सहारा ने चलाई अपने स्ट्रिंगरों को लूटने की स्‍कीम

E-mail Print PDF

सहारा समय में दो-चार दलाल टाइप लोगों को छोड़कर किसी की कोई हैसियत नहीं. सबसे ज़्यादा शोषित हैं तो सहारा के स्ट्रिंगर. सभी स्ट्रिंगरों को निपटाने के लिए नया फरमान आया है कि उनका बिल कम किया जाए. स्ट्रिंगर की न्यूज रिपोर्टर के नाम पर डाल कर बिल नहीं देना, एन मौके पर न्यूज़ रोक लेना, पैकेज की बड़ी खबरों को वीओ बनाकर डाल देना, स्ट्रिंगरों की दो-दो तीन-तीन न्यूज को इकट्ठा करके एक न्यूज बनाकर बिल कम कर देना जैसे प्रताड़ित करनेवाले हथकंडों के बाद अब नया फरमान है, उन्हें तत्‍काल बाहर करने के लिए मेहनताना कम कर दिया जाए.

अब नया नियम बनाया गया है कि हर स्ट्रिंगर को हर माह कम से कम 40 न्यूज करनी ही होगी (ऐसी न्यूज जो चैनल पे दिखाई गयी हो),  तभी उसे लिए उसको 15 हज़ार रुपए दिए जाएँगे ( ये बात कितनी अच्छी लगती है, लेकिन है ऐसा नहीं)  यानी एक न्यूज का 375 रुपया,  लेकिन अगर स्ट्रिंगर ने 40  से कम न्यूज की तो उसके बिल से प्रति खबर 800  रुपये के हिसाब से काट लिया जाने लगा है. किसी की 30 न्यूज लगी तो 15000  कुल मेहानताने से 10  न्यूज के 8000  काट कर केवल 7000  का बिल पास किया जाने लगा है.

अगर स्ट्रिंगर 80  खबर बनाए तो 40  लगने की आशा रहती है. अब अगर किसी की 20  न्यूज ही लगी तो उसे काम के बिल के एक धेला भी नहीं मिलेगा क्योंकि 15000  तो 40  न्यूज लगाने के मिलते पर 20  ख़बरें कम हैं तो उसके 16000  (प्रति न्यूज 800 रुपया) माइनस.  कंपनी कह रही है कि ये ऐहसान मानो कि एक हज़ार और वसूल नहीं कर रहे.

सहारा ने स्ट्रिंगरों को चूसने का ये नियम फ़रवरी 2011 से लागू कर दिया और इसकी जानकारी तक नहीं दी. अब दो महीने बाद जब बिल नहीं आ रहे हैं तब जाकर पता चला कि पैसा क्यों नहीं आ रहा है. अगर वो पहले बता देते तो तभी कोई और काम ढूंढ़ लेते स्ट्रिंगर लोग. 1700  करोड़ में आईपीएल टीम खरीदने वाली और लंदन में अरबों में होटल खरीदनेवाली सहारा को लूटने के लिए मिले तो बेचारे ग़रीब स्ट्रिंगर लोग. थोड़ी तो लाज शरम रखते सहारा वाले.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.


