15 दिनों के भीतर अपनी संपत्ति घोषित करेंगे अनुरंजन झा

E-mail Print PDF

Anuranjan Jha : देश से करप्शन कम करने में पहला कदम यह हो कि हम पत्रकारों को अपनी संपत्ति और उसके स्रोत का खुलासा करना चाहिए... क्योंकि हम सच दिखाने का दावा करते हैं ...समाज के हितैषी का भरोसा दिलाते हैं। सबसे पहले शरुआत इसी समुदाय से होनी चाहिए। मैं 15 दिनों के अंदर करने जा रहा हूं। ...People's Outburst against Barkha Dutt at INDIA GATE...

Rajendra Jha : Nothing will happen......it's remain same..

Patanjali Dubey : shurat vahi karte hai, jo special vision rakhte hai..............

Rajendra Jha : Kucch nahi ho sakta haii ye hindustan hai........Kanoon banta hai baad mein ...pahlee torne ka rule banta hai.....

Sunil Dogra : Aameen! Sir ek blog bnaye jisme sab log ek sath apna detail bhar sken.

Sharma Santosh : अच्छी पहल है.. उम्मीद है भ्रष्टाचार के खिलाफ ये मुहिम हम पत्रकारों की बिरादरी में द

Nishikant Jha : Media or politic are sam. one r head 2nd r teal

Rajendra Jha : Yupp u r right...

Anuranjan Jha ‎: @राजेंद्र.. इतने निराश न हों .. समय आएगा और सब ठीक होगा ... यह सोच लेने से कि कुछ नहीं होगा ...कैसे चलेगा

Dharmendra Kumar : संपत्ति है ही नहीं... घोषणा किसकी करें... :)

Anuranjan Jha : धर्मेंद्र जी तभी तो आप सीना ठोक के चलते हैं .. और देखिए उनको जिनके यहां आप काम करते हैं

Shyam Tyagi : Sir Kahin Aisa Na Ho Jaaye Ki Aapki Sampati Janne Ke Baad Kuch Don Typ Log Firoti Maangne Lge......

Rajendra Jha : Sirr aap batoo mainee aone 26 sal ke agee meinn 1 lac corrupt meinn see 0.1% ko punishment miltee nahii dekha haii sirr..

Jamshed Qamar Siddiqui : Thats me in the black T shirt (Long Hair) :)

Deepak Shrivastava : sir aapne bohot achhcha kadam uthaya hai.anna ko schcha samarthan esi roop mi diya ja sakta hai.bhed ka hissa banna bohot aasan hai.par sach ka samna krna bohot kathin.badhai sir.

Rajendra Jha : Aur sayedd kavii milegaa v nahii kiyoki 100 mein se 99 corrupt hai.

Ashish Singh : jaisa karega waisa barega chahe wo neta ho officer ya journalist

Kishore Thakur : भ्रस्टाचार से मुक्ति चाहिए सभी को .............. पर करेगा कौन और कैसे ? भ्रस्टाचार है क्या और क्यों ? इसपे सोचने की आवश्यकता है .................. धन की भूख ऐसी क्यों ? इसपे सोचने की आवश्यकता है ................. फिर भ्रस्टाचार खुद ही भ्रष्ट हो जाएगा I

Rajendra Jha : Good 1 Kishore ji..

Swarntabh Like Own Way : वाकई ये पहल काबिलेतारीफ़ है ,इससे पत्रकारों की लोगों में साख तो बढ़ेगी ही साथ ही एक नया भरोसा कायम होगा...इस पहल के लिए आपको बधाई

Satya Brata : very good initiative jha jee. hats off to u.....

Kishore Thakur : अगर कोई अपने धन का ब्यौरा देता है तो क्या वो भ्रष्ट नहीं होगा ........... भ्रष्टाचार तभी मिटेगा जब आप किसी को उसके व्यक्तित्व से, कर्मो से पहचाना जाएगा... भ्रस्ताचार तभी मिटेगा जब सभी सरकारी अस्पताल और विद्यालयों के कर्मचारी बदलेंगे... भ्रस्ताचार तभी मिटेगा जब लोग अपने संबिधान ( मात्र देश का नहीं , किसी भी संस्था का जहाँ वो कार्यरत है ) की गरिमा को समझेंगे... भ्रस्ताचार तभी मिटेगा ....................... जब हम बदलेंगे ............

