आई-नेक्‍स्‍ट ने गलती की है या मानसिक उत्‍पीड़न!

E-mail Print PDF

आईनेक्‍स्‍टअभिषेक त्रिपाठी व अचलेन्द्र कटियार को आई-नेक्‍स्‍ट को बॉय बोले काफी दिन व्यतीत हो चुके हैं, लेकिन आई-नेक्‍स्‍ट प्रबंधन यह मानने के लिये तैयार नहीं है। अचलेन्द्र कटियार ने आज समाज व अभिषेक त्रिपाठी ने जनसंदेश, कानपुर ज्वाइन कर लिया है। अभिषेक व अचलेन्द्र को मनाने की काफी कोशिश आई-नेक्‍स्‍ट प्रबन्धन द्वारा की गयी, जिसमें उन्‍हें सफलता नहीं मिली। अब आई-नेक्‍स्‍ट द्वारा दूसरे तरीके के हथकंडे अपनाए जाने लगे हैं।

अचलेन्द्र को जहां डराने-धमकाने का काम हो रहा है, वहीं अभिषेक त्रिपाठी के विरुद्ध साजिश हो रही है, जिसका प्रत्य‍क्ष उदाहरण आज के आई-नेक्स्ट अखवार में दिखाई दे रहा है। अभिषेक को आई-नेक्‍स्‍ट छोड़े एक सप्ताह से अधिक हो गया है, जिससे संबंधित खबर भड़ास पर भी आ चुकी है। आज के आई-नेक्स्ट अखबार में एक खबर ''अभिषेक त्रिपाठी'' के नाम से प्रकाशित की गई है। यानी यह खबर बाईलाइन लगाई गई है (खबर साथ में सलग्‍न है)। अब इसको आई-नेक्स्ट अखबार की गलती माना जाए अथवा जानबूझ कर किया जा रहा मानसिक उत्‍पीड़न।

आईनेक्‍स्‍ट

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis
Comments (4)Add Comment
...
written by gaurav, March 13, 2011
i-next kay thakur nay hinjdo ki foz tyaar ki hai..............smilies/angry.gif
...
written by one sub editor, March 12, 2011
aise hi hai inext-leela. inext main rahne pr b nahi chorte aur sansthan se hat jane k bad b nhi chorte utpeedan karne se...tajjub es bat ka hai ki JAGRAN K MALIK phir b so rahe hai...
...
written by Vijay mishra, March 12, 2011
kya bat hai....
...
written by raj kumar, March 12, 2011
gg bg bggerb

Write comment

busy