AddThis
Comments (12)Add Comment
...
written by narendra, April 21, 2011
ग्वालियर ब्यूरो की हालत इस समय बिना माँ बाप जैसी हो गई है। क्योकि जयेश कुमार को ग्वालियर केवल महज दिखावे के लिये ब्यूरो चीफ बनाकर भेजा है। क्योकि उपर बैठे लोगो के हाथ में उनकी डोर है। क्योकि जब से ग्वालियर आये है केवल स्ट्रींगरो की स्टोरी मार मार कर अपनी नौकरी चला रहे है और यदि फिर भी नही नही चलती तो लोकल वालो के सामने हाथ फैला कर इंतजाम कर लेते है बेचारे स्ट्रींगर जहाँ अपने पैसो के लिये जूझ रहे है वही जयेश के दूर दूर की हांकने और झूठ बोलने की आदत से परेशान हो रहे है। लेकिन मजबूरी में सुनते रहते है क्योकि पता नही किस की शिकायत उपर कर दे और उसे आई डी जमा कराना पडे पहले ग्वालियर के लोगो को सहारा द्वारा एड मांगने से डर लगता था अब सहारा के स्ट्रींगरो को जयेश से डर लगता है कि नोयडा में झुठी कहानी गढ के किसका पत्ता कट करवा दे। लेकिन नवीन की तरह जयेश का विरोध करने की अभी तक किसी नें हिम्मत नही की है। और यदि ऐसे ही हालात रहे तो देर नही है कि ग्वालियर ब्यूरो में बचे स्ट्रींगर एक एक करके अपने आप निकल जाये और फिर एक बार फिर यहाँ के ब्यूरो में ताला डल जाये और उसके आगे जयेश भजन करते हुये अकेले दिखाई दे धन्य है सहारा और धन्य है इसको चलाने वाले
...
written by rajesh kumar, April 21, 2011
sahara repetron ke bal par khari kamai karne ke firak me hai. ishlie apne reportron ko vigyapan ka vi var de rakha hai aur reportron ko punjipation ka dalali karne ke sikha de raha hai. stringron ko iski khilafat to karni hi chahia.
...
written by anil namdev, April 20, 2011
sahara samay kewal logo ko black mail ka dhandha karne mein laga hua hai chahe khabar reporter sahi bataye lekin anubhavhin input head depty head kewal apne aap ko sahara shree ka khass samazne lage hai m.p c.g channel ke kitne hi logo ka paisa sahara group dhakare bhaitha hai aab sahara samay m.p c.g mein kewal corrupt logo ka bol bala hai . channel head manoj manu ho ya rakesh rajan ya chotte miya nitin tripathi sabhi anubhavhin patrakar channel ko band karwane ki muhim maein lage hai .. m.p ke patrakar vasooli mein jayada hai ya c.g ke dono mein race lagi hai.. ruchir garg kama kama ke de raha hai isiliye tika hai aur bhopal indore jaise jahah dalal kism ke log channel mein kaam kar rahe hai. acche logo ke paise khakar sahara shree ipl mein mast hai . sahara samay ki har taraf kachre ho rahe hai. vinashkale viprit bhodhi . bhawan sahara shree ko sadh budhi de.
...
written by shailendra, gwalior , April 19, 2011
राजीव जी सही लिखा है ग्वालियर ब्यूरो की सच्चाई आपने लिख दी काश सहारा में उपर बैठे लोगो को भी इस सच्चाई का पता चले लेकिन अब सहारा में काम की नही पैसो की जरुरत है नवीन को तो केवल मोहरा बनाया गया था। क्योकि जयेश की चापलूसी नामा लिखने वाले व्यक्ति की मानसिकता इसी बात से पता चलती है कि नवीन के नाम से ही कमेन्टस किया जा रहा है और उसकी बुराई की जा रही है। इससे पता चल रहा है चोर की दाढी में तिनका... सहारा को अब गुपचुप तरीके से ग्वालियर में सर्वे करवाना पडेगा अपने आप असलियत सामने आ जायेगी कौन क्या कर रहा है
...
written by naveen, gwalior , April 19, 2011
jin mahasey dwara mera naam uchaal kar mushey badnaam karney ki koshish ki ja rahi unkey liya keval ek hi jawab hai ki meri mansikta par sawal uthaney walen is person ki mansikta ishi baat say samjh aati hai ki mera naam lekar comment kar raha hai ab baat karey merey kaam ki tho main jab tak sahara main tha imandari say aur mehant say kaam kiya aur kisi ko sak hai tho picley 2 saalon main sahara main merey kaam aur meri story ko dekh kar check kar ley aur yadi record nahin hai tho you tube par sahara samay news naveen key naam say check kar ley apney aap sabit ho jaayega ki mainey sahara main kya kaam kiya ab baat karo ki kai channel main kaam karney ka tho bandhu yadi main 8-10 channel main kaam karta tho fir mera limka record main naam kyon nahin aaya jhan tak sahara say merey hatney ka sawal hai ushka karan jyaseh kumar say meri na ban pana kyonki vo mushey apna kaam aur apney anushaar kaam karvana chatey they jo merey liye samvab nahin ho paa raha tha jishki vajeh say merey jayesh say matfed huye lekin jab say mushey kaam say roka gaya hai na tho mushey jayes say matlab hai aur na unki activity say aur ushi samay say mainey kabhi jayesh kumar say baat nahin ki hai aur na hi sahara kay sambandh main koi baat kari hai reh gai baat merey hataney key pichey tho vo meri aur sahara main noida main bethey logo say baat hai jo hamara aapsi mamla hai lekin kripa kar key mushey apney is sab pravanch say dur rakhiyey kyon ki na tho main jayesh kumar say matlab hai aur na hi aagey mushey unsay koi matlab rakhna hai aur yadi kisi say matlab hai aur baat karni hai tho vo sahara adminstration say karuga kyonki mushey naukari sahara nain di thi na ki jayesh kumar isliya yadi main sahara say dur hun tho kripa karkey gwalior main mushey apney aapsi vivad main na gasitey aur reh gai baat main kya hun jayesh kya hai yeh sahara main upper bethey log acchi tareh jaantey hai aur unki sabpar nazar hai vo apney aap dekh kar faisla ley lengey is par likh kar na kisi ko badnaam kar shakey ho aur na hi kisi ko bhut accha bana shktey ho isliyey my dear friend keval kaam karo faltu key panchyat main mat pado khas taur say merey naam say hi comment's bhejney walon key liyey mashvara hai mera jara gaur karo......... thanx naveen nayak gwalior
