पत्रकारों ने फैलाई पेपर लीक होने की अफवाह, डीएलए ने खोली पोल

E-mail Print PDF

इटावा में मीडिया से जुड़े चंद लोगों की करतूत का खुलासा किया है आगरा से प्रकाशित अखबार डीएलए ने. पत्रकारों द्वारा फैलाए गए पेपर लीक के इस मामले को इटावा के जिलाधिकारी ने भी गंभीरता से लेते हुए दोषी पत्रकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की बात कही है. उन्‍होंने कई मीडिया‍कर्मियों के संस्‍थानों को भी अवगत कराने का निर्देश सूचना विभाग को दिया है.

जानकारी के अनुसार इटावा के केके पोस्ट ग्रेजुएट कालेज कानुपर यूनिवर्सिटी की परीक्षा चल रही थी. परीक्षा के दौरान अंग्रेजी साहित्य का सेकेंड पेपर दोपहर 3 बजे की पाली मे शुरू हुआ. करीब साढे़ चार बजे कुछ न्यूज चैनल के कथित मीडियाकर्मी एक फोटो प्रति लेकर कालेज के प्राचार्य डा.मौहकम सिंह के पास पहुंचे और कहा कि आपके कालेज से पेपर लीक हुआ है. इसके बाद एक मोबाइल एजेंसी ने 5 बजकर 40 मिनट पर इस पेपर लीक होने की न्यूज को प्रसारित कर दिया.

इसके बाद पेपर लीक होने की सूचना पर जिलाधिकारी हरकत में आ गए. उन्‍होंने तत्‍काल जिला विद्यालय निरीक्षक को जांच करने का निर्देश दिया. निर्देश के बाद जिलाविघालय निरीक्षक समेत कई अधिकारी जांच करने के लिये कालेज पहुंच गये, लेकिन जांच रिर्पोट में पेपर लीक होने जैसा कोई भी तथ्य नहीं पाया गया. मोबाइल न्यूज का प्रसारण करने वाले मीडिया मैन से जब मोबाइल नंबर पर जिला विद्यालय निरीक्षक ने खबर का माध्यम जानने की कोशिश की तो वे खबर की सत्यता का प्रमाण देने की बजाय अपना नाम दूसरा बताकर गुमराह करने लगे.

कहा यह भी जा रहा है कुछ कथित न्यूज चैनल के चंद स्ट्रिंगर पेपर लीक की करतूत मे शामिल थे, लेकिन प्रशासन का सहयोग नहीं मिल पाने के चलते इन्‍हें मुंह की खानी पड़ी. जांच में तथ्‍य गलत पाए जाने के बाद इसमें शामिल कुछ मीडियाकर्मियों पर नाराजगी जताते हुए जिलाधिकारी गौरी शंकर प्रियदर्शी ने पेपर लीक की कथित घटना में शामिल मीडियाकर्मियों के संस्थानों को रिर्पोट करने के लिये सहायक निदेशक सूचना को निर्देशित किया है.

फिलहाल पूरे फर्जीवाड़े के सामने आने के बाद कार्रवाई के डर से ऐसे मीडियाकर्मियों में बैचेनी बनी हुई है. कहा जा रहा है कि पहली बार सीधे जिलाधिकारी स्तर पर नाराजगी के बाद कोई भी अधिकारी कुछ कह नहीं पा रहा है. लेकिन बधाई का पात्र है डीएलए, जिसने मीडियाकर्मियो के काले चेहरे को ना केवल उजागर किया बल्कि अपना कर्तव्य भी निभाया.

डीएलए

इटावा से दिनेश शाक्‍य की रिपोर्ट.


AddThis