मुश्किल सवालों से जूझते प्रभु चावला की आइए थोड़ी तारीफ कर दें

E-mail Print PDF

कोई आदमी न तो पूरी तरह बुरा होता है और न पूरी तरह अच्छा. सुधरने और समझने की गुंजाइश सबके भीतर होती है. और, अक्सर लोग अनुभवों से सीखते हुए आगे के लिए नए तौर-तरीके अपनाते हैं. लगता है प्रभु चावला ने भी इस बात को समझ लिया.

शायद उन्होंने समझ लिया है कि मीडिया में रहते हुए वे अगर ज्यादा से ज्यादा ट्रांसपैरेंट रहेंगे तो लोगों का भरोसा उनके प्रति उतना ही बढ़ेगा. हालांकि राडिया टेप ने खुद ब खुद ढेर सारे संपादकों को उनके न चाहते हुए भी उन्हें ट्रांसपैरेंट बना दिया है, लेकिन सबक कुछ ने ही सीखा है. प्रभु ने देर आये दुरुस्त आये की तर्ज पर अपनी नई नौकरी में एक नई पहल की है. पहले वे टीवी टुडे ग्रुप में सीधी बात दूसरों से करते थे और अब उनके पाठक उनसे सीधी बात करने लगे हैं.

इंडिया टुडे के पूर्व संपादक प्रभु चावला तमाम तरह के विवादों, आरोपों व हरकतों के बाद टीवी टुडे ग्रुप से मुक्त होकर इन दिनों दक्षिण भारत के अंग्रेजी अखबार द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की नौकरी इंज्वाय कर रहे हैं. उनका पद इस नए संस्थान में एडिटोरियल डायरेक्टर का है. उन्होंने इस अखबार में एक अदभुत कालम शुरू किया है. 'आस्क प्रभु' नामक इस कालम में लोग अपना सवाल सीधे प्रभु चावला तक भेजते हैं और प्रभु चावला सवाल को प्रकाशित करने के साथ अपना जवाब भी देते हैं. इस प्रक्रिया में प्रभु ने कुछ ऐसे सवालों को भी प्रकाशित किया जो सीधे उनसे जुड़े हुए थे और तीखे आरोप थे उन सवालों में. प्रभु ने ऐसे सवालों को भी इंटरटेन किया. ये अच्छी बात है और इसे एक शुभ संकेत माना जाना चाहिए.

हालांकि ज्यादातर सवालों के जवाब प्रभु पोलिटिकली करेक्ट होकर देते हैं ताकि उनके जवाब से कोई सवाल न पैदा हो. देश के हर तरह के बुरे अच्छे शीर्षस्थ लोगों से मधुर रिश्ते बनाने में माहिर प्रभु से ये उम्मीद भी नहीं की जा सकती कि वे तीखे सवालों के तीखे जवाब दें या कोई ऐसा बयान दें जिस पर ठीकठाक बहस हो, क्योंकि उन्हें अपने दायरे पता हैं. फिर भी, संपादक से सीधे सवाल पूछे जाने और सभी सवालों के जवाब दिए जाने की परंपरा का स्वागत किया जाना चाहिए और इसके लिए प्रभु चावला बधाई के हकदार हैं. आइए कुछ सवाल और प्रभु द्वारा दिए गए जवाब को पढ़ें.

और हां, प्रभु चावला के इस शानदार कदम से सबक लेकर दूसरे वरिष्ठ एडिटर भी अपने-अपने यहां सीधे अपने पाठकों से रुबरु होने के लिए ऐसे कालम शुरू कर सकते हैं. पर कई माननीय संपादक इस डर से ये कालम नहीं शुरू करेंगे क्योंकि उनके काले कारनामें व किस्से इतने हैं कि कहीं पाठक सवाल में उन्हें ही न खोल कर तार-तार कर दें.

यशवंत

एडिटर

भड़ास4मीडिया

 


 

Q: Why were you fired from an outstanding media like India Today? Did your poor knowledge in journalism particularly about current affairs and useless questions in Seedhi Baat make you go? Have courage to answer.

A: You have already answered your own question. Be happy with it.

Q: You had a great platform with the “other“ media company? Why take a position with The New Indian Express, which caters mainly to the southern region?

A: I hugely enjoyed my previous job which gave me recognition. But I was missing the challenges of a daily newspaper.

Q: Is there any possibility of the New Indian Express and the Indian Express coming together to make a wider national presence ?

A: It is not within my purview or authority to answer such a question.

Q: How should I book my copy for Sunday Standard from Delhi? Will it be available in all the shops? Please do give a good advertising campaign for this new endeavour sir.

A: You don’t have to book. Just order your newspaper hawker to drop Sunday Standard along with your other papers. We will be promoting it as well.

Q: Persons like you, Arun Purie, Rajdeep Sardesai and Arun Goswami are loved by us. Why don’t you join openly with Baba Ramdev in his pursuit of a political career? Instead, you openly discourage him?

A: I can speak for myself only. I am not interested in joining politics. I support Baba’s cause but not his politics. I have interviewed him nine times.

Q: Why is media being called the fourth pillar of democracy although it is only doing business here?

A: I haven’t understood your question. Media is not just a pillar it is mirror for everyone to see his or her face.

Q: In England, even the monarch is under media scrutiny and the royal heirs and other family members are hounded by the UK media for juicy stories. Why is the Indian media being shy of doing investigative stories on Priyanka and Robert Vadra?

A: Media can’t chase a mirage. It was media which exposed Bofors. And it is the media which has exposed series of scams. We chase scandals without thinking about individuals.

Q: Forgive me for asking you about your fellow journalist Vinod Sharma of the Hindustan Times. He appears to be brazenly pro-UPA in his appearance as a panelist in the Times Now TV. He makes no bones to show his admiration for Manmohan Singh.

A: He is entitled to hold an opinion. It is for the viewers to accept or reject it.

Q: Why don’t we see interviews in any media with Sonia Gandhi or Rahul Gandhi for the last 2 to 3 months during the scams and price rise? Media are happy to give them titles like Woman of the Year, Young Face of India etc.

A: Media can’t force them or anyone else to give interviews.

अन्य सवाल-जवाब पढ़ने के लिए इस लिंक का सहारा ले सकते हैं.... Ask Prabhu


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by anil rana, April 05, 2011
great
...
written by c.k.tiwari, April 01, 2011
Pathko se sidha sanvad hona chahiye. sidha sanvad karne ki himmat bhi sampadko ko karna padega. ye bas saf-suthri chhavi ke log hi kar sakenge. Apani pol khulne ke dar se kuchh log eski alochna bhi kar sakte hai. per sach .........ko aach kya.................
is pahal ke liye Prabhu ji ko sat...sat .......naman .
...
written by K R Choudhary, March 03, 2011
Is it true that you managed to become member of Nathdwara temple board through your local nominee Rohit . Because Vasundhra Raje nominated Kokila ben Ambani as member and you found it an opportunity to come close to Ambanis.
Your nominee Rohit's wife became member of Amer trust and you in Nathdwara board to woo ambanis. Is it true that rohit awarded construction contract and other work on wife s name.regard s
...
written by govind goyal, March 03, 2011
what an idea sir ji.

Write comment

busy