख्त दिखने वाले वीएन राय के अंदर कितना संवेदनशील दिल और कितना तार्किक व लोकतांत्रिक दिमाग है.

इंटरव्यू में कहे गए एकाध शब्द को वीएन राय ने संपादित-संशोधित करने का अनुरोध किया था. खासकर उस शब्द को जिसमें उन्होंने शायद 'हिंसक जानवर' या शायद 'क्रूर जानवर' शब्द का इस्तेमाल किया है. पर, बिना किसी तैयारी, बिना री-टेक, बिना री-शूट, बिना एडिटिंग के अपलोड इस इंटरव्यू के उस हिस्से (या कहिए उस शब्द) को भी हम यहां प्रकाशित कर रहे हैं जिसे हटाने का अनुरोध वीएन राय ने किया था. वीएन राय ने इंटरव्यू देने जैसी कोई तैयारी नहीं की थी. वे लगातार बोलते गए. अगर उनके बोले गए 'हिंसक जानवर' शब्द से किसी को कोई दिक्कत होती है तो उसके लिए जिम्मेदार भड़ास4मीडिया और खुद मैं हूं. हालांकि निजी तौर पर मैं इस शब्द को गलत नहीं मान रहा, शायद एक वजह और भी यह है कि इसे संपादित नहीं कर रहा. पर आजकल छाछ फूंक फूंक कर पी रहे वीएन राय नहीं चाहते कि दूध में फिर उबाल आए और जलाने को मुंह तक पहुंचे, सो, उन्होंने दुर्घटना से पहले सावधानी की तर्ज पर इसे हटाने का अनुरोध किया. क्या सही है, क्या गलत है, इसका असली फैसला तो जनता जनार्दन को करना है, सो, जनता तो सब कुछ अनएडिटेड और अनसेंसर्ड पहुंचा रहा हूं.

-यशवंत, एडिटर, भड़ास4मीडिया


AddThis