जाने से पहले हिदुस्‍तानियों को रूला गए अशोक पाण्‍डेय

E-mail Print PDF

: साथियों ने दी अपने पूर्व संपादक को फेयरवेल : 25 फरवरी की शाम हिन्दुस्तान-झारखंड के वरीय स्थानीय संपादक अशोक पाण्डेय को साथियों ने बोझिल दिल के साथ विदा किया। अशोक जी की विदाई समारोह में संपादकीय विभाग के साथ-साथ मैनेजमेंट, प्रसार, मशीन तथा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भी मौजूद रहे। क्या अपने-क्या पराये, सभी की आंखे नम थीं।

इस मौके पर हिन्दुस्तान झारखंड के असिस्टेंट वाइस प्रेसीडेंट बेनी माधव चटर्जी तो अशोक पाण्डेय से गले मिलकर भावुक हो गये। उन्होंने कहा कि मैनें अपने 26 बरस के प्रबंधकीय जीवन में अशोक जी जैसा बेबाक और साफ दिल वाला संपादक नहीं देखा। वे झारखंड को बहुत याद आयेंगे। इसी दौरान पुरानी यादों और साथ काम करने के तौर-तरीकों को याद करते हुए कई साथियों के गले रूंध गये।

तमाम साथियों ने कहा कि यह एक नयी परंपरा की शुरुआत है। दस साल के अंदर अब तक झारखंड में हिन्दुस्तान के 11 संपादक बदल गये, लेकिन किसी को भी विदाई सम्मान नहीं दिया गया। यह नयी परंपरा संपादक अशोक पाण्डेय के सद्भाव और टीम भावना की पूंजी है। आभार व्यक्त करते हुए निवर्तमान संपादक श्री पाण्डेय ने कहा कि कमांडर तो सिर्फ रणनीति बनाते हैं, असल मोर्चा तो टीम के सिपाही ही जीतते हैं।

अशोकजी

समारोह में ब्यूरो प्रभारी चंदन मिश्र ने ब्यूरो सदस्यों की ओर से शाल तथा कलाई घड़ी देकर सम्मानित किया, जबकि लोकल टीम ने भगवान बिरसा की भूर्ति भेंट की। अन्य सदस्यों ने बैग सहित कई अन्य उपहार दिये। मैनेजमेंट की ओर से झाखंड के प्रसार प्रबंधन पकंज यादुका, एचआर हेड किरन बगाई, बिजनेस हेड  इंद्रजीत सिंह ने फूलों का गुलदस्ता देकर सम्मानित किया। वरीय समाचार संपादक मनोरंजन सिंह, संदीप कमल, घनश्याम श्रीवास्तव, डीएनई यशोनाथ झा, ब्यूरो रिपोर्टर अजय शर्मा, नीरज सिन्हा समेत सभी साथी मौजूद थे।

