चुपचाप लांच हुआ जागरण वालों का उर्दू अखबार 'इंकलाब'

E-mail Print PDF

दैनिक जागरण अखबार के जरिए एक दौर में उग्र हिंदूवाद को सपोर्ट करने वाले जागरण प्रबंधन ने अब मुस्लिमों के बीच बिजनेस करने के इरादे से उर्दू अखबार शुरू किया है. इंकलाब नामक ब्रांड को खरीदने के बाद जागरण प्रबंधन ने इसका लखनऊ संस्करण लांच कर दिया है. यह अखबार लखनऊ में बारह पेज का है और दो रुपये दाम में बिकेगा. वीकेंड में यह सोलह पेज का होगा. शुक्रवार और इतवार को सप्लीमेंट भी साथ रहेगा.

जागरण प्रबंधन ने साफ कर दिया है कि जो एडिटोरियल पालिसी जागरण की है, वही इंकलाब की भी रहेगी. ये सभी जानते हैं कि जागरण की एडिटोरियल पालिसी में हिंदुत्व को सपोर्ट करने की भावना रही है. ऐसे में देखना है कि इंकलाब के जरिए जागरण प्रबंधन मुसलमानों के बीच क्या मैसेज लेकर पहुंचता है. इंकलाब को बिहार और यूपी के कई शहरों में लांच करने की योजना है. इंकलाब के एडिटर शाहिद लतीफ हैं. नार्थ एडिशन के संपादक शकील शम्सी हैं.


AddThis