हिंदुस्‍तान : रायबरेली के पत्रकार हड़ताल पर, सर्वेश को औरैया भेजा गया

E-mail Print PDF

हिंदुस्‍तान के वरिष्‍ठ लोग अपने यूनिटों में एक रोग का इलाज कर रहे हैं, तभी दूसरा रोग निकलकर सामने आ जा रहा है. कानपुर यूनिट को लेकर परेशान आला हाकिम इस यूनिट से जुड़े जिलों के दौरों पर हैं. हिंदुस्‍तान के कार्यकारी संपादक नवीन जोशी भी कानपुर में चार दिनों से कैंप करके समाचार संपादक अंशुमान तिवारी की जमकर क्‍लास ले रहे हैं, पर उनके लखनऊ यूनिट से जुड़े रायबरेली जिले में ही बवाल खड़ा हो गया है.

रायबरेली जिले में तो कांग्रेस का रागदरबारी गा रहे सभी अखबारों के पत्रकारों का हाल तो लोग जानते ही हैं, पर हिंदुस्‍तान का हाल इससे भी ज्‍यादा बुरा हो गया है. ब्‍यूरोचीफ अखिलेश ठाकुर के रवैये से नाराज उनके सहकर्मियों ने तीन दिन की सामूहिक अवकाश ले लिया है. उन्‍होंने स्‍थानीय संपादक नवीन जोशी से शिकायत करके ब्‍यूरोचीफ अखिलेश ठाकुर द्वारा किए जा रहे उत्‍पीड़न के जांच की मांग की है. कर्मचारियों ने  ब्‍यूरोचीफ पर कई प्रकार के आरोप लगाकर प्रधान संपादक शशि शेखर को भी ई-मेल भेजा है. इन लोगों ने चेतावनी दी है कि अगर तत्‍काल जांच कराकर अखिलेश ठाकुर को वापस नहीं बुलाया गया तो वो लोग सामूहिक रूप से इस्‍तीफा दे देंगे. अवकाश पर जाने वालों में आलोक मिश्रा, मनोज ओझा, सतीश मिश्रा, मनोज मिश्रा, ऑपरेटर विमल मौर्य व मनीष कुमार तथा आफिस ब्‍वॉय बबलू बताए गए हैं.

इस सामूहिक अवकाश से लखनऊ यूनिट में हड़कम्‍प है. रायबरेली में अखिलेश ठाकुर किसी तरह इधर-उधर से लड़के बुलाकर काम चला रहे हैं.  एक तरफ दिल्‍ली के दो आला हाकिमों का यूपी दौरा उस पर इस तरह की परेशानी, लखनऊ वाले वरिष्‍ठ परेशान हैं. मामले को सलटाने तथा डैमेज कंट्रोल करने के प्रयास किए जा रहे हैं. इस संदर्भ में जब अखिलेश ठाकुर से बात की गई तो उन्‍होंने इस तरह की किसी बात से इनकार करते हुए कहा कि सभी लोग काम कर रहे हैं. हमने आलोक मिश्रा को हटा दिया है. सामूहिक अवकाश जैसी कोई बात नहीं है.

इधर, इटावा का दौरा करने वाले एचएमवीएल के सीईओ अमित चोपड़ा तथा प्रधान संपादक शशि शेखर इटावा के संपादकीय कर्मच‍ारियों से खुश नहीं दिखे. कमजोर टीम बताकर मजबूत करने की सलाह दे डाली. हिंदुस्‍तान के टैग लाइन 'नया नजरिया तरक्‍की का' मतलब पूछे जाने पर कोई पत्रकार नहीं बता सका. औरैया से भी पिछले दिनों कई लोगों के दूसरे अखबारों में चले जाने के बाद डैमेज कंट्रोल करने के लिए अनिल शुक्‍ला को ब्‍यूरोचीफ बनाकर भेजा गया था. बीस सालों से हिंदुस्‍तान की सेवा करने वाले आनंद कुशवाहा को सेकेंड मैन बना दिया गया था. आनंद बीमारी के चलते आजकल आफिस नहीं आ रहे हैं, हालांकि इसके और दूसरे निहितार्थ भी निकाले जा रहे हैं. पर दोनों वरिष्‍ठों के दौरों को देखते हुए रविवार को सर्वेश मिश्रा को यहां का नया ब्‍यूरोचीफ बनाकर मामला संभालने को भ्‍ोजा गया है. अनिल शुक्‍ला सेकेंड मैन बना दिए गए हैं. अब देखना है कि ये लोग हिंदुस्‍तान का कितना भला कर पाते हैं.


