स्ट्रिंगर प्रजाति से मुक्‍त होगा सीएनईबी

E-mail Print PDF

सीएनईबी न्‍यूज चैनल अब अपने ढांचे को बदलने जा रहा है. चैनल से अब स्ट्रिंगर नाम की प्रजाति को समाप्‍त किया जा रहा है. चैनल एक नए स्‍ट्रेटजी के साथ सभी जगह अपनी पहुंच बनाने की कोशिश में लगा हुआ है. तमाम चैनलों के स्ट्रिंगरों की लगातर कई प्रकार की शिकायतों को देखते हुए सीएनईबी प्रबंधन ये कदम उठाने जा रहा है. सूत्रों का कहना है कि इसकी शुरुआत फिलहाल यूपी और उत्‍तराखंड से की जाएगी.

बताया जा रहा है कि सीएनईबी प्रबंधन ने यूपी और उत्‍तराखंड में नियुक्‍त अपने सभी स्ट्रिंगरों को कुछ समय पूर्व हटा दिया है. यानी उनको सेवा देने से रोक दिया गया है. सूत्रों का कहना है ऐसा इसलिए किया गया है क्‍योंकि एक स्ट्रिंगर कई चैनलों को अपनी फीड और खबरें भेजते हैं. जिसके चलते कई एक्‍सक्‍लूसिव स्‍टोरियां और खबरें भी दूसरे चैनलों पर पहले चल जाती हैं या सेम फीड दोनों के पास होती हैं. इससे दर्शक असमंजस में पड़ जाता है.

सीएनईबी के लोग खबर को सबसे पहले तथा सबसे बेहतर तरीके से दर्शकों तक पहुंचाने की कवायद में लगे हुए हैं. इसी क्रम में अब वो स्ट्रिंगरों की सेवा को समाप्‍त करने जा रहा है. अब स्ट्रिंगर नाम का जीव चैनल से जुड़ा हुआ नजर नहीं आएगा. इसकी जगह चैनल अपना रिपोर्टर रखेगा या फिर रिटेनर रखेगा जो पूरी तरह चैनल के लिए उत्‍तरदायी और जिम्‍मेदार होगा.

माना जा रहा है कि सीएनईबी प्रबंधन सिर्फ खबरों के लिए ही नहीं बल्कि स्ट्रिंगरों की लगातार तमाम तरह की मिलने वाली शिकायतों के मद्देनजर भी यह कदम उठाने जा रहा है. हालांकि प्रबंधन की ओर से यह कहा गया है कि इसकी शुरुआत हो चुकी है और यूपी के सारे स्ट्रिंगर हटा दिए गए हैं, परन्‍तु कथित तौर पर सीएनईबी के लिए काम करने वाले चंदौली जिले के स्ट्रिंगर का कहना है कि वो अभी भी सीएनईबी से जुड़ा हुआ है तथा आज ही उसकी खबर चली है.


AddThis