राष्‍ट्रीय सहारा उर्दू ने चुराई इंकलाब की खबर

E-mail Print PDF

लखनऊ से प्रकाशित होने वाला राष्‍ट्रीय सहारा का उर्दू अखबार अब खबरों की चोरी पर उतर आया है वो भी बेशर्मी के साथ. सहारा उर्दू ने खबर का इनपुट नहीं बल्कि पूरी खबर ही चोरी कर ली है. लखनऊ से प्रकाशित हो रहे जागरण ग्रुप के उर्दू अखबार इंकलाब ने 17 जुलाई को सिटी एडिशन में पेज नम्‍बर तीन पर यूपी उर्दू राबि‍ता कमेटी के प्रोग्राम की खबर छापी थी. इस दिन यह खबर सहारा अखबार में प्रकाशित नहीं हुई.

सहारा ने अगले दिन यानी 18 जुलाई को पेज नम्‍बर तीन पर इंकलाब में छपी इसी खबर को कॉपी करके प्रकाशित कर दिया. यहां तक कि उसने इंकलाब में छपे खबर की हेडिंग भी बदलने की जरूरत नहीं समझी. राष्‍ट्रीय सहारा ने इस खबर में एडिशनल काम इतना किया कि एक फोटो लगा दिया. और बेशर्मी दिखाते हुए उसने इस खबर की क्रेडिट सहारा न्‍यूज ब्‍यूरो यानी एसएनबी प्रकाशित कर दिया. आप भी सहारा उर्दू में छपी नकल की गई खबर को देख सकते हैं.

इंकलाब


AddThis
Comments (8)Add Comment
...
written by shaukat ali, November 26, 2011
hi,sayad inqlab walon ne hi sahara ki khabar chori ki hogi.sahara ka muqabla inqalab se to hai hi nhi.sahara urdu sahara urdu hai.inqlab ki khabar to bakwas hoti hai....meri bat se kuchh logon ko preshani ho sakati hai.
...
written by shaukat ali, November 26, 2011
hi, sayad inqlab walo ne sahara ki khabar chori ki ho..........how to prove that?
...
written by Ram naresh sahu, July 20, 2011
inquilab urdu Luckhnow main eka reporter jo urdu ka alif be nahe janta hai, us ka nam Hasn Ebrahim hai
...
written by KUMAR KALPIT, July 19, 2011
sahara ke liye yah kai baat nhee hai apne akhbar me hi ye ek hee samachar ko 2-2 bar laga dete hai. sayad ye pathko ki behad mang par karte hai.smilies/grin.gif
...
written by Kumar, July 19, 2011
shamsi saheb ko andar ki baat pata hogi ....ho sakta hai inquilab ko surkhiyo me laane ke liye unhone hi koi game khela ho kisi purane sahara urdu ke reporter ua intern se mil kar...
kyuonki khabar ko source se utha kar change kar ke dubara chaapne ki kala to shamsi saheb ko bhi bakhubi aati hai
...
written by ahmad siddiqu, July 19, 2011
inquilab urdu bhi doosray akhbarat say news mangwa ker apnay akhbar main chaap raha hai. mumbai ka yeh akhbar lucknow main fail hoagaya
...
written by gufran ahmad, July 19, 2011
sahara wale purane chor hai kisi bhi khabar ko (snb) kar lete hai
...
written by कुमार सौवीर, लखनऊ, July 19, 2011
नहीं भैया,
आप एकांगी खबर क्‍यों छापते हैं।
मेन हेडिंग को कलर में लेकर खबर को सेक्‍सी भी बनाने की कोशिश हुई है।
फ्लैश को भी हटा दिया है ताकि मामला चोरी का न लगे। इसे ही तो कहते हैं एडींटिंग।
मैं तो दाद देता हूं चोरी के इस अनोखे अंदाज की। कितनी खूबसूरती से पेश किया है बासी समोसा, ताजा चाय के साथ।
कुमार सौवीर, लखनऊ

Write comment

busy