गुलाब कोठारी के संपादकीय पर राजस्थान के पत्रकारों में मचा बवाल

E-mail Print PDF

गुलाब कोठारी पत्रिका समूह के मालिक हैं. वे ऐसे मालिक संपादक हैं जो अपनी बात खरी-खरी कह जाते हैं, भले ही किसी को उनका कहा-लिखा बुरा लगे तो लगे. आज उन्होंने पत्रकारों की ऐसी-तैसी की है. उन्होंने राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित पहले पन्ने पर अपने लंबे संपादकीय लेख में निशाने पर पत्रकारों के वेतन आयोगों, पत्रकार संगठनों और पत्रकारों को रखा है. सही कहा जाए तो गुलाब कोठारी ने एक अखबार मालिक के दर्द को पूरी तरह सामने रखा है.

जैसे पत्रकार संगठन अपने पत्रकारों के हितों के आगे नहीं सोचते, उसी तरह गुलाब कोठारी ने एक अखबार मालिक के हित के अलावा न सोचा और एक अखबार मालिक किसी पत्रकार को गरियाने के लिए जो-जो तर्क व मानसिकता रखता है, उसका खुला प्रदर्शन गुलाब कोठारी ने किया है. गुलाम कोठारी का लेखन कितना उचित-अनुचित है, उस पर आप विचार करें और इसके लिए गुलाब कोठारी का लिखा पढ़ें. यहां यह बता दें कि गुलाब कोठारी के लिखे से राजस्थान के पत्रकारों के दिलों में आग लग चुकी है और सैकड़ों पत्रकारों ने बैठक कर गुलाब कोठारी की ऐसी-तैसी की है. उससे संबंधित खबर जल्द ही आप तक पहुंचाया जाएगा, उससे पहले गुलाब कोठारी के लिखे मूल आलेख को पढ़ें, क्लिक करें- भ्रष्ट भी, धृष्ट भी


AddThis
Comments (20)Add Comment
...
written by ashok sharma repotar patrika morena, March 09, 2011
gulab ji ke bare mai coment karne vale pahale apane girevna mai jhankkar dekhe unhone jo likha hai sahi likha hai birodh ke pheeche bhaskar ka hath hai
...
written by r.k.haritwal, March 04, 2011
aapke farzi patrakaar jo mashin man,pestting,COMPOSITER etc they unko makaan ke liye certificate de rahe they,kesargarh liya jab,sarmjeeve patrakaar sangh mein kabja kara tha jab kaha gaye they.agar aap apni kalam ko sahi saabit karna chahte hai to sabke makaan kesargarh ko wapas dilwao nahi to aap bhi"JIS THALI MEIN KAHATE HAI USI MEIN CHED KAR RAHE HAI" AAPKO JAB TAK MIL RAHATHA JABTAK SAB THEEK THA AB NAHI MILA TO KOSH RAHO HAI" DHARMATMA BANNE SE PAHLE KHUD KO SAAF KARO.
...
written by SANYOGITA, March 04, 2011
JO THA KABHI GULAB...
AAJ KAR RAHA PRALAP...
VIGYAPAN,ZAMEENE SAB BATOR LI
PHIR KYO KAR RAHA HAI VILAP...

...HUM PATRAKARON KI DUNAIYA ME
MALIK BAN KAR AAYE TUM...
SATTA KI THALI ME TUMNE KHAYA
AB PATRAKAR KI ROTI PER HALLA MACHAYA

TAB KYO NAHI APNA DHARM NIBHAYA
JAB JALMAHAL,SUKHAM PER TUMNE JI LALCHAYA...

BUS UPDESH DETE RAHE HO ZINDAGI BHAR
KAHA HAI WO PATRAKARON KA " MILAP"

JO THA KABHI EK GULAB
AAJ KAR RAHA PRALAP...!!
...
written by sanyogitakumari, March 03, 2011
JO THA KABHI GULAB...
AAJ KAR RAHA PRALAP...
VIGYAPAN,ZAMEENE SAB BATOR LI
PHIR KYO KAR RAHA HAI VILAP...