AddThis
Comments (5)Add Comment
...
written by sharad kumar shukla, November 03, 2011
der aaye, durust aaye. akhirkar auraiya me hindustan ne anil shukla ko hata kar sarvesh mishra ko bureau chief bana kar achchha faisla kiya hai. isake pahale anil shukla ko achanak stringar se bureau chief bana diya gaya tha. kursi pate hi usane apna rang dikhana shuru kar diya. isake pahake amar ujala me dhan ugahi ko lekar anil shukla kai bar pita gaya tha. aise hi kai aaropo me mirjapur me amar ujala se use nikal diya gaya tha. pratapgarh me bhi office ke sahayogiyon se usaki kai bar marpit hui thi. is par use kai bar ghar baithaya gaya tha. aadtan anil shukla abhi manane wala nahi hai. auraiya me sare repoter bhale hi sansthan chhod den, lekin anil shukla apni aadat se baj aane wala nahi hai. vah stringar layak bhi nahi hai. anil shukla auraiya me bana raha to vahan Hindustan ki lutiya dubo dega. isake bad hi Hindustan walon ko samajh me aayega.....
...
written by KUMAR ASHISH, October 19, 2011
Yaswant Jee, Akhilesh Jee ko main barabanki bureau chief banane ke samay se janta hoon. Unhone saal 2001 me join karte hi bahut bade scandle ka pardafash kiya tha jisme koyla raicket main bade bade safedposho ki nind haram ho gayi thi. wahi is khabar main hindustan ne anya akhvaron se aachi khashi khyati batorin thi, inke samay ke karyon ko barabanki or sitapur ke log aaj v yaad karte fir se bulane ki kai baar pravandhan se mang kar chuke hai. lagta hai raibarali ke patrakaron ko aache prashashak ke saath kam karna nahi pach raha hai-
...
written by ASHISH SAHARSA, October 19, 2011
akhilesh jee ko main 2001 se janta hoon, jub we barabanki main breau chief ban kar aaye the] unhone waha par koyla raicket ka khulasha kar pure up main tahalka macha diya tha- iska ashar yah hua ki waha HINDUSTAN ka shell kafi badh gaya jo pehle kafi niche tha- inka kavi v kisi sckendal se naam nahi juda hai na he ye pachne layak hai....
...
written by govind mishra, October 18, 2011
अखिलेश जी पर इस तरह के आरोप हजम करने योग्य नहीं हैं। जहां तक मैं उन्हें जानता हूं उनका व्यवहार साथियों के साथ बड़े भाई के जैसा ही रहा है। उनकी ‘पाठशाला’ में उत्पीड़न शब्द का प्रयोग उचित नहीं है। रायबरेली के साथी ऐसा करके सीखने का अच्छा मौका गंवा रहे हैं। मुझे लगता है वे परिवर्तन को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं। और हां, सभी साथी तीन दिन नहीं, एक माह के अवकाश पर भी चले जाएं तो कामकाज पर कोई असर नहीं पड़ेगा खासतौर से अखिलेश जी के रहते। वह बेहद परिश्रमी इंसान हैं।
...
written by Kalapandit, October 18, 2011
Yashwat ji jahan tak akhilesh thakur ji ki baat hai to mein ek pathak hone ke nate karib sawa saat sal tak unke sitapur prabhar ke dauran unke rukh ko dekh chuka hun akhilesh ji apne karya ke prati emandar wa kartavya nishth hain. Sitapur mein aaj bhi unki karyashally jani wa pahchani jati hai unhone aapne karya kal mein kai aise ghotale wa scandal ko ujagar kiya tha is se hindustan charcha mein hi nahi balki uski prasar sankhya mein bhi ejafa hua tha. Taalgaon thana chetra mein balika ke apahran wa usko bech dene wali ghatna unhone hi ujagar ki thee jise lekar tamam samajik sangathno ne andolan kiya aur anttah pura thana suspend ho gaya tha. Yah to matra ek bangi hai. Sitapur mein karyalay hi nahi gramin chetron ke stringer ke beech aaj bhi unka samman usi tarah barkarar hai aise mein un jaise tej tarrar patrakar par utpedan ka aarop majak lagta hai. Raibareilly janpad ke jis patrakar alok mishra ko unhone nikala uski chavi ki tasdeek aap ko karwana chahiye wah patrakar kam ARTO karyalay ke dalal ke rup mein adhik vikhyat hai. aise vyakti ko nikalna agar utpedan hai to mein dua karun ga ki akilesh thakur ji pure jivan aise patrakaron ka utpedan hi karen.

Write comment

busy