प्रभात खबर, भागलपुर के संपादक का तबादला नहीं, उन्हें निकाला गया

E-mail Print PDF

भड़ास पर प्रभात खबर भागलपुर के बारे में जो भी खबर आई है वो सत्य से परे है. मैं भी प्रभात खबर भागलपुर की लांचिंग के समय के साथ इससे जुड़ा हूँ. भागलपुर के संपादक चन्दन शर्मा ने यहाँ का माहौल अत्यंत खराब कर रखा था. उनके कार्यकाल में काम कम, राजनीति ज्यादा होती थी. समाचार पत्र में खबरों को लेकर कोई प्लानिंग नहीं होती थी. एक दूसरे को आपस में लड़ाने में ही संपादक व्यस्त रहते थे.

पिछले कुछ दिनों से कार्यालय का माहौल खराब होता जा रहा था. जिन लोगों को राजेन्द्र तिवारी जी ने नियुक्त किया था, उन्हें वह देखना भी नहीं चाहते थे. जब भी कोई सहयोगी उनसे किसी खबर पर चर्चा करना चाहता था तो स्वयं को हरवंश जी का सबसे खास आदमी बताते हुए उसे यही कहते कि कुछ दिन ऐसे ही चलने दें, बहुत सुधार की चिंता ना करें, जल्द ही मैं तिवारी जी के लोगों की छुट्टी करा दूँगा. उसके बाद अपनी मर्ज़ी से अखबार चलाया जायेगा.

श्री तिवारी जी द्वारा नियुक्त डेस्क के एक स्टाफ को तो वह अपने केबिन में देखना भी नहीं चाहते थे. जब भी वो पेज चेक कराने जाते, गेट से उन्हें लौटा देते थे. उनकी हरकतों से कार्यालय में कई बार मारपीट की भी नौबत आ चुकी थी. उनकी हरकतों को देखते हुए प्रबंधन ने उन्हें पांच सितंबर को फोर्सली छुट्टी पर भेजा था. उसके बाद एचआर हेड अंजन शर्मा जी रांची से स्वयं भागलपुर कार्यालय के संपादकीय विभाग की जांच के लिए आये थे. यहाँ सभी ने एचआर हेड से यही कहा कि चन्दन शर्मा के रहते कार्यालय का माहौल कभी सुधर नहीं सकता.

एचआर हेड की रिपोर्ट के बाद चन्दन शर्मा से संस्थान ने इस्तीफा मांग लिया. ऐसे ही समाचार संपादक अजीत सिंह के इस्तीफ़ा की खबर भी गलत है. वह अभी भी कार्यालय में काम कर रहे हैं. हालाँकि अजीत सिंह का परिवार भोपाल में है, और वह स्वयं भोपाल जाना चाहते हैं, मगर इसके लिए वह प्रबंधन द्वारा कोई दूसरी व्यवस्था कर दिए जाने का इन्तज़ार कर रहे हैं. सिटी चीफ प्रसन्न सिंह से इस्तीफा लिया गया है, मगर उनके हिंदुस्तान से जुड़ने की खबर गलत है. इसी प्रकार जिस सफ़दर मोमिन कि बात की गयी है, वह यहाँ ट्रेनी के रूप में थे, सफदर लखनऊ के रहने वाले हैं और वह जुलाई में ही यहाँ से जा चुके हैं.

फिलहाल चन्दन शर्मा को हटाये जाने के बाद संस्थान में सभी बहुत खुश हैं. चन्दन शर्मा अब लोगों को भड़काने के लिए भड़ास पर गलत जानकारी दे रहे हैं, मगर उनकी बातों में कोई आने वाला नहीं. आपसे आग्रह है कि अपने साईट की विश्वसनीयता को देखते हुए आप हमारी बात को भी अपनी साईट पर जगह देंगे. आपसे आग्रह है कि यदि संभव हो तो मेरा नाम गोपनीय रखें. आपका आभारी रहूँगा .

प्रभात खबर, भागलपुर में कार्यरत एक पत्रकार द्वारा भेजे गए मेल पर आधारित


AddThis