माथे पर मजबूर लिखा है, सीने पर सिंगूर लिखा है

E-mail Print PDF

कुछ सपनों के मर जाने से, जीवन नहीं मरा करता है : पत्रकारिता दिवस पर नोएडा मीडिया जर्नलिस्ट एसोसिएशन के तत्वावधान में एमिटी यूनिवर्सिटी के सहयोग से सेक्टर 6 इंदिरा गांधी कलाकेंद्र में रविवार की रात कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया. इसमें पदमभूषण गोपाल दास नीरज व पदमश्री बेकल उत्साही जैसे जाने-माने कवियों ने कविता पाठ के माध्यम से देश की दिशा व दशा पर टिप्पणी करते हुए श्रोताओं को भाव-विभोर कर दिया. एक मात्र महिला कवियत्री डा. मधू मोहिनी उपाध्याय ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत कर कार्यक्रम का औपचारिक रूप से शुभारंभ किया.

कवि सम्मेलन की अध्यक्षता कर रहे पदमभूषण गोपाल दास नीरज ने कविता पाठ करते हुए कहा-

चुप-चुप ये आंसू बहाने वालों, मोती व्यर्थ लुटाने वालों.

कुछ सपनों के मर जाने से, जीवन नहीं मरा करता है.

पदमश्री से सम्मानित और राज्यसभा के सदस्य रहे जाने-माने शायर व कवि बेकल उत्साही ने देश की सभ्यता और संस्कृति पर टिप्पणी करेत हुए कविता पाठ की. उन्होंने कहा कि कोई भी धर्म और भाषा समाज में वैमनस्य करना नहीं सिखाता. कवित पाठ करते हुए उन्होंने कहा कि-

'ये मेल गंगा जमुनी है, उर्दू से ज्यादा मैंने हिंदी की शिक्षा ली है'

मेरठ विश्वविद्यालय में लॉ विभाग के प्रोफेसर डा. हरिओम पंवार ने देश के शासन पर टिप्पणी करते हुए कविता पाठ कर लोगों की जमकर तालियां बटोरी. उन्होंने कहा कि देश के संविधान में जो है, आज वो नहीं हो रहा है. यही देश का दुर्भाग्य है. कविता के माध्यम से उन्होंने कहा कि-

मैं दंगों में जला पड़ा हूं, आरक्षण से छला पड़ा हूं

मुझे निठारी नाम मिला है, खूनी नंदी ग्राम मिला है.

माथे पर मजबूर लिखा है, सीने पर सिंगूर लिखा है.

माओवादी नक्सलवादी, लहूलुहान पड़ी आजादी.

गर्दन पर जो दाग दिखा है, ये लश्कर का नाम लिखा है.

मैं भारत का संविधान हूं, लाल किले से बोल रहा हूं.

इसके अतिरिक्त डा. कुंवर बेचैन, महेंद्र शर्मा, पापुलर मेरठी, दीक्षित दनकौरी, चेतन आनंद व डीसीईओ एनपी सिंह ने भी कविता पाठ कर श्रोताओं को खूब हंसाया. संचालन डा. सुनील जोगी ने किया. इसके पूर्व क्षेत्रीय सांसद सुरेंद्र नागर ने दीप प्रज्जवलित कर कवि सम्मेलन का शुभारंभ किया. पत्रकारों द्वारा प्रेस क्लब की मांग पर सांसद ने सार्थक प्रयास करने का आश्वासन दिया. अथारिटी के चेयरमैन मोहिन्दर सिंह ने भी अपने स्तर से पहल करने का आश्वासन दिया. कवि सम्मेलन का संचालन पत्रकार आलोक द्विवेदी ने किया. कार्यक्रम के दौरान पत्रकार मनीष मिश्र व अनिल रायल ने मुख्य अतिथि सुरेंद्र नागर को और पत्रकार अनिल निगम ने सीईओ मोहिंदर सिंह को सम्मानित किया. इस दौरान विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी व बड़ी संख्या में पत्रकार शामिल रहे.


AddThis