अखबार मालिक से नहीं पटी तो असली प्रसार संख्या का कर दिया खुलासा

Print

एक व्यवसायी प्रवीण गुप्ता द्वारा चलाए जा रहे गंगापुत्रा टाइम्स अखबार के एक कर्मचारी ने मालिक से विवाद होने पर समाचार पत्र की असली प्रसार संख्या को ई-मेल द्वारा पूरे हरियाणा, चण्डीगढ़ व दिल्ली के पत्रकारों, एड एजेन्सियों तथा सम्बंधित विभाग के अधिकारियों को भेज दिया। घटना 8 सितम्बर 2011 की है। इसके बाद से हड़कम्‍प मचा हुआ है।

बताया जा रहा है कि जीन्द के एक व्यवसायी प्रवीण गुप्ता ने गंगापुत्रा टाइम्स नाम से समाचार पत्र निकाला तथा अशोक छाबड़ा नामक एक युवक के साथ मिलकर डीएवीपी, दिल्ली के अधिकारियों को तरह-तरह से पटाकर 70000 से भी ज्यादा कापियों की प्रसार संख्या दिखाकर अखबार की मान्यता ले ली। इस मान्यता को दिखाकर प्रवीण गुप्ता ने सरकार के अधिकारियों पर रौब झाड़ना शुरू कर दिया तथा हरियाणा के लोक सम्पर्क विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को पटाकर भारी भरकम विज्ञापन लेने शुरू कर दिए। इस लूट में प्रवीण गुप्ता ने अपने भाइयों को भी शामिल कर लिया।

बताया जा रहा है कि अखबार में काम करने वाले अशोक छाबड़ा की मालिक से किसी बात पर विवाद हो गया। अशोक छाबड़ा ने 8 सितम्बर 2011 की रात को अखबार की ई-मेल आई डी से अखबार की 70000 से भी ज्यादा प्रसार संख्या को झूठा साबित कर असली प्रसार संख्या को ई-मेल पर डाल दिया, जो कि वास्तव में नोएडा में स्थित विभा प्रेस को रोजाना भेजी जाती है। इस प्रसार संख्या में मात्र 2400 कापियों को आर्डर प्रेस को दिया गया दिखाया है। इसके साथ-साथ हरियाणा की मात्र कुछ एजेन्सियों के लेबल भी डाले गए हैं, जो वास्तविक प्रसार संख्या को तथा मालिकों द्वारा हरियाणा, चण्डीगढ़, दिल्ली, उत्‍तराखंड में अखबार के प्रसार के किए गए दावों को झुठलाता है।


AddThis