पत्रकार राजेंद्र माथुर के योगदान को याद किया

E-mail Print PDF

पत्रकार राजेंद्र माथुर ने भारतीय पत्रकारिता खासकर हिन्‍दी पत्रकारिता की जो सेवा की, उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता. यह बात वरिष्‍ठ पत्रकार और फिल्‍म निर्माता राजेश बादल ने कही. वे प्रेस क्‍लब हरिद्वार की ओर से आयोजित गोष्‍ठी में बतौर मुख्‍य अतिथि बोल रहे थे. उन्‍होंने कहा कि राजेंद्र माथुर अंग्रेजी के प्राध्‍यापक थे.

माथुर साहब ने हिन्‍दी पत्रकारिता में अमूल्‍य योगदान दिया. उनकी कलम देशभक्ति के जज्‍बे से भरी थी. उन्‍होंने कभी अपनी लेखनी से समझौता नहीं किया. उन्‍होंने कहा कि राजेन्‍द्र माथुर, प्रभाष जोशी और एसपी सिंह महान पत्रकार थे. जिन्‍होंने हिन्‍दी पत्रकारिता को एक नई दिशा दी. माथुर साहब अच्‍छे इंसान थे, उससे अच्‍छे विचारक और उससे भी अच्‍छे संपादक थे. उन्‍होंने कहा कि आज मीडिया अपनी विश्‍वसनीयता खो चुका है. विश्‍वास का यह संकट मीडिया का खुद पैदा किया हुआ है. मीडिया जब से अपने सरोकारों से दूर हो गया है तब से मीडिया के सामने विश्‍वास का संकट पैदा हुआ है.

उत्‍तराखंड मीडिया सलाहकार परिषद के अध्‍यक्ष डा.देवेन्‍द्र भसीन ने कहा कि राजेंद्र माथुर लेखन के धनी थे. सादगी उनके जीवन में कूट-कूट कर भरी थी. उनकी कलम ने हिन्‍दी पत्रकारिता में संपादकीय परंपरा को मजबूती व नई दिशा प्रदान की. मानव संसाधन मंत्रालय की हिन्‍दी सलाहकार समिति के सदस्‍य डा.राम प्रसाद शर्मा ने भी राजेन्‍द्र माथुर के योगदान को याद किया. प्रेस क्‍लब में अध्‍यक्ष बृजेंद्र हर्ष ने कहा कि राजेंद्र माथुर, प्रभाष जोशी और एसपी सिंह जैसे महान पत्रकारों के भारतीय पत्रकारिता में‍ दिए गए योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है.

कार्यक्रम के संयोजक वरिष्‍ठ पत्रकार प्राध्‍यापक डा.कमल कांत बुधकर ने कहा कि हरिद्वार से राजेंद्र माथुर, प्रभाष जोशी और एसपी सिंह का विशेष लगाव रहा है.


AddThis