ट्रिब्‍यून में तनाव जारी, निलंबित कर्मचारियों की संख्‍या ग्‍यारह हुई

E-mail Print PDF

चंडीगढ़ : लगभग सवा सौ साल पुराने ट्रिब्यून समाचार पत्र समूह में पिछले कुछ समय से चल रहा तनाव भड़क गया है. प्रबंधन ने ट्रिब्यून कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारियों सहित कुल ग्‍यारह कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है. इन लोगों पर मैनेजर से बदतमीजी एवं गाली ग्‍लौज करने का अरोप है. दूसरी तरफ कर्मचारियों ने प्रबंधन पर एक महिलाकर्मी से अभद्रता का आरोप लगाया है. कर्मचारियों ने गेट मीटिंग कर प्रबंधन को निलंबन वापस लेने को कहा है. दोनों पक्ष झुकने को तैयार नहीं हैं.

ट्रिब्‍यून में पूरा मामला उस समय गरम हुआ जब एक महिला कर्मचारी की गाड़ी रोकी गई. सिक्‍यूरिटी गार्ड ने उन्‍हें अंदर जगह न होने की बात बताकर गाड़ी बाहर खड़ा करने के लिए कहा. यहीं बात बिगड़ गई. दोनों तरफ से तकरार हुई. इसकी जानकारी मैनेजर कर्नल काहलो को दी गई. उन्‍होंने गाड़ी को बाहर पार्क करने का निर्देश दे दिया. इस घटना के बाद से कर्मचारी संगठन और प्रबंधन के बीच टकरार बढ़ गया.

कर्मचारी संघ के कई दर्जन लोग अगले दिन जनरल मैनेजर कर्नल काहलो के केबिन में घुस गए. सूत्रों का कहना है कि उनके साथ इन लोगों ने गाली-ग्‍लौज तथा अभद्र व्‍यवहार करते हुए उन्‍हें घेर लिया. माफी मांगने का दबाव बनाने लगे. प्रबंधन ने तत्‍काल इसकी सूचना पुलिस को दी. पुलिस मौके पर पहुंचकर कर्नल कालू को इन लोगों के चंगुल से बाहर निकाला. कर्मचारी संघ प्रबंधन पर कर्मचारी हितों की अनदेखी का आरोप लगाया. इसके बाद दोनों पक्षों के बीच खटास काफी बढ़ गई.

इस घटना के बाद ट्रिब्‍यून के ट्रस्टियों की मीटिंग अध्‍यक्ष एवं इलाहाबाद हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एचएस सोढ़ी की अध्‍यक्षता में हुई. जिसमें सभी ट्रस्टियों समेत गवर्नर एन बोहरा भी मौजूद रहे. सर्वसम्‍मति से फैसला लेकर ट्रिब्‍यून कर्मचारी संघ के कई पदाधिकारियों समेत ग्‍यारह लोगों के निलंबन का फैसला ले लिया गया. प्रबंधन का आरोप है कि ये लोग कर्मचारी संघ की आड़ में प्रबंधन को ब्‍लैकमेल करने की कोशिश कर रहे थे.

इधर, निलंबन के बाद ट्रिब्‍यून कर्मचारी संघ के लोगों ने एक गेट मीटिंग की. इन लोगों ने आरोप लगाया कि उक्‍त महिला पत्रकार से अभद्र व्‍यहार किया गया था. इस मीटिंग में सत्‍तर-अस्‍सी लोग शामिल हुए. प्रबंधन को चेताया गया कि अगर इनका निलंबन वापस नहीं लिया गया तो ये लोग आंदोलन को और अधिक तेज करेंगे. ट्रिब्‍यून समूह में कर्मचारियों की सख्‍या पंद्रह सौ के आसपास है.

जिन कर्मचारी नेताओं को निलंबित किया गया है उनमें ट्रिब्यून कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष बलबीर सिंह जंडू, महासचिव अनिल गुप्ता, उपाध्यक्ष राजीव कपलिश, कार्यकारिणी के सदस्य बलविंदर सिप्रे, चंडीगढ़ प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष जगतार सिंह सिद्धू, सुरिंदर सिंह, बलविंदर सिंह जम्मू, करमवीर सिंह, सुशील तिवारी, अशोक कुमार और एस मलिक शामिल हैं.

लंबे समय तक कर्मचारियों तथा प्रबंधकों में स्वस्थ संबंधों की मिसाल माने जाने वाले ट्रिब्यून समाचार पत्र समूह के प्रबंधन और कर्मचारियों में काफी समय से तनाव चला आ रहा है. यह प्रकाशन समूह पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा असर रखता है. माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों तक इस टकराव का असर कामकाज पर भी पड़ सकता है.


AddThis