और आगे बढ़ा देश का नम्‍बर 2 अखबार

E-mail Print PDF

2011 की पहली तिमाही के इंडियन रीडरशिप सर्वे (आईआरएस) के ताजा नतीजों के मुताबिक हिन्दुस्तान ने दैनिक भास्कर पर बढ़त और बढ़ा ली है। साथ ही हिन्दुस्तान ने देश के प्रमुख अखबारों में नंबर दो के पायदान पर अपनी स्थिति और मजबूत कर ली है। दैनिक भास्कर के कुल 3.34 करोड़ पाठकों के मुकाबले हिन्दुस्तान की कुल पाठक संख्या 3.66 करोड़ दर्ज की गई है।  2010 की चौथी तिमाही के बाद से हिन्दुस्तान ने 14 लाख और पाठक जोड़े हैं।

हिन्दुस्तान की पाठक संख्या में वृद्धि का सिलसिला आईआरएस के पिछले 8 दौर से जारी है। पिछले एक वर्ष में हिन्दुस्तान ने 72 लाख नए पाठक जोड़ते हुए देश के सबसे तेजी से बढ़ते अखबार का रुतबा बनाए रखा। हिन्दुस्तान की इस बढ़त का केंद्र रहा यूपी जहां इसे पिछले एक वर्ष के दौरान 49 लाख नए पाठकों ने अपनाया। यूपी में 1.37 करोड़ पाठकों के साथ हिन्दुस्तान के पाठक परिवार की हिस्सेदारी 32 प्रतिशत है।

बिहार हिन्दुस्तान का गढ़ है और यहां इसका परचम अब भी पूरी शान से लहरा रहा है। यह वह सूबा है जहां 84 प्रतिशत पाठकों के हाथ में हिन्दुस्तान है। पिछले एक वर्ष के दौरान इस राज्य के 9 लाख और पाठकों ने हिन्दुस्तान को अपनाया है। झारखंड में पिछले एक वर्ष में 11 लाख नए पाठक हिन्दुस्तान से जुड़े। यहां 50 लाख से ज्यादा पाठकों वाला यह अकेला दैनिक है।

संस्करण की औसत पाठक संख्या (एआईआर) में के लिहाज से भी हिन्दुस्तान देश का सबसे तेजी से बढ़ता अखबार है। हिन्दुस्तान का एआईआर 1.18 करोड़ है, यह संख्या पिछले साल के 19 लाख पाठकों के अतिरिक्त है। एचएमवीएल के सीईओ अमित चोपड़ा ने कहा, 'एक खास रणनीति ने हिन्दुस्तान को सबसे तेजी से बढ़ता अखबार बनाया है और हमें यकीन है कि यह रफ्तार आगे भी बनाए रखेंगे।'

हिन्दुस्तान के प्रधान संपादक शशि शेखर के मुताबिक, 'पाठक संख्या में शानदार बढ़त की यह कहानी नए विचारों, डिजाइन और सामग्री के मोर्चे पर अथक मेहनत से लिखी गई है। मुझे भरोसा है यह दौर जारी रहेगा।'

यह खबर हिंदुस्‍तान ने अपने प्रथम पेज पर प्रकाशित किया है.


AddThis