अन्ना की जीत की खुशी में ये कैसा डांस!

E-mail Print PDF

बिहार के कटिहार जिले में अन्ना की जीत की खुशी में ''जश्न -ए-आज़ादी'' नामक एक प्रोग्राम रखा गया. कटिहार के राजेंद्र स्टेडियम में आयोजित इस जीत उत्सव में जिला प्रशासन के अफसरों की मौजूदगी में कुछ ऐसा हो गया कि लोगबाग सोचने को मजबूर हो गए. आखिर ये कैसा जश्न-ए-आज़ादी है. मंच पर तो अन्ना के फोटो, बैनर और राष्ट्रीय ध्वज आदि थे. पर जब प्रोग्राम आगे बढ़ा तो कोलकाता से आई एक महिला कलाकार कम कपड़ों में उत्तेजक फिल्मी गानों पर उत्तेजक नृत्य करने लगी.

लोग इस भड़कीले नाच-गाने के प्रोग्राम और जश्न-ए-आजादी के बीच तालमेल नहीं बिठा पा रहे थे. कार्यक्रम की शुरुआत में अफसरों की मौजूदगी में तिरंगे को लेकर देश भक्ति के गीत गाए गए. पर बाद में जो कुछ हुआ वह देश भक्ति तो कतई नहीं था. अफसरों और अन्य मेहमानों के लिए आयोजकों ने जश्न ए आजादी के प्रोग्राम में लजीज व्यंजन, मदिरा, डांस... हर तरह की व्यवस्था कर रखी थी.

कटिहार के मीडियावाले भी मौके का फायदा उठाने में नहीं चूके. सब लोग नाच-गाने का लुत्फ उठाने में लगे रहे. किसी ने टिप्पणी की कि क्या आधुनिक जमाने में यही राष्ट्रभक्ति है. अगर यही सब करना था तो अन्ना के नाम और तस्वीर का इस्तेमाल क्यों किया गया और क्यों कार्यक्रम का नाम जश्न ए आजादी रखा गया. आयोजन के कुछ वीडियोज को देखें और खुद ही आप बताएं कि क्या ऐसा प्रोग्राम किया जाना उचित था. वीडियो नंबर एक, दो और तीन पर या उनके नीचे दी गई तस्वीरों पर क्लिक करें...

वीडियो नंबर एक

((इसमें कार्यक्रम शुरू होने के दौरान का माहौल है. सब कुछ अच्छा और राष्ट्र भक्ति में डूबा लग रहा था. मंच पर अफसर भी मौजूद हैं.))

वीडियो नंबर दो

((अन्ना के पोस्टर सजे मंच पर आइटम सांग शुरू, भड़कीले नृत्य ने लोगों को राष्ट्रभक्ति की नई परिभाषा सीखने पर मजबूर कर दिया.))

वीडियो नंबर तीन

((भारत माता और अन्ना के पोस्टर वाले मंच पर नृत्य का कार्यक्रम देर तक चलता रहा. कहीं से कोई विरोध की आवाज नहीं उठी.))


AddThis