जागरण की बेसिर-पैर की खबर पर मौलाना ने आपत्ति जताई

E-mail Print PDF

दैनिक जागरण, वाराणसी में मुस्लिमों से संबंधित एक खबर के प्रकाशन के बाद विवाद उठ खड़ा हुआ है. मुस्लिमों में इस खबर के कारण आक्रोश है. दैनिक जागरण में विकास बागी के नाम से प्रकाशित खबर में एक आदमी की बातों को आधार बनाया गया है. खबर में दावा किया गया है कि लादेन की मौत पर पाकिस्तान में हुई शोकसभा का वाराणसी में लोकल केबल चैनल के जरिए प्रसारण किया जा रहा था.

इस खबर को एक वर्ग विशेष की आस्था पर प्रहार करने वाला और पीत पत्रकारिता बताते हुए शाही इमाम मौलाना हसीन अहमद ने दैनिक जागरण, वाराणसी के संपादक को पत्र लिखा है. जागरण में प्रकाशित मूल खबर और जागरण के संपादक को भेजा गया पत्र, दोनों को नीचे प्रकाशित किया जा रहा है. खबर पढ़कर समझ सकते हैं कि कैसे जागरण के रिपोर्टर ने बिना कोई मेहनत किए हुए, किसी एक शख्स की बातों पर यकीन कर उसी के आधार पर तीन कालम की बाइलाइन खबर बना दी और छापने वालों ने इसे छाप भी दिया..


AddThis
Comments (13)Add Comment
...
written by amitdubey, June 11, 2011
aap logo ka kahna bilkul sahi hai ki reporter ne bahut badi galti ki hai. kyuki yaha to laden k aur pakistani channel ke prasnsak bahut hai. wo roj hame ghar mein ghus k martey hai aur hum apni maa bahen ki mang ujadtey huy dekh k khus hote hai. meri samjh mein nahi aa raha ki laden ki maut ke prasharan ko lekar agar report aayi hai to itna hangama kyu. madni channel pakistani hai aur government ne sabhi pak channel pe ban laga rakha hai. jara apni aakenko ko khole warna abhi wey kasmir mein sanik marey ja rahe hai. yahi haal raha to hum b u he mar diye jayengey
...
written by khalid, June 06, 2011
आदणीय रिपोर्टर विकास को समाचार की गहराई में जाना चाहिये था,मिथ्‍या व आधारहीन समाचार देना ठीक नहीं है अब पाठक सजग है उसे सत्‍य तथ्‍य को परखना आता है, समाचार पत्र समाज का दर्पण होता है तो विकास जी को भी इस सत्‍य का समझना चाहिये।
मित्र राजन हिंदी देश की बिंदी है इस पर देश की प्रत्‍येक नागरिक का समान अधिकार है फिर आपको क्‍यो ऐसा प्रतित होता है कि कोई मौलाना शुद्ध हिंदी नहीं लिख सकता
...
written by rajnish misra, June 06, 2011
lagta hai ki dainik jagran is khabar se samajik sauhardra ko bigadne ki koshish kar rahe hai.
...
written by faraz anwar, June 06, 2011
waise is khabar ka maqsad kya hai. main ne bhi us din main bhi madani channel dekh raha tha mujhe to aisi koi bhi shok sabha prasit hoti huyi nahi dikhi.
...
written by anup chaurasia, June 06, 2011
aisi oot patang khabrein sirf dainik jagran mein hi dekhne ko milti hain jiska satyata se koi sambandh hi nahi.
...
written by zainul abedin, June 06, 2011
lagta hai ki Dainik Jagran ko Iliyas Kashmiri ka samarthan prapt hai ki aisi khabrein prakashit kar raha hai. is khabar ka in ke paas koi praman bhi hai ya nahi.
...
written by Ajay Kumar Gupta, June 06, 2011
Aisa lag raha hai ki kisi ne raat mein sapna dekha tha aur usko sach maan baitha.
...
written by ajay kumar tiwari, June 04, 2011
bagi bhai aapne sahi likha. bolne aur likhne ki takat sab mein nahi hoti. sach pachta nahi hai. yahi is khaber ke sath huaa hai. main team ko badhai deta hun ki sach likha. I will weating followup.
...
written by I khan, June 04, 2011
@Ranjan, aap kahna kya chahte ho?
...
written by kamlesh, June 04, 2011
lagta hai reporter ne bhand khakar khabar likhi hai
...
written by manzoor alam, June 04, 2011
dainik jagran ka is tarah se aafwah faila kar apani shakh ko chunauti di hai dainik jagranka rawaiya bin janche parkhe prakashit karna sampadak ki nishkriyata ko darshata hai
...
written by धीरेन्द्र, June 04, 2011
... कश्मीर और कलकत्ते से भी ऐसी ही खबरें सुनने को मिली थीं...
...
written by rajan singh, June 04, 2011
koi bhi maulaanaa itni shuddh hindi nhin likh sakta

Write comment

busy