दस दिन पुरानी खबर को हिंदुस्‍तान ने लीड बना दी

E-mail Print PDF

छोटे-बड़े अखबारों में छोटी-मोटी गल्तियां होना कोई आश्‍चर्य या अजूबे की बात नहीं है,  परन्‍तु किसी बड़े अखबार की दस दिन पुरानी खबर किसी दूसरे अखबार लीड बन जाए तो इसे गलती माना जाए,  लापरवाही या फिर चोरी माना जाए। इसकी एक बानगी देखिए- वर्ल्ड मेयर्स नाम की एक संस्था ने सर्वे किया था। जिसके 100 शहरों की सूची में भारत के लगभग एक चौथाई शहर थे। राजस्थान पत्रिका ने ऑल एडिशन खबर अपने 21 जुलाई के अंक में प्रकाशित की थी।

उसी खबर को तोड़-मरोड़कर दिल्ली के हिन्दुस्तान अखबार ने लीड बना दी। और वह भी 1 अगस्त के अखबार में। इसे क्या कहेंगे, आप खुद ही समझें। हम तो बस देख ही रहे हैं- बदल गया है हिन्दुस्तान...। नीचे दोनों अखबारों की कटिंग हैं - जिस में आप दोनों खबरों को पढ़ सकते हैं-

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis