दिल्‍ली में स्‍वयं प्रकाश करा रहे इलाज, बिहार में हिंदुस्‍तान से जुड़ने की अफवाह

E-mail Print PDF

वरिष्‍ठ पत्रकार एवं प्रभात खबर, पटना के संपादक स्‍वयं प्रकाश को लेकर पूरे बिहार में कानाफूसी चल रही है. उनके हिंदुस्‍तान के साथ जुड़ने की खबर पूरे बिहार में एक कान से दूसरे कान तक पहुंच रही है. हर कोई इस खबर की सच्‍चाई जानने की कोशिश कर रहा है. कारण है उनका दिल्‍ली में पिछले कुछ दिनों से चल रहा प्रवास. पर सच यह है कि वो दिल्‍ली में अपना इलाज करा रहे हैं.

प्रभात खबर आज बिहार में सभी प्रतिद्वंद्वी अखबारों को कड़ी टक्‍कर दे रहा है तो उसके पीछे कारण हैं स्‍वयं प्रकाश, जो प्रधान संपादक हरिवंश के निर्देशन एवं नेतृत्‍व में दिन-रात एक करके अखबार को आम लोगों का संवाद पत्र बनाया. इस दौरान उन्‍होंने एक दिन की छुट्टी नहीं ली, परन्‍तु वो पिछले कई दिनों से पटना से बाहर दिल्‍ली में जमे हुए हैं तो उनके चाहने और न चाहने वालों को हैरत तो होनी ही है. बिहार में स्‍वयं प्रकाश को लेकर अफवाह और चर्चाओं का दौर चल रहा है. भड़ास को भी लगातार उनके हिंदुस्‍तान से जुड़ने, प्रधान संपादक शशि शेखर से मिलने की खबरें दी जाती रहीं. इन चर्चाओं को इसलिए भी बल मिला कि बिहार का नम्‍बर एक अखबार जिस तरह की विषम परिस्थितियों से गुजर रहा है तथा प्रभात खबर जिस तेजी से उसे टक्‍कर दे रहा है, उसमें स्‍वयं प्रकाश उसके लिए एक मजबूत कड़ी साबित हो सकते हैं.

भड़ास ने जब इस खबर की पुष्टि अपने स्‍तर से करने की कोशिश शुरू की तो पता लगा कि स्‍वयं प्रकाश दिल्‍ली के एक अस्‍पताल में अपने रीढ़ की हड्डी की तकलीफ का इलाज करा रहे हैं. उन्‍हें डाक्‍टर ने पर्याप्‍त बेड रेस्‍ट की सलाह दी है. डाक्‍टरों का मानना है कि लगातार कई घंटे बैठकर काम करने के चलते उन्‍हें यह परेशानी आई है. उनके सेहत की जानकारी लेने उनके प्रधान संपादक हरिवंश भी आ चुके हैं. इस संदर्भ में जब स्‍वयं प्रकाश से बात की गई तो उन्‍हें इसे अफवाह बताते हुए कहा कि उनके दिल्‍ली में रहने के चलते इस तरह की चर्चाएं उठ रही हैं, परन्‍तु अभी वे इतने अनैतिक नहीं हैं कि प्रभात खबर और हरिवंश जी को छोड़ दें. उन्‍होंने कहा कि उनका सपना प्रभात खबर को बिहार में नम्‍बर एक पर पहुंचाना है उसके बाद कुछ सोचा जाएगा. हिंदुस्‍तान से जुड़ने जैसी खबरें बिल्‍कुल गलत हैं.