...
written by naveen, April 17, 2011
rajiv nam se jis aadmi ne oopar gwalior k bare me jo halat likhe hai wo poori tarah se galat hai ye sari afwah to gwalior sahara me kam kar chuke naveen nayak dwara failai ja rahi hai jayesh kumar ko jitna bada chada kar jhoota aur nakabil kaha gaya hai wo poori tarah galat hai jayesh ko media line me 15 sal se jyada ka samay gujar chuka hai wo is line me apni yogyata ki dam par tika hai naveen nayak sahara samay me rahte huye 8-10 channel ke liye kam karta tha jo ki galat tha yahi vajah rahi ki sahara samay ne naveen ko bahar ka rasta dikha diya sahara se hata diye gaye naveen nayak ab khisyani billi ki tarah khamba noch kar matlab galat afwah faila kar sahara channel aur uske staff ko badnam karna chahta hai morena k vijay tiwari ko sahara ne nahi hataya balki vijay tiwari ne hi sahara ko tata karke bansal news me gwalior join kar liya hai aur jayesh aur vinod k beech bhi aisi koi bat sunne ko nahi mili jo uper likhi gai hai kul milakar naveen nayak hi kuntha ke karan galat afwah failakar sahara channel aur uske staff ki badnami kar raha hai sabhi ko aise galat mansikta rakhne wale logo ki bato par dhyan nahi dena chahiye.
...
written by rajiv, murena, April 16, 2011
भाई यह तो होना ही था सहारा का बाजा तो बजना ही था। क्योकि जब ब्यूरो को एक दूकान के रुप में चैनल हैड और उनके चमचो को बेचा जा रहा हो तो यह तो होना ही है। ग्वालियर ब्यूरो में प्रियदर्शी सहाब और उनके उपर तक के महकमे को खत्म किया गया तो थोडा चैन आया था स्ट्रींगरो को लेकिन जल्द ही मनोज मनू जी ने इस बेसहारा ब्यूरो को एक अपने चमचे और और दूनिया के सबसे झुठे इंसान(यह ग्वालियर की पूरी जनता कहती है) जयेश कुमार को बेच दिया। जिसके बाद जो लगातार ग्वालियर स्ट्रींगरो का बुरा वक्त आया है वो अभी तक जारी है। रोज जयेश कुमार झुठ का पुलिंदा बनाकर हेडबोस को देते है और रोज किसी न किसी की बली चड जाती है और इसमे सबसे पहले शिकार बनाया गया ग्वालियर के एक स्ट्रींगर नबीन नायक को क्योकि नवीन नायक नें जयेश कुमार के हाथ की कठपुतली बनने के बजाय हिम्मत दिखाकर जयेश कुमार की शिकायत उपर कर दी इसकी खबर पुरे ग्वालियर सहित नोयडा में बैठे लोगो तक हुई कुछ दिन मामला शांत दिखा और उसके बाद जयेश कुमार की बजाय मोहरा बनाकर नवीन का विकेट चटका दिया गया और उन्हे खबरे करने से रोक दिया गया नवीन के बाद मुरेना के विजय के साथ भी ऐसा ही किया गया। अभी हाल ही में जयेश कुमार और ग्वालियर के स्ट्रींगर विनोद शर्मा के बीच खुले आम फुलबाग क्षेत्र में गाली गलोच हुई और इसकी खबर मनोज मनु को भी है। सब जानते है कि जयेश कुमार किसी तरह से सही नही है ग्वालियर में तो लोग कहने लगे है कि मनोज मनु का कोई राज जयेश कुमार के पास है क्योकि पत्रकारिता में जीरो होने के बाद भी जयेश कुमार का पत्ता नही काटा जा रहा है। बल्कि दूसरे सही लोगो को सहारासे निकाला जा रहा है जो यह बताता है कि कहीं दाल में कुछ काला है
...
written by jeetandra singh, April 16, 2011
HkkbZ lgkjk dks vc cslgkjk NksM dj vkSj dksbZ dke djks D;ks dh vc turk lc dqN tkurh gS vki yksx dsoy ljdkj dh rkjhQ ds vkSj Hkwr][ktkuk ]vkRekvks ds jgL; ds flok fn[kkrs gh D;k gS Alkjk le; ljdkj dh cMkbZ esa yxs jgrs gS vc rks vkidk pSuy yksxks us ns[kuk gh can dj fn;k gS esus Hkh yxHkx nks ekg lgkjk le; ugh ns[kk D;ks dh esjs ikl Qkyrw le; ugh vkSj vki vxj dqN T;nk ijs’kku gS rks gekjs ftys ds lgkjk le; ds laoknnkrk dh rjg tqxkM yxkdj fdlh Bsdsnkj ds lkFk fpid tkbZ; ;gk fQj LokHkheku ds [kkfrj vkt gh LFkhik ns nhft;s AthrsUnz flga tkVo iUUkk
...
written by rajkumar sahu, janjgir, chhattisgarh, April 15, 2011
सहारा में ही जब स्ट्रिंगरों को सहारा नहीं मिल रहा है तो फिर सहारा, दर्शकों की समाचार भूख को मिटाने कितना कामयाब हो पाएगा ? सोचने पर विवश करता है। वैसे सहारा बना नाम है, मगर पैसे के लालच में अपनी घटिया फितरत पर उतरना आना मानवीयता के दृष्टिकोण से ठीक नहीं है।
...
written by Rajesh K Rai, April 15, 2011
प्रभाकर जी आपने सही बात कही है. सहारा अपने स्ट्रिंगर्स को पैसा कहाँ से दे? स्टिंगर्स खुद कमायें और लाकर दें तो चैनल चले. मेहनती स्ट्रिंगर्स कम रहे हैं जैसे एक ही स्टिंगर ने एक माह में १२ लाख के एड दिए और १५ फीसदी कमीशन के १,८०,००० कमाए. स्टिंगर न्यूज के बिल के भरोसे रहेंगे तो परेशान होंगे ही.