Shivendra Shahi : sir aap ne sahi kaha hai sabse pehle aone se hi suruvat karni chahiye

Prakash K Ray : haha...unse wafa ki ummeed jo nahin jante wafa kya hai...

Shambhu Bhadra : idea is great, but about 90 percent journalists r living like hand to mouth situation. they hve nothing to show. only ten percent have asset to show. so why r u trying to open 'NANGA SACH' of journalist?

Anuranjan Jha : Jis 90% ki baat kar rahe hain unse problem nahi hai hum to baat unki kar rahe hain jo aapki nazar me 10 % me aate hain .. 121 cr me kitne ke paas galat paisa hai ye samjhne ki jrurat hai .... agar sabke paas hoti to samasya thi kya ???

Shambhu Bhadra : i think ten percent hve no dare to cooperate ur mission against corruption.

Gopal Jha : Mai aapki baat se sahamt hu. samptti ka khulasa karne ke liye bhi.

Akhilesh Krishna Mohan : सर अपनी बात कहने के पहले मांफी चाहुंगा हो सकता है कि कोई मेरे विचार से सहमत न हो । लेकिन अच्छे लोगों को अपना काम जिम्मेदारी से करने के लिए कानूनों की जरुरत नहीं होती, जबकि बुरे लोग कानून के बीच से ही रास्ता निकाल लेते हैं । इन बातों पर गौर कीजिएगा । देश के नब्बे फ़ीसदी पत्रकार (अंशकालिक संवाददाता) बिना पैसे के काम करते हैं। वो क्या सार्वजनिक करेंगे । यानी देश के ९० फ़ीसदी पत्रकार आप का साथ मजबूरी में नहीं दे सकते । क्योंकि जब कुछ है ही नहीं तो भला दिखाएं क्या। आप अपनी (यानी उच्चदर्जें के मोटी तनख्वाह वाले ) सम्पति को सार्वजनिक कर सकते हैं ।लेकिन इससे कुछ होने जाने वाला नहीं है क्यों कि उपरोक्त सूक्ति अक्षरश: सही है । तमिलनाडु में तैनात आईएएस अधिकारी यू सागायम ने वेबसाईट पर अपनी संपत्ति घोषित करके राज्य के पहले आईएएस अफ़सर के तौर पर इतिहास बनाया है ईमानदारी की यह मिशाल है । वैसे हर कोई स्वतंत्र है लेकिन सौ फ़ीसदी ईमानदारी के साथ आप जिंदा नहीं रह सकते । आप को बेईमानी करने के लिये मजबूर किया जाता रहेगा और आप होगें भी, किसी को भी इसके लिए बाध्य नहीं किया जा सकता । हमारे देश में सिस्टम ही गलत है तो फिर हम ईमानदारी के रास्ते पर कैसे चलें। बीमारी की हालत में अपनी आमदनी से ज्यादा खर्च होने के बाद भी इनकम टैक्स चुकाना ही पड़ता है । तो फिर सौ फ़ीसदी ईमानदारी के साथ जीना आसान नहीं है ।

Digvijay Chaturvedi : जो काला धन कमाना जानता है वो उसे छुपाना भी जानता है ..कोइ जरूरी नही जो अपने संपत्ति और उसके स्रोत का खुलासा कर दे वह ईमानदार हो.....हां कोई जब इतना खाता है कि पेट फट जाए तब ही खुलासा होता है....

Surya Kumar Upadhyay : wah kya baat hai

Minnat Rahmani : Agar sampatti khulasa karne se curptn khatm hojaega to Jan lokpal bil ki kya jarurat he. Aur agar ye itne imandar hote ke sahi khulasa kar dete, to shayad curptn hota hi nahi. Kyo curptn me to wahi lipt he jo daulatmand he. Anuranjan ji aap to islie taiyar hogae sampati ka byora dene kyoke ap aur iss grp me ham sab koi bhi crorpati nahi honge. Sab 50k se 2lakh mahine ki salary wale he. Jisme jyadatar ki 6k car instlmnt+ 15k house loan or rent+ 4k petrol + 2k phone + 15k ghar ka rashan + 5k bachche ki fee + 3k trtmnt + 5k clothes + wife expandture(unexpected). Ha mujhe lagta he ke shayad jan lokpal bill aur right to recall ke bad kuch kami ke asar dikhenge kyoke isi dar ke wajah se shayad jab adwani ji bhi home ministr the to bjp walo ne bhi nahi lae is bill ko.

