WIKILEAKS के खुलासे और HINDUSTAN की दलाली

E-mail Print PDF

HINDU और WIKILEAKS के खुलासों के बाद प्रो-कांग्रेस मीडिया सरकार को बचाने में लग गयी है। JUCS मीडिया की इस भूमिका पर नजर रखते हुए कांग्रेस से राज्य सभा की सदस्य शोभना भरतिया के हिंदी अखबार हिंदुस्तान के 18 मार्च 2011 शुक्रवार के संपादकीय पेज पर सवाल उठाता है। अखबार ने ‘हमारी राय’ के तहत ‘ WIKILEAKS के धमाके’ शीर्षक से छपी टिप्पणी से इस गंभीर मुद्दे को सनसनी तक समेटने की कोशिश की है।

अखबार कहता है कि ‘इसने विपक्ष को नया बारुद दे दिया है--- इसके आधार पर FIR दायर करने और प्रधानमंत्री से इस्तीफा देने की मांग की जा रही है’ यहां हम यह पूछना चाहते हैं कि ‘हमारी राय’ के तहत छपे इस संपादकीय में अखबार में ‘दूसरों की राय और मांग तो बता रहा है पर अपनी राय क्यों नहीं बता रहा है।’

अखबार बड़े भोले अंदाज में सरकार को क्लीन चिट देने की शातिर कोशिश करते हुए कहता है ‘इससे बुनियादी सवाल हल नहीं होंगे’ यानी रंगे हाथ पकड़े गए अपराधी को अमूर्त बनाकर अपराध का सामान्यीकरण करने की अपनी ‘राडिया’ वाली कोशिश को दोहराया। इसीलिए अखबार ने परिपक्व कांग्रेसी दलाल की भूमिका के तहत दोनों पक्षों में लेन-देन और सुलह समझौते का उपदेश देता है कि ‘सांसदों की खरीद-फरोख्त के ताजे खुलासे पर आरोप-प्रत्यारोप उछालने के बजाय सांसदों को मिलकर अपने गिरेबान में झांकना चाहिए’।

इस संपादकीय पेज पर और भी कई हथकंडे सरकार के पक्ष में अपनाए गए हैं जो अखबार की दलाल नीयत को पुष्ट करते हैं। किसी राहुल राय की टिप्पड़ी के माध्यम से WIKILEAKS के लिए सुझाव दिया है कि वो ‘गड़े मुर्दे न उखाड़े’। लेख के रूप में राडिया केस में दलाली करते पकड़े जा चुके राज्य सभा सांसद और अखबार के स्तंभकार एनके सिंह का गरीबी हटाने का सटीक नुस्खा।

JUCS द्वारा जारी-

शाहनवाज आलम, राजीव यादव, विजय प्रताप, ऋषि सिंह, अवनीश राय, शाह आलम, रवि शेखर, विवेक मिश्रा, शिवदास।

संपर्क- 09415254919, 09452800752


AddThis
Comments (2)Add Comment
...
written by satya prakash, March 21, 2011
ek patrakar ke rup mai yahi aaj tak observe kiya ki patrakarati mai jitni badi patrakar utna bada dalal aaj ke samay me jaha tak mera mana hai ki bina dalai aur chaplusi ke koi bhi journalist reajaysabaha mai nahai ja sakta koi bhi patrakar ya newspapaer sarkari vigaypan ke ke liya ya to dara kara ya phir chaplusi kar hi ad le raha hai agar koi chota patrakar ya phir koi mafia aisey kaam ko karta hai to media bahaut khabarey chapti par aaj barkha dut vir sangvi ne jo kiya uspey ye media kyu chup hai phir unko aisi koi bhi khabaye nahi chapni chaiya
...
written by suman, March 20, 2011
wikileaks ke khulase ne yeh to spast kar diya hai ki. koun amriki dalal ki bhoomika me hai .jo desh ko bech raha hai.hum sabhi khare dekh rhe hai - montek singh ahloowalia. chidambram. manmohan singh sabhi amriki pasand ke hai durbhagyye hai ki ye desh ki neetiya tay karte hai . hum ussse prbhavit hote hai. es desh me bhi der saver wahi hoga jo halat pkistan ki hai. pahle amrika ne pak ko use kiya ab bharat me hit sadh raha hai. socho-socho kya hoga.wikileaks to unhi sadesho ko decode kar raha hai jo amrika bheje gaye. es adhar per kuch ho to nahi sakta lekin logo ko jo sandeh thaa vah samne aa gaya hai eysa lag rah hai.

Write comment

busy