दैनिक जागरण को विज्ञापन रोकने की धमकी दी मायावती ने

E-mail Print PDF

मायावती सरकार के चार साल पूरे होने पर दैनिक जागरण, लखनऊ संस्करण में चार किश्तों में मायावती के कामकाज पर स्टोरी प्रकाशित हुई. इन विशेष स्टोरीज वाले कालम का नाम था- वादा तेरा वादा. इन कालमों के जरिए बताया गया कि मायावती के राज में वे क्या क्या काम नहीं हुए, जिनका ऐलान किया गया था. साथ ही इन स्टोरीज में सरकार के कामकाज की आलोचनात्मक समीक्षा थी, जो कि अखबारों में आमबात है.

ऐसी ही स्टोरीज को पाठकों के लिहाज से अच्छा माना जाता है जिसमें सरकार के गुण-दोष दोनों का खुलासा समान भाव से किया गया हो. पर अब न तो वे नेता रहे और न ही मीडिया के वे लोग. नेता अपनी बुराई बिलकुल नहीं सुनना चाहते, और मीडिया वाले पैसे-विज्ञापन के चक्कर में कलम बेचकर कुछ भी खिलाफ लिखने को तैयार नहीं होते. जो कोई लिख भी देता है तो उसका हाल मध्य प्रदेश के हिंदी दैनिक राज एक्सप्रेस के मालिक अरुण सहलोत की तरह होता है. राज एक्सप्रेस में सरकार के खिलाफ छपी खबरों से एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान इतना नाराज हुए कि उन्होंने गुपचुप तरीके से रणनीति बनाकर बिल्डर अरुण सहलोत के ढेर सारे निर्माण कार्यों को डायनामाइट से उड़वा दिया और यह क्रम अभी जारी है. खैर, बात हम लोग लखनऊ की कर रहे थे.

सूत्रों के मुताबिक दैनिक जागरण, लखनऊ में मायावती सरकार के कामकाज पर छप रहे इन कालमों पर जब मायावती सरकार के लोगों की नजर गई तो उपर तक सूचना पहुंचा दी गई. फिर क्या था, सीधे संपादक संजय गुप्ता को माया सरकार की तरफ से फोन गया. सरकार की ओर से मिलने वाले लंबे-चौड़े विज्ञापन को बंद करने की धमकी दी गई. माया सरकार के निशाने पर रहा दैनिक जागरण प्रबंधन कतई नया पंगा लेने के मूड में नहीं था. फौरन इस कालम को बंद करने का आदेश दे दिया गया. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि मायावती सरकार के कामकाज की आलोचनात्मक समीक्षा वाले इस कालम के छापे जाने की शिकायत दैनिक जागरण, लखनऊ के ही एक वरिष्ठ पत्रकार ने मायावती सरकार के वरिष्ठ लोगों से की. उन्होंने ऐसा आंतरिक राजनीति के चलते किया और उन वरिष्ठ लोगों को सबक सिखाने के लिए किया जिन्होंने इस कालम की प्लानिंग व एक्जीक्यूशन का काम किया था.

यह तो सबको पता ही है कि दैनिक जागरण में आंतरिक राजनीति भयंकर होती है. कुछ कुछ उसी तरह की होती है जैसे मध्ययुग में राजा-रजवाड़ों के महलों में हुआ करती थी. कौन कब किसको किस तरह से निपटा देगा, किसी को कानोंकान खबर तक नहीं होती है. दैनिक जागरण, लखनऊ भी इन दिनों राजनीति का अखाड़ा बना हुआ है. यहां कई तरह के ग्रुप बने हुए हैं. स्थानीय संपादक का अलग ग्रुप है तो स्टेट हेड का अलग ग्रुप. नोएडा की एक लाबी का अलग ग्रुप है तो कानपुर वालों का अलग ग्रुप.

सरकार की धमकियों से झुकने की यह पहली घटना दैनिक जागरण के साथ नहीं हुई है. यह कई बार हो चुका है होता रहता है. पटना वाला प्रकरण बहुत पुराना नहीं है जब नीतीश कुमार दुबारा जीतकर सीएम बने तो उन्होंने दैनिक जागरण के एक पत्रकार के तबादले की मांग रख दी. उन पत्रकार महोदय की गलती यह थी कि उन्होंने नीतीश सरकार के कई कारनामों का खुलासा दैनिक जागरण में खबर के जरिए कर दिया था. उससे नाराज नीतीश ने पहले दैनिक जागरण का विज्ञापन रोका, जब उनसे प्रबंधन ने बात की तो ब्यूरो चीफ को पद से हटाने की मांग कर डाली. जागरण प्रबंधन ने ऐसा ही किया. जब वे दुबारा जीतकर आए तो नीतीश के मूड को देखते हुए दैनिक जागरण प्रबंधन ने उन पत्रकार महोदय का तबादला पटना से लखनऊ कर दिया. पता नहीं वे लखनऊ में हैं या छोड़ चुके हैं. पर उन्हें जीवन भर इस बात की पीड़ा रहेगी कि प्रबंधन ने मुश्किल वक्त में उनकी कलम का साथ नहीं दिया बल्कि अपने बिजनेस हित के लिए सरकार के चरणों में लोट गया.

अगर आपको भी बड़े अखबारों द्वारा सरकारों के चरणों में गिर पड़ने की कोई घटना याद हो तो हमें जरूर बताइए, नीचे कमेंट बाक्स के जरिए या फिर सीधे भड़ास4मीडिया को मेल This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it पर मेल करके.


AddThis