हिंदी के टॉप टेन अखबारों में कोई बदलाव नहीं, जागरण फिर अव्‍वल

E-mail Print PDF

: आईआरएस 2011 की दूसरी तिमाही के आंकड़े जारी : आईआरएस 2011 की दूसरी तिमाही के आंकड़े आ गए हैं. हिंदी के टॉप टेन अखबारों में कोई बदलाव नहीं हुआ है. जागरण इस बार भी नम्‍बर एक पर बना हुआ है. टॉप टेन में राजस्‍थान पत्रिका, पंजाब केसरी तथा नई दुनिया को पाठकों का नुकसान उठाना पड़ा है, परन्‍तु इससे किसी के रैंकिंग में कोई बदलाव नहीं हुआ है. शेष अन्‍य अखबारों के पाठक संख्‍या में अच्‍छी खासी बढ़ोत्‍तरी देखने को मिली है.

दूसरी तिमाही में जागरण 1 करोड़ 63 लाख 93 हजार पाठकों के साथ नम्‍बर एक पायदान पर मौजूद है. पिछली तिमाही में जागरण की पाठक संख्‍या 1 करोड़ 59 लाख 10 हजार थी. दैनिक भास्‍कर भी पिछली तिमाही के पाठक संख्‍या 1 करोड़ 40 लाख 16 हजार से बढ़ाकर 1 करोड़ 41 लाख 74 हजार करके मजबूती से दूसरे नम्‍बर पर काबिज है. तीसरे नम्‍बर पर हिंदुस्‍तान मौजूद है, जिसने अपनी पाठक 1 करोड़ 19 लाख 85 हजार तक पहुंचा दी है. पिछली तिमाही में इसके आंकड़े 1 करोड़ 18 लाख 10 हजार थी.

चौथे पायदान पर इस बार भी अमर उजाला मौजूद है. इसने भी अपनी पाठक संख्‍या 87 लाख 47 हजार से बढ़ाकर 88 लाख 91 हजार तक पहुंचा दी है. पांचवे नम्‍बर पर मौजूद राजस्‍थान पत्रिका को इस बार झटका लगा है. पत्रिका की पाठक संख्‍या 70 लाख 33 हजार से घटकर 69 लाख 41 हजार रह गई है. पहली तिमाही में भी पत्रिका ने अपने पाठक गंवाए थे. छठवें स्‍थान पर 34 लाख 14 हजार पाठकों के साथ पंजाब केसरी ने अपनी पकड़ मजबूत की है. नवभारत टाइम्‍स 26 लाख 50 हजार पाठकों के साथ सातवें स्‍थान पर मौजूद है. प्रभात खबर 18 लाख 93 हजार पाठकों के साथ आठवें स्‍थान पर अपना कब्‍जा बरकरार रखा है. नौवे स्‍थान पर 17 लाख 14 हजार पाठकों के साथ नई दुनिया तथा दसवें नम्‍बर पर 14 लाख 37 हजार पाठकों के साथ हरिभूमि ने अपनी पकड़ मजबूत की है. स्रोत आईआरएस


AddThis