सहारा समय को एड नहीं मिल पा रहे हैं, क्योंकि राजधानी भोपाल,ग्वालियर, इंदौर, जबलपुर, सतना, कटनी जैसे शहरों में प्रमुख केबल ऑपरेटरों ने (डीजी केबल, ए सी टी केबल) सहारा का बायकाट कर रखा है. टी आर पी की वाट लगी पड़ी हैं और सहाराश्री को टीआरपी के बजाय जीआरपी का चार्ट दिखाना भी मुश्किल हो रहा है. एड की वसूली हो नहीं पा रही है.

सुबह के समय आधे घंटे का स्लाट केवल साढ़े सात हजार में बेचा जा रहा है ताकि चैनल पर एड दिखाते रहें. शिवराज सिंह और अमन सिंह की मदद के बावजूद चैनल नहीं दिख रहा. बडवानी जिले का कलेक्टर केबल के लोगो को फोन कर रहा है कि भैय्या चैनल चलवा दो, पर उसकी कोई नहीं सुन रहा.

सहारा के एड विभाग की सुपरस्टार रक्षा श्रीवास्तव, शैलेश उपाध्याय, अनीता तेजवानी ने सहारा छोड़कर दूसरे चैनल में चले गए. डिस्ट्रीब्यूशन हेड आशुतोष को हटा दिया गया. अब चैनल दिखता नहीं, इसलिए एड नहीं है. पेरा-बैंकिंग विभाग ने पैसे देना बंद कर दिया.
smilies/sad.gif
...
written by rajesh sthapak 09329766651, April 15, 2011
sahara ke nam se pement ka rona rone wale anjan patrkar bhai news sektar me sahar etv or sadna jese hi chenal pement to kr rhe h baki unki socho jo rupye lekar ID bench rhe h mene bhi sahara me kam kiya h kintu pement stringro ki laparwahi se km mili h jab hm bil hi shi nhi bhejenge to bil ayega kha se fir aaj ke samay me akadh esha stringar batla do imandari se kam kr rha h sbhi ne sahara ke nam se apni dukane khol rkhi h mujhe sahara se nhi sahara me kam karne wale chor adhikariyo se takleef thee to mene khulkr apne nam se virodh kiya tha choro ne sajish rch kr mujhe to bahar kr diya kintu aaj we chor adhikari bhi bahar kr diye gye h - rajesh sthapak 09425426651
...
written by PRABHAKAR, April 14, 2011
SAHARA NE APNE STRINGARON KO DALALI SIKHA DI HAI.KUCHH NE TO SUB BROKER BHI BANA LIYA HAI.LIHAJA IN STRINGARON KO KOI KHAS DIKKAT NAHI HONE WALA.

Write comment

busy