बुढ़ाते गए और चापलूसी की आदत बढ़ती गई, पढ़िए इनका लिखा...

E-mail Print PDF

: ट्रिब्यून, हिसार के पत्रकार ने पार की चापलूसी की हद : दैनिक ट्रिब्यून के हिसार के पत्रकार कमलेश भारतीय जो की बेशक रिटायर होने को हैं किन्तु राजनेताओ की चापलूसी आज भी हद दर्जे की करते हैं. 27 मई 2011 के अंक में छपी श्री भारतीय जी की रिपोर्ट पढ़ कर आप सर पकड़ लेंगे. इस रिपोर्ट में उन्होंने हिसार के सांसद भजनलाल उनके सहयोगी रामजीलाल व गुरमेश बिश्नोई की लम्बी दोस्ती के कसीदे पड़ते हुए उन्हें त्रिदेव तक लिखा डाला है.

आप बेशक भगवान ब्रह्मा,विष्णु, महेश को त्रिदेव मानते हों किन्तु इन भारतीय जी का न जाने इन राजनेताओ ने क्या भला किया कि इन्हें ये ही त्रिदेव व फेविकोल से मजबूत व क्रिकेट की जोड़ी से भी बड़े नजर आने लगे. भारतीय जी पत्रकारिता कर रहे हैं या रिटायरमेंट के बाद का जुगाड़, ये तो वही बेहतर जानते हैं किन्तु ट्रिब्यून का यह स्तर निश्चित रूप से निराशाजनक है. खबर की कटिंग साथ है, इसे आप भी पढ़ सकते हैं...


AddThis
Comments (6)Add Comment
...
written by ashok gupta, June 01, 2011
patarkarita kalankit ho gai hai ase jugari logon ke karan. jugad ka dusra nam hai kamlesh bhartiya. He is a mearly reporter not a gernalist.
...
written by sirf ek patrkaar, June 01, 2011
inka ye prem jab choutala ke saath hote hai to choutala ke liye bhajanlal ke saath baithe ho to bhjanlal ke liye aur mukhyamantri hooda se koi award lena ho ya parivaar ke sadasay ke liye sarkaari naukari leni ho to hooda ke liye aksar umadte dekha ja sakta hai. ye ekmaatr haryana ke aise patrkaar hai jo teeno ghur virodhiyo ki rasoi tak jaate hai.vah re patrkarita....ye to sirf aartinama hi likhna jaante hai.
...
written by kahaberchi, June 01, 2011
yar chaplusi ke saath inke to kathit press club ki pardhangi ke bhi kisse mashur hai, ab budha sher shikar to karega nahi, is bhajan pujari ko indian sallam
...
written by khushveer mothsara, June 01, 2011
pehele patarkarita ek mission thi jo bad main profession ban gai aur ajkal to pata nahi kya ho chuki hain. Neera radia se lekar Barkha dutt tak or na jane kitne patrkar is trah ke kam karte hain. ab bara hi muskil hota hain ise majburi kahein ya jugar. Bhartieye ji apni Patrkarita ke liye jane jate hain ise anatha na lein. Dhanyawad
...
written by deep, May 31, 2011
ismee galat kya hai yaswant ji ..jo aapko ye sab karna pada
...
written by आम, May 31, 2011
ऐसा तो सभी अखबार वाले करते हैं..

Write comment

busy