बाप यूपी पुलिस में अफसर और मामा सपा के विधायक, फिर क्या, चलो खोल लेते हैं एक न्यूजपेपर

E-mail Print PDF

: लेकिन यहां वेतन पाने के लिए देना होगा विज्ञापन : संवाददाताओं को बना दिया जाता है ट्रेनी संवाददाता : वॉयस ऑफ मूवमेन्ट में संवाददाताओ के साथ धोखाधड़ी : लखनऊ से प्रकाशित होने जा रहे हिन्दी दैनिक समाचार पत्र वॉयस ऑफ मूवमेंन्ट लांच होने से पहले बंद होने की कगार पर आ गया है. इस संस्थान में संवाददाताओं को वेतन नहीं दिया जा रहा है.

दर्जनों अनुभवी संवाददाता इस कारण संस्थान छोडकर चले गये हैं. संवाददाताओ को दूसरे संस्थान से वेतन का लालच देकर बुलाया जाता है और कहा जाता है आप की नियुक्ति की सारी औपचारिकता पूरी की जाएगी. लेकिन जब संवाददाता अपना आफर लेटर मांगने जाते हैं तो उनको इनकमटैक्स की समस्या बताकर ऑफर लेटर देने से मना कर दिया जाता है व विज्ञापन के लिए दबाव बनाया जाता है कि विज्ञापन लाओगे, तभी वेतन दिया जाएगा. साथ ही संवाददाताओ की नियुक्ति करके ट्रेनी संवाददाता बनाया जाता है. महीनों काम कराने के बाद संवाददाताओ को यह कहकर बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है कि आप को काम का अनुभव नहीं है.

ऑफर लेटर बार बार मांगने पर इनकमटैक्स की समस्या बताकर ऑफर लेटर देने से मना कर दिया जाता है. इनकमटैक्स की समस्या इस लिए बतायी जाती है क्योंकि संस्था के मालिक के पास आमदनी का श्रोत एक रुपए भी नहीं है और तामझाम करोड़ों का बना रखा है. वेतन का अधिक दबाव बनाने पर अपने पिता व रिश्तेदारों का नाम लेकर कर कर्मचारियों पर हनक दिखायी जाती है. संस्था मालिक के पिता पुलिस विभाग में अधिकारी हैं और मामा सपा में विधायक हैं. मैं स्वयं संस्था का एक भुक्तभोगी हूं.

प्रदीप शुक्ला

लखनऊ

This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it


AddThis
Comments (9)Add Comment
...
written by dharmendra rastogi, June 10, 2011
band kar do newspaper
...
written by irfan shahid, June 07, 2011
bahut achcha hai, bhai, iski zarurat bhi thi........ Mera un sabse ye kehna hai ki shoshan se bache is media ki duniya me.
...
written by rakesh singh, June 07, 2011
aise logo ko maro joote char
...
written by alankarik sh, June 06, 2011
मारो सालों को....इन नालायकों से पत्रकार और पत्रकारिता दोनों को गंदा कर दिया है..इनके खिलाफ कम्प्लेन कर इनके बाप और मामा की औकात बता देनी चाहिए....साले पत्रकारों को क्या दलाल समझ रखा है...इन कुत्तों की वजह से अच्छे पत्रकार भी गलत नजरों से देखे जाते हैं
...
written by rakesh singh, June 06, 2011
rajdhhani me dalali karne k liye saikdo akhbaar chal rahe hai....
chirkuto ko sampadak bana diya aur khud ban gaye pradhaan sampadak..aur chal pade dalali karne....
is akhbaar me mai bhi naukari k liye gaya tha. shuru se hi aawajahi ka daur laga hua hai...akhbaar dekha to laga k lekh churaate ho to sabhaar to likh do.. aur ha prem kumar sagar ji ko badhai net se khabar uthakar byline le li.....
sampadkiya vibhaag me lag rahaa hai k bahut kabil log kaam kar rahe hai.. page ka lay out to gajab ka hai aur sampadkiya pege dekhkar to dil bag bag ho gaya...
lekh choro aur moordhanya patrakaaro ko mera salaam
aur ha sampadak ka to mai kayal ho gaya k itni galtiyo k bawjood akhbaar kaise chhapwa diya.
rakesh singh
swtantra ptrakaar
...
written by deepak singh, June 06, 2011
voice of movement ke mahaan sampadak ko sat-sat naman....
bhadas pe matter padhne k baad maine akhbaar dekha to laga koi mahaan aadmi akhbaar nikal rha hai. chori k lekh, galtiyo ki bharmar.. sampadak ka naam dekha to pata kiya kya hindustaan waale brijesh shukla honge. pata chala k kamal jyoti patrika ke stringer ko sampadak bana diya.........
aur ha pahle panne par chhape twarit tippni dekhkar mujhe pata chala ki 6 june ko bhi paryawaran diwas manaya jata hai..
akhbaar dekhkar laga k ek aur paise wala aadmi dalali karne k liye akhbaar chalane laga....
...
written by S L Panday, June 06, 2011
voice of movment me patrakar kon hai? Ek-do patrakar aye lekin chle gaye. bache hai to kevl dalal. sampadak bhi patrakar nahi hai. andrkhane ki seting se bne hai sampadk. begar karane me mahir hai. pradip tumhara dard shi hai. jb sampadk ko khabar ka matlab hi nahi malum to leed ko lekr pareshan kayo ho bhai. poora mamla hi kale dhan ka hai peapr to ek bhana hai.
jai ho aise sampadak aur akhbar ka
s l panday
...
written by K.D. Siddiqui, June 05, 2011
लखनऊ में एक अनपढ़ आदमी पांच अख़बार चला रहा है , जब की उसे यह नहीं पता की आज की लीड खबर क्या है, जनाब कहते है की साहब धीरे धीरे डी ए वी पी हो जायेगा बस अपना कारोबार चल जायेगा हमें क्या लेना किसी खबर से , ऐसे लोगों पत्रकारिता धज्जियाँ उड़न राखी है ( Address- seeta Press, Husain Ganj, Deep hotel ke saath , Lucknow)
...
written by shravan shukla, June 05, 2011
banned lagana chahiye//jaanch karke

Write comment

busy