HUM PATRAKARON KI DUNAIYA ME
MALIK BAN KAR AAYE TUM...
SATTA KI THALI ME TUMNE KHAYA
AB PATRAKAR KI ROTI PER HALLA MACHAYA

TAB KYO NAHI APNA DHARM NIBHAYA
JAB JALMAHAL,SUKHAM PER TUMNE JI LALCHAYA...

BUS UPDESH DETE RAHE HO ZINDAGI BHAR
KAHA HAI WO PATRAKARON KA " MILAP"

JO THA KABHI EK GULAB
AAJ KAR RAHA PRALAP...!!
...
written by mahesh bihari lalsot raj, March 03, 2011
shri Gulab ji n hkikt hi likha hi or sach hamsa kadwa hi hota hi
shri Gulab ji apke misan k sath hajaro hi


...
written by mukesh sundesha, March 03, 2011
क्या यह नोटंकी भाजपा शाशन में राज्य सभा में जाने की तो नहीं है ?
आदरणीय गुलाब जी कोठारी
आपके, एक लेख से पुरे राजस्थान में ही नहीं अन्य प्रदेशों में आपका असली चेहरा बेनकाब हो गया है ..यह सर्व विधित है की राजस्थान में भाजपा शाशन में सभी अखबारों को दर किनार कर आपने जो जमीनों और विज्ञापनों में अरबो रूपए की खुली लुट मचाई थी वो लुट रूपी मलाई कोंग्रेश शाशन में अब आपको मिल नहीं रही है ? इससे बोखलाकर आप अपना आप खो बेठे है इसलिए अब आप उल जलूल बाते कर अपने दिमाग को विखरथ कर बेटे है ...आप अगर सोचते है की ऐसी बयांनबाजी कर यदि आप राज्य सभा में जाने के सपने देख रहे है तो आप यह नाकाम कोशिश करने का सपना निकल दे ..........क्या यह बात आप नहीं जानते की केशरगढ़ जैसी करोडो की जमीन आपने जनता पार्टी के शाशन में कोडियो के भाव नहीं हथयाई.......आप आज मीडिया में आदर्श्ता की बात करते हो जब आपका मतलब शिद्ध नहीं हो रहा है
और एक बात खास.............
आपने, आपके लेख में जो अख़बार वालो को जो भिखारी शब्द कहकर ओची मानशिकता का परिचय दिया है वो तो आपके इस लेख से मालूम होता है की सबसे बड़ा भिखारी कोन है और वो क्या चाहता है ?
हम अख़बार वाले तो आज भी जैसे तैसे भी अपना ईमान जिन्दा रख रहे है पर आप अपने गिरेबान में जाके ...........और रही बात आपके सपने की तो हम अखबार वालो की इस लेख के बाद बदुआ है आपके सपने परम पिता परमेश्वर कभी साकार नहीं करे और रही बात मन में राज्य सभा में जाने की तो वो कभी पूरी नहीं होगी .........
मुकेश सुन्देशा
प्रकाशक
दैनिक समाचार पत्र , राजस्थान
...
written by dost, March 03, 2011
chorahe par latka kar marne chaheye iss ko, Kothari ke hisab se to ek patrakar ko apne pariwar ka pet bharne ki jaroorat nahi he, wo bas kamae aur kothari ke kothri me bhar de, yahi chahta he kothari
...
written by sach, March 03, 2011
choote akhbaro ka khoon choos kar ab unnko GALI dene lage, saara paisa khud hi khaana chahte ho? tum jaise logo ne hi choote akhabaro ki wat laga rakhe he.

