दैनिक जागरण, दिल्ली में निशिकांत-कविलाश के मन-मुताबिक हुआ फेरबदल

E-mail Print PDF

दैनिक जागरण, नोएडा में सबसे ताकतवर कौन है? कहने को तो कहा जा सकता है कि इसके मालिक संजय गुप्त, जो यहीं नोएडा में बैठते हैं लेकिन कुछ लोग जरूर कहेंगे कि उनसे भी ज्यादा ताकतवर निशिकांत ठाकुर हैं. जी हां, नरेंद्र मोहन के टाइपिस्ट रहे निशिकांत ठाकुर कई बार संजय गुप्ता से बड़े दिखते हैं. इसी कारण निशिकांत के दर्जनों रिश्तेदार जागरण में विभिन्न जगहों पर बड़े-बड़े पदों पर आसीन हैं. कम लोगों को मालूम होगा कि निशिकांत के साले कविलाश दैनिक जागरण, दिल्ली के लोकल ब्यूरो चीफ हैं.

कविलाश पहले गाजियाबाद के ब्यूरो चीफ थे और कुछ साल पहले उन्हें दिल्ली लोकल का ब्यूरो चीफ बना दिया गया. इस तरह अब वे एनसीआर में जागरण की रिपोर्टिंग टीम के सबसे ताकतवर आदमी हो चुके हैं. मालिक के खासमखास जीजा जी के साले जो ठहरे. ताजी खबर ये है कि निशिकांत और कविलाश उर्फ जीजा-साले की जोड़ी ने एनसीआर में बड़ा उलटफेर करा दिया है. जो लोग इस जीजा-साले की जोड़ी के करीबी रहे हैं, इस जोड़ी के मन-मुताबिक डोलते रहे हैं, उन्हें इनाम-इकराम मिला है और जो चुपचाप अपना काम बेहतर तरीके से कर रहे थे, उन्हें ठिकाने लगा दिया गया है.

अब आपको बताते हैं कि किनका किनका तबादला किया गया है. जीजा-साले के प्रिय पात्रों में से एक अशोक ओझा को साहिबाबाद से प्रमोशन दिलाकर गाजियाबाद भेज दिया गया है. ओझा जी अब ब्यूरो चीफ के रूप में गाजियाबाद पर राज करेंगे और जीजा-साले के इशारे पर इस मलाईदार जिले में सारे कामधाम कराते रहेंगे. ओझा जी को सीनियर रिपोर्टर रहते हुए ब्यूरो चीफ का काम मिल गया है. पूर्वी दिल्ली में कई वर्षों से ठीकठाक काम कर रहे कुमार संजय को नोएडा भेज दिया गया है.

सूत्रों के मुताबिक कुमार संजय नोएडा जाना नहीं चाहते थे लेकिन जीजा-साले ने उन्हें नोएडा भेजकर पूर्वी दिल्ली में अपने खास राजीव अग्रवाल को बिठा दिया है. राजीव अग्रवाल अभी तक गाजियाबाद में हुआ करते थे. नोएडा में अभी तक अनिल निगम रहा करते थे जिन्हें चंडीगढ़ भेज दिया गया है. संजीव गुप्ता के बारे में खबर है कि उन्हें पश्चिमी दिल्ली से हटाकर नोएडा आफिस में डेस्क पर भेज दिया गया है. नवीन गौतम को बाहरी दिल्ली से गुड़गांव भेजा गया है. अभी ये पता नहीं चल पाया है कि संजीव गुप्ता की जगह पश्चिमी दिल्ली में कौन आया है.

अगर आप भी जीजा-साले के रहस्यों के बारे में कुछ बताना या सुझाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए कमेंट बाक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it पर मेल कर सकते हैं. अगर उपरोक्त सूचनाओं में कुछ कमी लगे या कोई जानकारी छूटी हुई दिखे तो हमें नीचे के कमेंट बाक्स के जरिए अपडेट कर सकते हैं.


AddThis