सरकार चिंतिंत- सेक्स करने की उम्र ज्यादा क्यों?

E-mail Print PDF

: बिल पास हुआ तो 12 साल की उम्र में सेक्स लायक माने जाएंगे बच्चे : कहीं करप्शन और महंगाई से ध्यान हटाने के लिए इस सनसनी तो नहीं परोसा! : घोटालों और घपलों में उलझी कांग्रेसी सरकार ने बोल्ड और ब्यूटीफुल विषय छेड़ दिया है. सेक्स का. कसम से, देखिएगा, सब इसी पर अब बतियाएंगे. मिस्र जैसा हाल कहीं भारत में न हो जाए, इससे घबराई केंद्र सरकार रोज नई तरकीब भिड़ा रही है ताकि मूल समस्या से सबका ध्यान हटे.

महंगाई और भ्रष्टाचार पर बहस बंद हो क्योंकि इन मुद्दों से कांग्रेस और इसके युवराज के करियर का अंत होने वाला है. सो, बोल्ड एंड ब्यूटीफुल सब्जेक्ट सेक्स को सरकार ने पब्लिक डोमेन में ला दिया है. सरकार चाहती है कि अभी तक जो आपसी सहमति से सेक्स करने की आयु भारत में है, वो 16 साल है. अब सरकार इस आयु को घटाकर 12 साल करने जा रही है. ऐसा कदम बच्चों को यौन अपराधों से सुरक्षा दिलाने के लिए किया जा रहा है. महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने इससे संबंधित बिल प्रोटेक्शन आफ सेक्सुअल आफेंस 2010 को राज्य सरकारों के पास भेज दिया गया है.

इस बिल के मुताबिक 12 से 14 साल के आयु वर्ग के मामले में सेक्स करने वाले बच्चों की उम्र में कम से कम दो साल का अंतराल होना चाहिए, जबकि 14 से 16 साल के आयु वर्ग के मामले में तीन साल का अंतर होना चाहिए. अमेरिका में आपसी रजामंदी से सेक्स की आयु 16 से 18 साल है. अमेरिका के हर प्रांत में इस बारे में अलग-अलग आयु सीमा है. वहीं, ब्रिटेन में 16 साल और स्पेन में 13 साल के बच्चों को आपसी सहमति से सेक्स करने की सरकार ने अनुमति दे रखी है. पाकिस्‍तान में आपसी सहमति से सेक्‍स के लिए पुरुष को 18 साल और महिला के लिए 16 साल है.  चीन में यह आयु सीमा 14 साल है.

इन देशों के मौजूदा कानून के तहत आपसी सहमति से पार्टनर बिना किसी बंदिश के सेक्‍स कर सकते हैं. स्‍पेन की तर्ज पर ही दक्षिण कोरिया, नाइजीरिया और बुर्किना फासो में 13 साल के बच्‍चों को भी आपसी सहमति से सेक्‍स की इजाजत है. ग्रीस में 15 साल और इससे ऊपर के लोगों आपसी सहमति से सेक्‍स की इजाजत है. जिब्राल्‍टर में यह आयु सीमा 18 है. यहां हेट्रोसेक्‍सुअल और लेस्बियन को 16 साल में ही आपसी सहमति से सेक्‍स की छूट मिली है. बाकी यूरोपीय देशों में सहमति से सेक्‍स करने की आयु सीमा करीब बराबर ही है चाहे वाले किसी हेट्रोसेक्‍सुअल हों या लेस्बियन.

भारत के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने इस बिल को राज्य सरकार को भेजने की पुष्टि की है, जबकि केन्द्रयी मंत्री वीरप्पा मोइली ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नही है. उन्होंने कहा कि 12 साल के उम्र में सेक्स की अनुमति देने के लिए उपयुक्त नहीं है. फिलहाल तो कम उम्र में ही सेक्‍स करने की इजाजत देने के सरकार के प्रस्‍ताव से सभी हैरान हैं. कुछ लोग इसका स्वागत भी कर रहे हैं क्योंकि वास्तविकता तो यही है कि 12 से 14 साल की उम्र में बच्चे सेक्स के लिए तैयार हो चुके होते हैं.

आपको क्या लगता है, सेक्स वाली बात सरकार ने जानबूझकर मीडिया में उछाला है या यह जेनुइन सब्जेक्ट है, जिस पर काम विचार-विमर्श किया जाना चाहिए?


AddThis