विदाई

विदाई


AddThis
Comments (17)Add Comment
...
written by ASHISH AWASTHI (SANU), June 19, 2012
अशोक पांडे के बारे मे गलत कहने वाले तू उनसे जलता है आपने दिमाग का इलाज करवा,सानू अवस्थी सुमेरपुर
...
written by Mohit, March 05, 2011
Pandey sir is gr8
...
written by HH employee, March 02, 2011
Pandey ji ne Hindustan ko vida kahkar prashansneey karya kiya hai. Unko meri taraf se bahut bahut badhai. Ye sansthan pandey ji jaise rich thought walo ko aur hurt hi karta..yaha do hi tarah ke log safal honge pahle jo pahadi dil rakhte ho ya pahad sa jhootha vyaktitva rakhte ho. Wo ek behtar insan hone ke sath hi achhe team leader aur best editor hain. Unki wahi vyakti burai kar sakta hai jo unse mila nahi hai ya fir khud behad ganda admi ho. Ye to understood si baat hai ki wo jis jagah se gaye, waha ke log unki tareef karte nahi thakte. Unhone jin saikdo logo ko career se joda hai , unki duayein aur prem wa samman humesha pandey ji ke chehare par muskane barkarar rakhega
...
written by rahul tiwari, March 01, 2011
maine padey ji k saath kaam nahi kia lekin unke baare me kafi kuch sun rakha hai. wo 1 reporter ho ya chaprasi sabhi ko wo 1 sammaaan hi pyar dte the.wo jameen se jude hue sampadak the.1baar unke saath kaam karne ki isha hai.
...
written by prakash tripathi, March 01, 2011
pandey sir jaisa sampadak maine kahi nahi dekha.unke saath jo koi 1 baar kaam kar le, wo unhe jindgi bhar nahi bhooloooga.pandey sir is great editor
...
written by An employee, March 01, 2011
Pandey ji ek behtar insan hone k sath hi ek achhe team leader aur best editor hain. Unki burai sirf vahi kar sakta hai jo unhe personally nahi janta hai ya khud bahut ganda admi ho.. Warna wakai unki burai karna khud ko jalil karne jaisa hai.. Pandey ji apne Hindustan se vida lekar behtar kaam kiya.. Aapko bahut bahut badhai... Aap mere liye pita ke barabar hain aur rahenge bhi... Aapne jim saikdo logo ka career banaya, unka pyar, samman aur duaayein apko aisi hi muskurahat deti rahengi, we r wid u alws. Take care
...
written by Ramji, Dhanbad, March 01, 2011
panday sir wakay ek ache editor ke sath-sath ek ache insan bhi hai. hindustan ke editor rahne ke bad bhi kabhi apne staff ke sath rob nahi dikhai. hindustan se bida lene ke bad agrah par wah dhanbad aaye aur humlogo ke bic dukh-sukh bante.wakay hindustan ke staff uneh hamesa yaad karenge.
...
written by naveen pandey, March 01, 2011
Great editor+down to earth personality = Ashok Pandey Ji
...
written by neha yadev, March 01, 2011
अशोक पाण्डेय का हिंदुस्तान से जाना वहां के लोगों को रुला गया, कोई नई बात नहीं है। अशोक जी के साथ जो काम किया है वह उनकी कार्यशैली से वाकिफ होगा। अमर उजाला लखनऊ से जब हिंदुस्तान में अशोक जी जा रहे थे तो संपादकीय के तमाम साथी उनके विदाई समारोह में बच्चों की तरह रोने लगे। अपने व्यवहार और काम से सबका दिल जीतने वाले अशोक जी जैसा संपादक अभी तक हमने तो नहीं देखा है।
...
written by shobhit, March 01, 2011
क्या भड़ास भी पेड न्यूज़ पर आ गया....एक पहुंचे हुए दलाल का मानमर्दन हो रहा.........सरम आणि चाहिए ......पांडे के डसे लोग जानते है, वो कितने महाँ है .....मुह मत खुलवाइए ......
...
written by nirmala mishra, February 28, 2011
mai to ashok pandey ko nahi janati lekin unke sath mere pati kaam karte thee. unki tareef karate nahi thaktee thee. ashok pandey ko nahi janati thee lekin mere pati weekly off ke din unki itani tareef har saksh se karte hue nahi thakte thee lekin mai bor ho jati thee. ajj unke baree mai tamam patkarao ka unke bare mai comment padhkar laga ki wakia mai woh accha adami hai. mari appane pati se sorry se bhadas4media ke madhyam se bolana chhachat hu. woh sahi hai mai galat hu. waki mai ashok pandey ke andar kuch khubiyaa hogi tabhi to journalist itanee tareef kar rahe hai. ashok ji mai appke badhu ke saaamaj hu. mai appke bare mai appane dil mai jo bhavana banyee thee uske lea mai kshama prathi hu. bhagwan app jase logo ko lami umar de aur unnchi kursi de. mai samjhati hu yeh ajj ke immandar patkarro ke lea bhaut jaruri hai
...
written by achlendra, February 28, 2011
उनका अंदाज ही ऐशा है जो unko जान लेता है वो मुरीद हो जाता है उनका चुम्बकीय व्यकित्तव है साफगोई भी रखते है ,,,
उनके सभी प्रशंशक उदास हैं ...
...
written by achlendra, February 28, 2011
उनका अंदाज़ ही ऐशा है जो दो दिन कम कर ले साथ मुरीद हो जाता है ..................कानपुर से जब रांची गए थे पूरा ऑफिस सड़क पर था, मैं दूसरे संस्थान का हिस्सा था फिर भी पहुंचा [email protected] से पहले हिदुस्‍तानियों को रूला गए अशोक पाण्‍डेय ये कहना गलत है उनके सभी प्रशंशक उदास हैं ...
...
written by basant nigam, February 28, 2011
pandey ji ke vyaktitva me ek chumbkiya aakarshan hai.unka baat karne ka tthethh kanpuriya lahja, awadhi mishrit bhasha shaily aur sath me kaam karne walon sathiyon ke sath dostana vyahvhar, ye sab kuch unki khoobiyan jo doosre samachar sampadkon se pandey ji ko alag karti hain..wo jahan se bhi gaye unka esthan koi sampaadak nahi le paya..
...
written by kundan vashishth, February 27, 2011
अच्छे इनसान जहां कहीं भी जाते या रहते हैं वे इसी तरह एक नई इबारत लिखते चलते हैं। सादर।
...
written by vivek vajpayee, February 27, 2011
हां ऐसे ही हैं अशोक पांडेय जी हलांकि मैं उनको ज्यादा नहीं जानता हूं लेकिन जितना जानता हूं उससे तो ऐसा ही लगा। एक बार पांडेय जी से कानपुर में मिलना हुआ था बड़े सहज ह्रदय और साधारण इंसान लगे थे वो उनको पद का जरा भी भान न था। उनका कहना था कि पत्रकारों की नौकरी का क्या आज है कल नहीं लेकिन हमारे आपके रिश्ते तो सदा रहेंगे। वो खराब नहीं होने चाहिए उस दिन मुझे लगा कि संपादक जैसी ऊंची कुर्सी पर बैठे व्यक्ति के पद से कहीं ज्यादा ऊंचे विचार हैं।
विवेक वाजपेयी टीवी पत्रकार एसवन न्यूज नोएडा
...
written by vivek asthana, February 27, 2011
it is good example of humanity.
same one is so special for all under working person.

Write comment

busy