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by abhinav singh, August 13, 2011
punit apna mental label shi karo. uske bad kisi ko aaropit karo. media me panditwad hota hai na ki rajputwad. sabhi media house me mathadhish baan kar kauon baitha hai. isper aapni nazar ghumon.
...
written by abhinav singh, August 13, 2011
punit, swayamprakash rajputwad kar rahe hai to thumari kyo phat rahi hai. media me sirf brahaman wad hi jinda rahega kya. rajput kahi bhi job me hai to yeh uski kabiliyat hai.prabhat khabar me brahaman lala yadav sahit sabhi cast ke log work kr rahe hai hai. lagta hai swayam prakash ne tumhe bhar ka rasta dikhaya hai isley tum derailayed ho kar harivansh je aur swayam prakash ke bare me ulta pulta comment kar rahe ho. apna mental label sahi karo.''A littel Knowledge is dangerous think.'' tum is dunia me tika tipne karne ke liye aaye ho aapna kam karo.
Regards
N.K.Singh.
...
written by neelkanth, August 12, 2011
पुनीत जी, हिम्मत है तो सामने आयें! आपने जिन-जिन लोगों की वकालत की है, उनकी कहानी सुनाता हूँ आपको ! पहले नरेद्र अनिकेत के बारे में ! वह सबएडिटर बनने के भी योग्य नहीं था, हरिवंश जी ने गलती की, उसे संपादक बना दिया ! क्यों हटाया गया उसे, बताऊँ! वह रोज शराब पीकर आते थे ! ऑफिस में मारपीट करते थे! वसूली में शीर्ष पर! घर का चावल ख़त्म, तो रिपोर्टर को हटा देते थे! यह है उनकी हकीकत ! प्रणव दत्त पांडे के बारे में भी बताता हूँ! रांची में इन्टरनेट पर ब्लू फिल्म देखते पकडे गए थे, उन्हें वह के संपादक ने निकाल दिया था! अनिकेत से करीबी के कारण फिर चले आये! बड़ी लम्बी कहानी है इन लोगों की! बबन रांची से क्यों भगाए गए, पता कर ले! इन तीनो के बारे में अच्छी तरह पता कर ले, जो आदमी अखबार का पेज प्रोफाइल नहीं बना सकता, वह अखबार कैसे निकाल सकता?
जहा तक स्वयंप्रकाश की बात है, तो प्रभात खबर को आगे बढ़ाने में उसने क्या किया, यह आप लोग नहीं जान सकते! अनर्गल आरोप न लगायें! उसे पैसा ही कमाना रहता, तो प्रभात खबर क्यों आता?
...
written by punit, August 11, 2011
yashwant ji
apki jankari adhi adhuri hai. lagta hai swayam prakash ne apko bhi set kar liya hai. bihar me swayam prakash mahaj patna ke resident editor hain, bihar ke state editor nahi. bihar me sabse pahle pk muzaffarpur me launch hua tha, tab vahan ke resident editor narendra aniket ko banaya gaya tha. safalata ki kahani muzaffarpur se shuru hoti hai. patna me sabhi tarah ke inam bat kar bhi pk kisi no race me nahi hai. bihar me muzaffarpur me sabse pahle pk ne hindustan ko chot di. apko pata hona chahia ki is safalata ke piche narendra aniket, pranaw dutta pandey, babban singh or thora bahut hemant ka yogdan hai. swayam prakash kewal tikrami or zilon se paise vasoolnewala tikrami hai. harivans ji bhi apne antim daur me dhristra ho gaye hai. unko rajya sabha me jana hai. swayamprakash bihar se pairavi or bureau offices ke madhyam se har mah lakhon ki vasooli kar rahe hain. manajement ke pas ubki darjanon shikayaten hai. is par karwai karte hua management ne uska istifa liya hai. ho sakta hai ki delhi me swayamprakash apna ilaj kara raha ho, per vah vahan naukari khoj raha hai. usne jo pap pk me rah kar kiya hai or harivans ji se jo pap karayen hai, uska khamiyaja to use bhugatana hi parega. ap chahe lakh uska sath de, per sach yahi hai ki swayam prakash ko bihar-jharkhand me re ki naukari nahi milegi. hindustam me to uska ghusana mumkin nahi hai, jagran me uski bat muskil hai, kyonki isne jo ghor rajputwad kiya hai, ek puri lobi uske khilaf khari ho chuki hai. bhaskar me use naukari milni nahi hai, kyonki bhaskar wale uski kabiliyat udaipur me dekh chuke hai. patna bhaskar me uski naukari nahi hai. swayam prakash ko kishi aag ka gola ya phit dharakta times jaise akhbar me naukari khojni chahiye. aj swayam prakash sadak per hai. uska istifa ho chuka hai. uska contract bhi june me khatam ho gaya tha. usne to apne sath harivans ji ki bhi mitti palid kar di. muzaffarpur ki safalata ke bad bhagalpur me safal hua pk, vahan iska shreya rajendra tiwari ji ko jata hai. patna shahar me abhi bhi pk ka sarkulation 50 hazar ke aas-pas hai. muz me 75-80 hazar or bhagalpur me bhi kewal sahar me hi pk ne hindustan ko pita hai. rural me hindustan kafi uper hai. ap kahan se suchnayen late hai, pata nahi. yashwant ji swayam prakash jaise changu-mangu ke liye apni or bhadas ki sakh ko nuksan na pahuchayen. ho sakta hai ki iski kuch baten apko bui lage, per sach yahi hai.mujhe intajar rahega ki ap ise apni site per late hai ya nahi.

Write comment

busy