बीबीसी में होता है ईसाई कर्मचारियों से भेदभाव

E-mail Print PDF

लंदन। ब्रिटेन का सबसे बड़ा न्यूज नेटवर्क बीबीसी भी भेदभाव के मामले मे पीछे नहीं है। बीबीसी द्वारा कराए गए सर्वे में संस्थान के खिलाफ ही एक चौंकाने वाला खुलासा है। सर्वे के अनुसार बीबीसी अपने ईसाई धर्म के कर्मचरियों के साथ भेदभाव करता है साथ ही केवल खूबसूरत दिखने वाले लोगों को ही यहां भर्ती किया जाता है। बीबीसी की "डायवर्सिटी स्ट्रेटिजी" द्वारा कराए सर्वे में कई तथ्य सामने आए हैं।

इस सर्वे के मुताबिक संस्थान में ईसाई कर्मचारियों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता उन्हें रूढिवादी, कमजोर, धर्माध और अपमानजनक समझा जाता है जबकि गैर ईसाई कर्मचारियों के साथ ऎसा बर्ताव नहीं होता। द डेलीमेल की रिपोर्ट के अनुसार संस्थान क्रिश्चनिटी के खिलाफ काम करता है। हालांकि बीबीसी के प्रवक्ता ने कहा है कि उनका संस्थान क्रिश्चनिटी के खिलाफ नहीं है।

इस सर्वे में लगभग 4500 लोगों ने भाग लिया जिनमें से कुछ बीबीसी के कर्मचारी भी शामिल थे। सर्वे के अनुसार संस्थान में उम्रदराज लोगों व विकलांगों के साथ भी सामान्य बर्ताव नहीं किया जाता। उन्हें हाशिए पर धकेल दिया जाता है। सर्वे में एक और बात सामने आई है कि बीबीसी केवल सुंदर चेहरों वाले लोगों को ही नौकरी पर रखता है।


AddThis