अरुण शहलोत का माल टूटा, रवींद्र जैन का इस्तीफा

E-mail Print PDF

भोपाल से एक बड़ी खबर आ रही है. राज एक्सप्रेस अखबार के मालिक अरुण शहलोत, जो बड़े बिल्डर माने जाते हैं, के एक करोड़ों के एक शापिंग माल को राज्य सरकार ने डायनामाइट लगाकर उड़ा दिया. यह प्रकरण कई दिनों से भोपाल की मीडिया में चर्चा का विषय बना हुआ है. माना जा रहा है कि राज एक्सप्रेस के सरकार विरोधी तेवर के कारण अरुण शहलोत को ये सब झेलना पड़ा है. राज एक्सप्रेस के संपादक पद से रवींद्र जैन के इस्तीफा देने की सूचना है.

बताया जा रहा है कि रवींद्र जैन को राज एक्सप्रेस से हटाने को मध्य प्रदेश सरकार ने नाक का सवाल बना लिया था, इसी कारण रवींद्र जैन खुद संपादक पद से जा रहे हैं. कुछ लोगों का यह भी कहना है कि रवींद्र जैन समेत उनके कई लोगों की तमाम तरह की कोशिशों के बाद भी उनके मालिक अरुण शहलोत के करोड़ों के माल को टूटने से नहीं बचाया जा सका, इस कारण रवींद्र जैन को पद त्यागना पड़ रहा है. इस प्रकरण के बारे में विस्तार से सूचनाएं थोड़ी देर बाद आपको दी जाएगी.


AddThis
Comments (2)Add Comment
...
written by dkjain, May 27, 2011
yashwant ji ,
aap chor nambari 420 ravindra jain ki hakikat nahi jante hai . ye chor badmash lutera badmash dalal randibaj to hai hi iska bhai aur ye milkar kai vyapariyo ko lakho rupye ka chuna laga chuke hai. inke ma bap sonagiri me rahte hai ye badmash budo ke liye home khol rahe hai. inhone sting opration kiya DTC ka usne inhe paisa mangane ke mamle me hatwaya. inhone nale ki jamin gher kar makan banaya is par nagar nigam commisonar ne inhe ghutno ke bal baithaya. tab usne makan nahi toda. inki ladkiya ghar se bhag chuki hai. khud galat karte hai to inke sath bhi yahi hota hai
dk jain patrkar
...
written by kuldeep sharma, May 09, 2011
ravindra jain ne jasa kiya basa bharna pad raha hai. unkee papoo ka ghadda bhar gya hai ravindra ne jaise chanda bargal ,vijay shukla rakash aghnihotri s s krisna &many more ke liye gadda khoda tha ..ab un kaa number hai
ant bhala to sub bhala

Write comment

busy
Last Updated ( Sunday, 08 May 2011 14:57 )