Parul Tiwari : sahi bat kahi aap ne sir its necessary... very good thought sir

Jaikumar Jha : बहुत ही शानदार शुरुआत की बात कही है आपने...शानदार सोच से उपजी शानदार पहल का प्रयास...

Rajesh Jha : Yes Brother

Ashraf Khan : आपके साहस को सलाम

Rajesh Jha : ‎@ Aadarsh Ji.. sahi Bole 15 din me kya karne ja rahe hai Hame bhi to bataye..

Aadarsh Rathore : ‎15 दिनों में क्या सेटिंग करने जा रहे हैं ? ;) पत्रकारों की आय का स्रोत उसका व्यवसाय ही होगा यानी उनका संस्थान जहां से उन्हें वेतन मिलता है. और क्या खुलासा किया जाना चाहिए? हां, जो इस पेशे से अलग दलाली करके पैसा कमा रहे हैं वो अपनी संपत्ति उतनी ही आसानी से छिपाकर खुद को पाक साफ भी साबित कर देंगे...

Ashraf Khan : ये वो दलाल हैं जिन्होंने शर्म की परिभाषा ही बदल दी है. बस मुंह उठाकर पहुंच जाते हैं कहीं भी. इन्हें याद रखना चाहिए कि ये नेताओं की जमात नहीं पब्लिक है, जिन्हें अब बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता.

Harsh Vardhan Ojha : ‎Anuranjan Jha It would be noble beginning do it soon.

Shahid Rizvi : great sir

Shahid Rizvi : bahut achchi sonch hai..i am with you

Banwari Yadav : अच्छी पहल है..पर असल पत्रकारों की तो इनकम ही क्या होती है..?? आप भी जानते हैं.।

Arun Arun Gangwar : This is called chairity begains at home ...............you hv raised a very valid point .....

Ranu Choudhary : Jha Sir, Most regard effort! There is dire need to root out the corrupts in the field of journalism. In order for a journalist to fulfill their duty of providing the people with the information, they need to be free and self-governing. They must follow these guidelines:

Journalism's first obligation is to the truth.

Its first loyalty is to the citizens.

Its essence is discipline of verification.

Its practitioners must maintain an independence from those they cover.

It must serve as an independent monitor of power.

It must provide a forum for public criticism and compromise.

It must strive to make the news significant, interesting, and relevant.

It must keep the news comprehensive and proportional.

Its practitioners must be allowed to exercise their personal conscience.

Vineet Singh : झा सर मैं भी आपके साथ हूं .... जरा अपनी सम्पत्ति का हिसाब लगा लूं फिर दो एक दिन में मैं भी घोषणा कर दूंगा

Shagun Kashyap : Very True Sir...we r the voice of Nation so we never need to forget that we are Journalists not the money-makers....!!!!!!!!!!

Vibhuraj Chaudhary : हम आपका अनुकरण करने के लिये तैयार हैं... कोई भूखे-नंगे तो हैं नहीं... कुछ न कुछ तो निकलेगा ही...

Manish Chauhan : बहुत ही वाज़िब और ज़रूरी सवाल... पहल ख़ुद से, इससे अच्छा आदर्श क्या हो सकता है... सलाम!!

Chaman Gupta : great sir...

Rabindra Jha : Congrats for ur right move. In public perception , media is also stained/ daagi. Plz raise ur voice . Public will follow u......

Hasan Jawed : achchi koshish h

Abhay Pandey : aap badhai k patra hain .aapke himmat ko mai salam kerta hun ,aaj mujhe laga ki patrakarita ka wajood abhi barkarar hai aur patrakar ab bhi sambhrant hain...........

अनुरंजन झा ने फेसबुक पर ये जो घोषणा की है, उस पर लोगों के राय देने का क्रम जारी है. आप भी शरीक हों, क्लिक करें- अनुरंजन झा स्टेटस


AddThis