'लोकमत समाचार' और 'लोकमत' में कनफ्यूज मत होइए

E-mail Print PDF

'लोकमत' अब यूपी में कदम में कदम रखने जा रहा है. यह अब लखनऊ से प्रकाशित होने जा रहा है.  इसको लेकर लोगों में काफी कन्‍फ्यूजन है. इसे लोग महाराष्‍ट्र से प्रकाशित हो रहे रहे 'लोकमत ग्रुप'  का अखबार समझ रहे हैं. जबकि लखनऊ से प्रकाशित होने जा रहा हिंदी अखबार 'लोकमत' राजस्‍थान के बीकानेर और जयपुर से प्रकाशित 'लोकमत प्रकाशन'  का वेंचर है. महाराष्‍ट्र का लोकमत ग्रुप अपने हिंदी अखबार का प्रकाशन 'लोकमत समाचार' के नाम से करता है.

आइए अब आपको बताते हैं इन दोनों अखबारों के इतिहास.  महाराष्‍ट्र और गोवा में स्‍थापित 'लोकमत ग्रुप'  हिंदी, मराठी और अंग्रेजी में अपने अखबार का प्रकाशन करता है. मराठी में 'लोकमत' के नाम से इस अखबार का प्रकाशन महाराष्‍ट्र में नागपुर, पुणे, औरंगाबाद, अकोला, नासिक, जलगांव, मुंबई, अहमदनगर, सोलापुर, सताला, सांगली, कोल्‍हापुर तथा गोवा से होता है.

इसका हिंदी एडिशन 'लोकमत समाचार'  के नाम से नागपुर, अकोला, कोल्‍हापुर और औरंगाबाद से प्रकाशित होता है. जबकि इसका अंग्रेजी संस्‍करण 'लोकमत टाइम्‍स' के नाम से नागपुर और औरंगाबाद से प्रकाशित किया जाता है. इस ग्रुप के संस्‍थापक जवाहर लाल दर्दा हैं. फिलहाल इस ग्रुप के एमडी राजेंद्र दर्दा हैं. जो महाराष्‍ट्र सरकार में मंत्री हैं. ग्रुप के चेयरमैन विजय दर्दा हैं, जो राज्‍य सभा के सदस्‍य होने के साथ आईएनएस के सदस्‍य भी हैं. जबकि लोकमत ग्रुप के हिंदी समाचार पत्र 'लोकमत समाचार' के एडिटर वरिष्‍ठ पत्रकार गिरीश मिश्र हैं.

लखनऊ से जिस 'लोकमत' समाचार पत्र का प्रकाशन होने जा रहा है. उसका महाराष्‍ट्र के लोकमत ग्रुप से कुछ भी लेना-देना नहीं है. यह 'लोकमत प्रकाशन'  का वेंचर है, जो बीकानेर और जयपुर से एक साथ प्रकाशित होता है. इस ग्रुप की स्‍थापना 1947 में स्‍वतंत्रता संग्राम सेनानी अम्‍बर लाल माथुर ने की थी. लखनऊ इस ग्रुप का तीसरा एडिशन होगा. वर्तमान में 'लोकमत' अखबार के मालिक और प्रकाशक अम्‍बर लाल के पुत्र अशोक माथुर हैं. इसी ग्रुप के 'लोकमत' अखबार के संपादक उत्‍कर्ष सिन्‍हा बनाए गए हैं.


AddThis