दैनिक जागरण किसके लिए ये नंगी-नंगी तस्वीरें छापता है?

E-mail Print PDF

मैं दैनिक जागरण, आगरा के आज के अखबार की तरफ ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं. इस अखबार में आज दो ऐसी तस्वीरें छपी हैं, जिनके छापने का कोई औचित्य नहीं था. पर इन तस्वीरों को छापकर दैनिक जागरण के संपादक ने अपने पाठकों को शर्मिंदा करने का प्रयास किया है. मेरे यहां बहुत दिन से दैनिक जागरण अखबार आता है. पूरा परिवार अखबार पढ़ता है.

और, हम लोगों को दैनिक जागरण पर भरोसा रहता है कि यहां ऐसा कुछ छपा नहीं मिलेगा जिसे परिवार के साथ पढ़ते या देखते हुए शर्मिंदगी महसूस हो. पर पिछले काफी दिनों से दैनिक जागरण अब ऐसी बेमतलब की तस्वीरें छापने लगा है जिसमें खबर के नाम पर कुछ नहीं होता, सिर्फ नंगई ही दिखाना उद्देश्य होता है. यकीन न हो तो इन दो तस्वीरों और इनके नीचे लगे फोटो के परिचय को पढ़ लीजिए. अगर ऐसी ही तस्वीरें छापनी हैं तो सिर्फ दो तस्वीरें क्यों छाप रहे हैं. हर पेज पर उपर एक ऐसी तस्वीरें लगाइए ताकि दैनिक जागरण के पाठक तय कर लें कि किन्हें इसे पढ़ना देखना है और किसे नहीं पढ़ना देखना है. पर ऐसा मत करिए कि पारिवारिक अखबार को सिर्फ कुंठित और विकृत लोगों का अखबार बना डालिए.

छाती दिखाती विदेशी लड़कियों की तस्वीरों को देखकर संभव है कई भारतीय युवाओं के शरीर में सनसनी दौड़ जाए लेकिन इससे परिवार की आस्था को चोट पहुंचती है. हर कोई सेक्स के बारे में जानता है और हर कोई पोर्न पसंद करता है. पर इसे करने और देखने के तरीके होते हैं. हम मनुष्य लोग सामाजिक प्राणी होते हैं. हमारा आचार विचार ही हमें जानवरों से बेहतर बनाता है. अगर अखबार का दायित्व समाज और परिवार व जनता को मार्गदर्शन देने का है, नई जानकारियों से जागरूरक करने का है, आस पड़ोस व देश-विदेश की घटनाओं के समाचार बताने का है तो अखबार को यही दायित्व निभाना चाहिए. उसे नंगी-पुंगी तस्वीरों के जरिए सनसनी फैलाने से बचना चाहिए. मैं दैनिक जागरण के संपादक लोगों से अपील करता हूं कि कृपया आगे से ऐसी तस्वीरें न छापें जिससे अखबार को परिवार के सदस्य एक साथ न पढ़ सकें.

मुझे किसी ने बताया कि यह बात अगर भड़ास  के पास भेज दी जाए तो दैनिक जागरण के सभी पत्रकारों और संपादकों तक बात पहुंच जाएगी. इसलिए मैं सारी बात लिखकर भेज रहा हूं. मुझे हिंदी में लिखना नहीं आता है इसलिए कृपया मेरे लिखे को अपने हिसाब से हिंदी में कर लें.

अर्जेटीना में ब्राजील और पराग्वे के बीच खेले गए कोपा अमेरिका फुटबॉल क्वार्टर फाइनल मैच के दौरान पराग्वे के समर्थकों ने टीम का जमकर मनोबल बढ़ाया। एएफपी

ये है जलवा.. फ्लोरिडा में मर्सिडीज-बेंज फैशन वीक के दौरान सोमवार को रैंप पर मॉडलों के जलवे देखते ही बने। एएफपी

अनुरोध है कि मेरा नाम और मेल आईडी न प्रकाशित करें क्योंकि मैंने ऐसी कोई बात नहीं कही है जिसके लिए मुझे सामने आने की जरूरत पड़े. यह एक ऐसा सच है जिसे हर परिवार का जागरूक सदस्य सोचता है लेकिन कहता नहीं है क्योंकि उसे पता ही नहीं होता है कि कहना किससे है.

आगरा से दैनिक जागरण के एक पाठक द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित


AddThis