पुलिस के वांटेड लिस्‍ट में मीडियाकर्मी भी

E-mail Print PDF

जमीन अधिग्रहण के मामले में यमुना एक्‍सप्रेस वे पर आगरा में रविवार को हुए बवाल के चौबीस घंटे बाद पुलिस ने ग्रामीणों के पोस्‍टर जारी कर दिए हैं. पुलिस ने उपद्रवियों की लिस्‍ट में सोलह लोगों का फोटो जारी किया है. इस पोस्‍टर में पुलिस ने एक मीडियाकर्मी तथा एक नाबालिग बच्‍चे को भी शामिल किया है. बाद मीडियाकर्मी की तस्‍वीर छपने की सूचना के बाद डीआईजी ने तस्‍वीर हटाने के निर्देश दे दिए.

आगरा के गढ़ी रामी में हुए बवाल की तस्वीरों से पुलिस ने 'इनकी तलाश है' शीर्षक से पोस्टर जारी किए. इसमें कुल सोलह तस्वीरें प्रकाशित की गई हैं. इस पोस्‍टर के दूसरे कॉलम की तीसरी तस्वीर एत्मादपुर के एक मीडिया कर्मी की है. समझौता वार्ता के दौरान जब पुलिस-प्रशासन की तरफ से ग्रामीणों को पोस्टर दिखाया गया तो उन्‍होंने तस्वीर में दिख रहे मीडियाकर्मी को निर्दोष बताया.

डीआईजी असीम अरुण ने बताया कि यह पोस्टर इसलिए जारी किया गया है, जिससे तस्वीरें देखकर ग्रामीण जानकारी दे सकें. उन्‍होंने कहा कि जिन निर्दोष लोगों की तस्‍वीर पोस्टर में छप गई है, उन्हें हटाने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं.  डीआईजी ने बताया कि पोस्‍टर में प्रकाशित लोगों के बारे में सूचना देने वालों के नाम गोपनीय रखे जाएंगे. उन्‍होंने बताया कि बवाल करके मुकदमे के बवालियों पर डकैती और बलवे के धाराओं के साथ गैंगस्‍टर में भी बढ़ो की गई है, परन्‍तु जांच पूरी होने तक किसी की गिरफ्तारी नहीं होगी.


AddThis