पत्रिका, इंदौर की स्थिति खराब, कई पत्रकारों ने किया नमस्‍कार

E-mail Print PDF

पत्रिका, इंदौर में परिस्थितियां इतनी खराब हो गई हैं कि अब यहां काम करने वालों का विश्‍वास उठने लगा है. पिछले कुछ समय में करीब एक दर्जन लोग पत्रिका से इस्‍तीफा देकर इससे छोटे ग्रुप दबंग दुनिया में कम सेलरी पर जा चुके हैं. अच्‍छे पत्रकारों की कमी का असर अखबार पर भी दिखने लगा है. यहां न्‍यूज एडिटर रहे अरविंद तिवारी भी टीओआई चले गए.

पिछले कुछ दिनों में लगभग दस लोग पत्रिका छोड़कर दबंग दुनिया के साथ जुड़ गए हैं. दबंग दुनिया जाने वाले सभी भास्‍कर से यहां आए थे. यहां का मैनेजमेंट और एडिटोरियल हेड की मनमर्जी और चाटूकारों की फौज ने सब गुड़गोबर कर दिया है. अभी सबसे बड़ी खबर है भास्‍कर से यहां न्‍यूज एडिटर बनाकर लाए गए अरविंद तिवारी के पत्रिका छोड़ने की. संपादक ने अरविंद तिवारी को लाकर यहां बेकार कर दिया था, उनके जिम्‍मे कोई काम नहीं था. इसी कारण वो पत्रिका छोड़कर टाइम्‍स ऑफ इंडिया चले गए.

अभी तक जिन बड़े पत्रकारों ने पत्रिका को बाय किया है, उसमें अरविंद तिवारी,  विनोद शर्मा,  गौरीशंकर दुबे, कपिल भटनागर, प्रमोद जैन, प्रदीप जोशी शामिल हैं. अरविंद तिवारी को छोड़कर सभी ने दबंग दुनिया ज्‍वाइन किया है. इसके अतिरिक्‍त मार्केटिंग और दूसरे विभागों से भी कई लोग दबंग दुनिया ज्‍वाइन किया, जिसमें धीरज शर्मा, अविजित चंद्रोकर शामिल हैं. ये दोनों मार्केटिंग में वरिष्‍ठ पदों पर थे. अगर कोठारी जी से ध्‍यान नहीं दिया तो इस एडिशन का बेड़ा गर्क होते टाइम नहीं लगेगा.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis