हाईकोर्ट, प्रेस क्लब और जंतर-मंतर : एक रोजनामचा

E-mail Print PDF

कल दिल्ली हाईकोर्ट गया था. एचटी मीडिया ने जो मानहानि का मुकदमा कर रखा है उसी की तारीख थी. कोर्ट में क्या क्या हुआ और आगे क्या होने वाला है, उसकी जानकारी आप नीचे के वीडियो लिंक पर क्लिक करके देख-सुन सकते हैं. वहां से जब फ्री हुआ तो प्रेस क्लब आफ इंडिया गया. खाना खाने. प्रेस क्लब में नए लोग जबसे चुनाव जीतकर आए हैं तबसे जाना नहीं हुआ.

कुछ एक पदाधिकारी मिले और बात होने लगी. किसी ने श्वेतपत्र थमा दिया जिसे कल भड़ास पर प्रकाशित किया जा चुका है. इस क्लब के नए पुराने माहौल के बारे में काफी कुछ कहानी इस श्वेतपत्र से स्पष्ट है. प्रेस क्लब में एक मीडिया सेंटर बन गया है जहां कंप्यूटर, इंटरनेट आदि है. पहले ये कमरा एक पदाधिकारी के निजी सुख-सुविधाओं के लिए आरक्षित था. सबसे अच्छी बात ये लगी कि दोपहर से शाम तक प्रेस क्लब में दारू पीने पर पाबंदी लगा दी गई है. पाबंदी न कहें, कहें कि दारू परोसा जाना रोक दिया गया है. दोपहर करीब दो बजे पगली घंटी बजती है बार रुम की तरफ से. पगली घंटी शब्द ठीक नहीं होगा लेकिन पियक्कड़ों के लिए उचित है कि भैया पगली घंटी बज गई है, जिसको एक दो चार पैग लेना है अभी मंगा ले वरना शाम छह-सात बजे तक दुकान बंद.

बताया गया कि प्रेस क्लब से निकाले गए कई प्रेस क्लब कर्मियों को वापस बुला लिया गया है. उन्हें काम पर लगा दिया गया है. नई डिशेज इनक्लुड की गई हैं. कई सारी बातें पता चलीं और इससे लगा कि प्रेस क्लब आफ इंडिया में भी करप्शन के खिलाफ एक अभियान चल रहा है, अन्ना हजारे टाइप. हर पदाधिकारी अपना बेस्ट देने की कोशिश कर रहा है, ये मानकर कि अगर वो फिर जीतकर न आया तो भी लोग उसे याद करेंगे. एक सेवा भावना दिखी पदाधिकारियों में. कुछ तस्वीरें मैंने लीं जो नीचे हैं, नदीम (एनडीटीवी) और संजय (राष्ट्रीय सहारा) हैं इसमें. मीडिया सेंटर की भी तस्वीरें हैं. हां, एक बात छूट गई. प्रेस क्लब आफ इंडिया में जो बार है, वहां एक टीवी स्थापित है, जिस पर सिर्फ पुराने फिल्मी गानें आते हैं. लोग बता रहे थे कि जो पुराने क्लब मेंबर हैं, उन्हें बहुत आनंद आता है. पहले ये टीवी भी एक पदाधिकारी के लिए निजी तौर पर आरक्षित थी.

प्रेस क्लब आफ इंडिया से खा-पीकर निकलने के बाद सीधे जंतर मंतर पहुंचा. पहले दिन भी गया था और दूसरे दिन भी गया. पहले दिन के मुकाबले ज्यादा भीड़ हो गई थी. लोग उत्साहित और उर्जावान थे. दूसरे प्रदेशों से आए और दिल्ली में नौकरी कर रहे लोग काफी संख्या में थे. पढ़े-लिखे और बुद्धिजीवी किस्म के लोग भी अच्छी खासी संख्या में थे. चैनलों की भीड़ बढ़ गई थी. करीब 42 ओवी वैन स्थापित हो चुकी हैं, ऐसी सूचना है. इसी कारण लोग अन्ना के आंदोलन को पीपली लाइव से कनेक्ट कर रहे हैं कि ये मीडिया प्रायोजित है. पर मैं इससे इत्तफाक नहीं रखता. अन्ना ने देश के सेंटीमेंट को मंच और मौका दिया है एक्सप्रेस होने का. और, आंदोलन कभी तयशुदा फार्मेट या नायकों के साथ नहीं होते. आंदोलन के नायक आंदोलन के जरिए पैदा होते हैं.

मेरी पत्नी पूछ रहीं थीं कि ये अन्ना कौन हैं. ऐसे उत्तर भारतीय लोग जिनकी रुचि राजनीति में बेहद कम है, वे भी अन्ना के बारे में जानने को इच्छुक हैं. कह सकते हैं कि ये मीडिया की वजह से है और मीडिया को इस नेक काम के लिए सराहना मिलनी चाहिए. ये सही है कि इस आंदोलन से मीडिया को टीआरपी मिल रही है लेकिन हम लोग कहते भी तो यही थे कि मीडिया अगर असल मुद्दों पर केंद्रित रहे तो भी टीआरपी आएगी. भ्रष्टाचार सबसे बड़ा मुद्दा बन चुका है, ये मीडिया की देन है. जिस करप्ट मीडिया को हम लोग गालियां देते थे, उसी मीडिया ने चाहे जिस मजबूरी में, देश में करप्शन को राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया है और जाहिर है जब धुलाई सफाई शुरू होगी तो मीडिया क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं रहेगा. जंतर मंतर पर कुल बारह मिनट रहा. और, इन बारहों मिनट को मोबाइल में कैद किया, टहलते हुए. नाना प्रकार के दृश्य इस वीडियो में मिलेंगे. वीडियो को नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके देख-सुन सकते हैं.

अन्ना हजारे के पहले दिन वाले आंदोलन के दौरान मंच से टीवी जर्नलिस्ट रवीश कुमार के भाषण का वीडियो भी यहां दे रहा हूं. इन सबको देखें-सुनें. अन्ना के आंदोलन को मेरा भरपूर समर्थन है. कोई इफ बट नहीं, सिर्फ आंख मूंदकर समर्थन. संभव है, कल को हम लोग थोड़े बहुत ठगे और थके महसूस करें खुद को लेकिन आंदोलन सीख चुका आदमी फिर नए आंदोलन के लिए प्रेरित-उत्प्रेरित होगा, यह इस आंदोलन का सबक रहेगा. अन्ना हजारे या किरन बेदी या प्रशांत भूषण... व्यक्ति महत्वपूर्ण नहीं है. मुद्दा महत्वपूर्ण है. इन व्यक्तियों ने हम दुनियादारों से ज्यादा सक्रियता दिखाई, ज्यादा त्याग किया, ज्यादा विल पावर प्रदर्शित किया, ज्यादा साफगोई से सब कुछ संचालित किया, इसलिए वे आज लाइमलाइट में हैं.

हम अपने-अपने घरों-बिलों में बैठकर भाषण दे सकते हैं, भाषण लिख सकते हैं लेकिन हममें से बहुत कम लोग अपने अपने जिलों के जंतर-मंतरों पर कुछ करते होंगे. यही कहने और करने का भेद हमें बिजूका बना देता है. पर मैं उन लोगों को नापसंद कर रहा हूं जो अन्ना से इत्तफाक नहीं रखते, ऐसा बिलकुल नहीं है. दूसरे विचारों का स्वागत है और दूसरे विचारों पर खुले दिल-दिमाग से विचार किया जाना चाहिए. तभी हम डेमोक्रिटक भावना का प्रदर्शन कर पाएंगे और सब विचारों में से अच्छी चीजों को ग्रहण कर एक समग्र सिस्टम बना सकेंगे. लेकिन एक अनुरोध जरूर करूंगा कि आप भले ही अन्ना या आंदोलन से जुड़े लोगों से इत्तफाक न रखते हों, पर भ्रष्टाचार विरोधी इस महायज्ञ में अपने-अपने स्तर पर जरूर अपनी भूमिका तलाशें. सिर्फ बात करने से बात नहीं बनती. काम करने के दौरान बात करने से बात बनती है.

इन लिंक्स पर क्लिक करें....

अन्ना के मंच से रवीश कुमार का भाषण

अन्ना, सेकेंड डे, जंतर-मंतर का हाल

एचटी मीडिया वर्सेज भड़ास का मुकदमा

और ये उनके लिए जो उन्हें नहीं जानते... अन्ना की कहानी अन्ना की जुबानी

यशवंत सिंह

एडिटर

भड़ास4मीडिया

प्रेस क्लब आफ इंडिया के दो पदाधिकारी संजय और नदीम प्रेस क्लब का हाल बताते हुए

प्रेस क्लब में नया बना मीडिया सेंटर. पहले यह कमरा एक पदाधिकारी के लिए आरक्षित था.

प्रेस क्लब आफ इंडिया के मीडिया सेंटर में इंटरनेट और कंप्यूटर की सुविधा का लाभ उठाते पत्रकार साथी.

हाईकोर्ट में एचटी मीडिया वर्सेज भड़ास4मीडिया के मुकदमें के दस्तावेजों का अध्ययन करते भड़ास के वकील एडवोकेट एन दासगुप्ता.

हाईकोर्ट की कैंटीन में खाते-पीते अपने-अपने केसों के बारे में बात करते वकील और अन्य लोग.

हाईकोर्ट के अंदर ही पान खाने का भी जुगाड़ है. सो, पान लगाते बंधु की तस्वीर उतारने से मैं नहीं चूका.


AddThis