Rajasthan and MP me newspaper buree tarh pitne ke baad aise halat ho jate he dosto issme Gulab ji ka kya dosh wo to sathiyane lag gaye he smilies/smiley.gif
...
written by great, March 03, 2011
गुलाब जी आप लिखते तो अच्‍छा हैं क्‍या यह बताएंगे कि आपने अपने संस्‍थान के कर्मचारियों का डीए क्‍यूं रोक रखा है वो तो कर्मचारियों का हक बनता है एक जमाना कुलिश जी का था और एक अब, कितना फर्क आया है तो सोच में फर्क आना लाजिमी है अब तो आप पैसे के पीर हैं इसके अलावा सब ढोंग। जो कुछ लिखकर लोगों को सिखाते हो वो पहले खुद जीना सीखो या आप मील के पत्‍थर हो जो लोगों को तो रास्‍ता बताते हैं लेकिन खुद वहीं रहते हैं
...
written by sd, March 02, 2011
sahab app tankhwa mat do lakin DA ku rook rakha hai apne apne sansthan ke kermachriyu ya aab wo kulish ji ka jmana nhi hai
...
written by Rajendra Gunjal, March 02, 2011
Shramjivi Patrakaron ko " Bhrasth aur Dhrasth " bataane waale Shri Gulab Kothari ko Ek baar nahin Ek Hazaar [1000] baar DHIKKAAR .
...
written by sanyogitakumari, March 02, 2011
gulab kothari ji...aap sathiya gaye hai...ya aap bhang ke nashe me choor hai..bhai gulab ji...chori ke artical ko padh to lete ki usme likha kya hai..aap to patrakar- putra hai bus...ye achivement hai aapka...patrakar ko mil rahi aadhi roti per bhi lalchai nazar kyo rakh rahe hai..aap bataiye..aapke sansthan me kitne logo ko aapne madad di hai...????
cancer jaisi bimari me bhi madad nahi karte aap...patrakarita malik banne se nahi aati..na sukham garden se aati hai..aur na hi kulish smrati van me fita katwane se....patrakarita har district me sarkar se riyayati zammen lele se bhi nahi aati...are pagla gaye hai kya aap...kuch to samjho -- pitaji ki khata-bahi hai ya rajasthan ka bada akhbaar...??? kaha kya kahna chahiye kuch to samjho...nammi girami patrakaron ki tooli baithi hai aapke paas,kuch unhi se pooch lete...pagalpan karne ki kya zarurat hai..aap apni zameene sarkar ko lotaye..riyayati dar per kagaj na le...ad ke chakkar me na pade...rajyapaal se khud ka samman band karwaye...kulish ji ko mahan bana kar apna ullu sidha karna band kar de...phir aap likhiye...pahle mai peeche khadi milungi..per kuch to ahatraam kare....malik ka dard to dard patrakar ke dukh ka jikra tak na ho....ye to na insaafi hai gulab ji.
...
written by sanyogitakumari, March 02, 2011
gulab kothari ji...aap sathiya gaye hai...ya aap bhang ke nashe me choor hai..bhai gulab ji...chori ke artical ko padh to lete ki usme likha kya hai..aap to patrakar- putra hai bus...ye achivement hai aapka...patrakar ko mil rahi aadhi roti per bhi lalchai nazar kyo rakh rahe hai..aap bataiye..aapke sansthan me kitne logo ko aapne madad di hai...????
cancer jaisi bimari me bhi madad nahi karte aap...patrakarita malik banne se nahi aati..na sukham garden se aati hai..aur na hi kulish smrati van me fita katwane se....patrakarita har district me sarkar se riyayati zammen lele se bhi nahi aati...are pagla gaye hai kya aap...kuch to samjho -- pitaji ki khata-bahi hai ya rajasthan ka bada akhbaar...??? kaha kya kahna chahiye kuch to samjho...nammi girami patrakaron ki tooli baithi hai aapke paas,kuch unhi se pooch lete...pagalpan karne ki kya zarurat hai..aap apni zameene sarkar ko lotaye..riyayati dar per kagaj na le...ad ke chakkar me na pade...rajyapaal se khud ka samman band karwaye...kulish ji ko mahan bana kar apna ullu sidha karna band kar de...phir aap likhiye...pahle mai peeche khadi milungi..per kuch to ahatraam kare....malik ka dard to dard patrakar ke dukh ka jikra tak na ho....ye to na insaafi hai gulab ji.
