हिंदुस्तान में इनक्रीमेंट-प्रमोशन : कहीं धूप कहीं छाया

E-mail Print PDF

हिंदुस्तान में इन दिनों हर शख्स दूसरे की स्थिति जानने में लगा है. किसको कितना इनक्रीमेंट मिला और किसे प्रमोशन मिला, किसको नहीं. अलग अलग जगहों से अलग अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. जिन लोगों को पिछले साल प्रमोशन दिया गया था, उन्हें इस साल सिर्फ इनक्रीमेंट मिला है. पिछले साल जो लोग प्रमोशन से रह गए थे, उन्हें इस बार प्रमोट कर दिया गया है. देहरादून से मिली जानकारी के मुताबिक हिन्दुस्तान के कुमाऊं संस्करण में प्रबंधन ने केवल एक ही स्टाफर को प्रमोशन के योग्य समझा है.

कुमाऊं में तीन साल पहले अखबार की नींव रखकर टीम खड़ी करने में अहम भूमिका निभाने वाले जहांगीर राजू के कामों से खुश होकर प्रबंधन ने उन्हें सब एडिटर से प्रमोट कर सीनियर सब एडिटर बना दिया है. जहांगीर वर्तमान में अखबार में ऊधमसिंहनगर प्रभारी पद पर सेवाएं दे रहे हैं. जहांगीर 18 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं. वे अमर उजाला व दैनिक जागरण में भी कार्य कर चुके हैं. उधर, दिल्ली से खबर है कि हिंदुस्‍तान में इनक्रीमेंट और प्रमोशन से काफी लोग नाखुश हैं. 'हिंदुस्‍तान जॉब्‍स' लांच करने वालों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले लोगों को बड़े-बड़े ख्वाब दिखाए गए थे. लेकिन उन सभी लोगों को निराशा हाथ लगी है. पता चला है कि उनमें से प्रमुख व्यक्ति सुधांशु गुप्त जो पिछले 12-13 सालों से इस संस्थान से जुड़े हैं, वे भी प्रमोशन और इंक्रीमेंट से बहुत ज्यादा नाराज हैं.

आपकी यूनिट में क्या है प्रमोशन व इनक्रीमेंट का हाल, इसकी जानकारी नीचे दिए गए कमेंट बाक्स के जरिए दे सकते हैं. या फिर This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it पर मेल कर सकते हैं.


AddThis