टीओआई, पटना कार्यालय पर प्रबंधन ने ताला जड़ा

E-mail Print PDF

टाइम्‍स ऑफ इंडिया, पटना ने अपने प्रिंटिंग प्रेस पर ताला लगा दिया है. प्रेस पर इसे बंद किए जाने की नोटिस भी चिपका दी गई है. कंपनी ने अपने कर्मचारियों को रिलीविंग आर्डर भी जारी कर दिया है. कंपनी ने यह कदम तब उठाया है, जब टाइम्‍स ऑफ इंडिया इम्‍प्‍लायी यूनियन की ओर से कोर्ट में दायर मुकदमा पर अक्‍टूबर में निर्णय आने वाला है.

टाइम्‍स प्रबंधन ने शनिवार की दोपहर प्रेस बंद करने के एलान के साथ ताला लगा दिया और सूचना चिपका दिया. 15 जुलाई की तारीख से कर्मचारियों को रिलीविंग आर्डर भी पकड़ाया जाने लगा है. गौरतलब है कि टीओआई के कर्मचारी यूनियन ने कोर्ट में वेतन भत्‍ता को लेकर मुकदमा भी कायम कर रखा है. पहले इस मामले में 21 फरवरी को 2011 को फैसला आना था, परन्‍तु बाद में कोर्ट ने इसे बढ़ाकर 31 अक्‍टूबर कर दिया था.

प्रेस बंद करने से कर्मचारियों में नाराजगी है. उनका कहना है कि फैसला आने के पहले ही प्रेस बंद करने प्रबंधन ने कानून का उल्‍लंघन किया है. कर्मचारियों का कहना है कि किसी भी इकाई को बंद करने से पहले राज्‍य सरकार की अनुमति ली जाती है परन्‍तु टीओआई प्रबंधन ने राज्‍य सरकार से अनुमति लिए बिना ही प्रेस बंद करने का फैसला ले लिया. उन्‍होंने कहा कि टाइम्‍स प्रबंधन ने इसके पहले भी इसी तरह नवभारत टाइम्‍स, पटना बंद करने का निर्णय ले लिया था. जिसे लेबर कोर्ट ने गैर कानूनी करार दिया था.


AddThis