...
written by manish varma, March 02, 2011
ye bokhlahat me ki gayi baat he. jab sarkar ke dabav bana to usko doshi thahara diya or patrkaro ko gali de di.ab to patrkar banane ki ichha hi khatam ho gayi he
...
written by mukesh sundesha , March 02, 2011
आदरणीय गुलाब जी कोठारी ,
पहले अपने गिरेबान में जाके और फिर किसी को भ्रष्ट कहे , कांच के बंगले में रहने वाले लोग , किसी पर पत्थर नहीं फेकते ..........
मुझे जानकर बड़ा ही दुःख हुआ कि आज से 10 -12 वर्ष पूर्व राजस्थान में एक तरफ़ा मीडिया में राज करने वाले स्वय भू पतरकारो के भिस्मपितामाह गुलाब जी कोठारी आज आप मीडिया में आदर्शता की बात कर रहे है ..
जब देश में मीडिया और राडिया में कोई फर्क नहीं रहा ? ..
भर्ष्टाचार का ताडव तो कई समय से चला आ रहा है
आज सरकार ने छोटे अख़बार वालो के कंधे पर हाथ क्या रख दिया, आपके दिल की बात होठो पर आ गई .... बड़ी बुरी बात है कोठारी जी....
इस बात से हमें पता तो लगा की सरकार की चापलूसी करने वाले लोगो के मन में हमारे लिए कितनी नफ़रत है ....
आपने तो कई पतरकारो को मागने वाले कहकर उन्हें अपमानित किया है पर क्या आप यह नहीं जानते की जिस बुलंदी पर आप खड़े है वो स्थान कैसे हासिल हुआ है ? आप छोटे अख़बार वालो की बात क्या करते है आप भी तो कभी छोटे अख़बार वाले ही तो थे ...और रही बात भर्ष्टाचार की तो में आपको साफ शब्दों में बता रहा हु कि आज भी बड़े अख़बार वाले विज्ञापन के नाम उद्योगपतियों को धमकाकर चोथ वसूली कर रहे है सब जानते है ..आप भी आपके पेपर में छोटे गाव के टेंडरो को जिले की बजाय पुरे संभाग /राज्य में छापा जाता है ये क्या हम नहीं जानते ......और कई बाते है जो हम जानते हुए भी चुप है इसका मतलब यह नहीं की हम कमजोर है........
आदर सहित
मुकेश सुन्देशा
प्रकाशक
हिंदी दैनिक समाचार पत्र
...
written by unkown, March 02, 2011
jo bhi likha gaya he patrkaro ko gali ki tarah he unko haddiya khane wale kutte bataya gaya he esa kahne wale apne girahban me to jhank kar dekhe. mp ke patrkaro ko bhi jab yah itna chubh raha he to rajasthan ke patrkar chup kyon bethe he? kuch karate kyo nahi? malik log to jo bhi chahe labh utha le or patrkar jameen tak na le. akhbar maliko ko to jameene bhi free me chahiye or kqagaj bhi sasta vigyapanse bhi kamai kar le ghar to kya 7 peedhiya bhar le or aam patrkar ghar chalane ke liye bhi har roj pareshan hota rahe. bachho ko achhe school me nahi padha sake achha khana nahi kha sake kyonki six pay comission ke baad mahngai aasman chhu rahi he.patrkaro ke pese badhane ki baat aaye to aayog ko or sarkar ko galat thahara do sarkar bhi chup ho jaygi or patrkar bhi
...
written by चमन शर्मा,संवाददाता,राजस्थान पत्रिका,अलीगढ.मो-९६२७७१७१७१, March 02, 2011
सच कडुवा होता है,गुलाब सर जी को नमन,जिन्होंने वह लिखा जो बहुत पहले लिख जाना चाहिये था.जो पत्रकार साथी उनको गलत ठहरा रहे हैं वह अपने को पहले सही साबित करें वरना चुप रहें.
...
written by Mraj, March 02, 2011
क्या कोठारी जी पूरी ईमानदारी से अख़बार निकल रहे हैं, यदि नहीं तो उन्हें यह सब लिखने से पहले सोचना था ....
...
written by pawan, March 02, 2011
ek patrkar ko swanbhimani, tyagi or nishtawaan hona chaiye.....
...
written by banshichoudhary, March 02, 2011
asi aochi mansikta ka aalekh agulab kothari hi likh sakte hai
balotra

Write comment

busy