रिटायर्ड फौजी को साढ़े तीन घंटे पहले ही मार डाला पत्रिका ने

E-mail Print PDF

राजस्थान के सर्वाधिक विश्‍वसनीय कहे जाने वाले समाचार पत्र राजस्थान पत्रिका में हाल ही में मुख्य पेज की लीड खबर थी,  'तीन पत्ती का खेल'. कोटा के जीआरपी थाना क्षेत्र में इंद्रगढ़ में घटित इस कांड में रेल में यात्रा कर रहे एक रिटायर्ड फौजी हनुमान विश्‍नोई का पाला तीन पत्ती गिरोह से हो गया। हनुमान ने तीन पत्ती गिरोह के सदस्य निज्जू खां के गोली मार दी। जिसमें उसकी मौत हो गई।

मौत के बाद निज्जू के साथियों ने हनुमान को दौड़ाना चालू किया। 7 किलोमीटर दूर हनुमान पकड़ में आया और उसको पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया। तकरीबन साढे़ तीन बजे उसे कोटा अस्पताल लाया गया,  जहां 7 बजे के लगभग उसकी मौत हो गई। यानी की अस्पताल आने के साढे़ तीन घंटे बाद मरा हनुमान। पत्रिका कोटा शहर में प्रकाशित पत्र की सब हेडिंग में ही दिया था, अस्‍पताल पहुंचने से पहले ही हनुमान की मौत हो गई। क्‍या ऐसे विश्‍वसनीयता के दम पर ही सर्वाधिक विश्‍वसनीय अखबार का दावा कर पाएगा पत्रिका।

शैलेष दीक्षित

This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by hitkari, June 17, 2011
dixit ji aap reporting karte hai ya ghaans katte hai...........aapko ye hi conferm nahi hai ki hanumanaram ki mout kab hue thi....mahaashay raastey me hi uski mout ho chuki thi.........or dusri baat police adhikario ka pallu chodo or asli patrkaar bano, police wale jo kahte hai vahi sach nahi hota
...
written by RAJ ANANT PANDEY, June 17, 2011
Is samay News Reporters ke grah nakshtra theek nahi hai. wase news reporter ke ab kam badal gaye hai. Vishwasniyata nam ki koi chij nahi rah gaya hai.Pathak Bhi ab khabar ko challenge karne laga hai.
...
written by चमन शर्मा,संवाददाता,राजस्थान पत्रिका,अलीगढ.मो-९६२७७१७१७१, June 16, 2011
यह मानविय भूल है,पत्रिका क कोई गलती नही
...
written by Manish singh, June 16, 2011
in sab ka karan hai kukurmutte ki bhanti phail rahi news channel aur samachar patrikaye.... Apne aapko sabse aage aur viswasniye banane k hor me kuchh s kuchh khabar chhap dete hain... ab to public bhi samajhdar ho gayi hai.

Write comment

busy