नरेंद्र मोदी को अगले जन्‍म में मुसलमान होना चाहिए

E-mail Print PDF

: राजनीति में जीत के लिए पैसा बहुत जरूरी : मेरा एक क्रूसेड था एचआईवी और टीबी के मरीजों की देखभाल के लिए जब मैंने शुरू किया तब सोचा नहीं था कि कैसे शुरू करूंगी। बड़ा दु:ख होता था वैसे लोगों को देखकर जिनके पास शरीर के नाम पर महज एक ढांचा होता था। दुख हुआ और शर्म आई कि मैं भी इंसान हूं। तब मैंने तय किया कि लोग जिसे छूने से डरते हैं, अगर मैं उन्हें रोल मॉडल बनकर बताऊं तो कुछ बेहतर हो सकता है। यह बातें कही नफीसा अली ने सीएनईबी के शो 'जब वी मेट' में।

नफीसा अली ने कहा कि आज के जमाने में अगर मां-बाप हिम्मत नहीं देंगे तो कोई बच्चा आगे नहीं बढ़ सकता। मैं अगर अपने जीवन में कामयाब हो पाई तो अपने मां-बाप की बदौलत क्योंकि उन्होंने मेरी हर इच्छा को पूरा समर्थन दिया। 17 साल की उम्र में नेशनल तैराकी चैंपियन रह चुकी नफीसा अली ने आगे चलकर 'मिस इंडिया'  का खिताब भी जीता। उन्होंने कहा कि तब और आज के वक्त में फर्क आ गया है। तब अपने दम पर जाना होता था अब कई तरह का सहयोग मिलता है। अब तो बोलने और चलने की ट्रेनिंग भी दी जाती है।

राजनीति में आने के बारे में उन्होंने कहा कि इसके जरिए लोगों की जिंदगी में बदलाव लाने के लिए एक बड़ा प्लेटफार्म मिलता है। कांग्रेस के टिकट पर ममता बनर्जी के खिलाफ 2004 का लोकसभा चुनाव लड़ चुकी नफीसा अली कहती हैं कि 'मेरे हिसाब से ममता बनर्जी अब सीएम बनने जा रही हैं'। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा नरेंद्र मोदी को अगले जन्म में पक्का मुसलमान बनना चाहिए तब उनको पता चलेगा कि कितना दुख दिया है,  उन्होंने गुजरात में मुसलमानों को।

नफीसा अली ने कहा कि आज के दौर में राजनीति में वंशवाद का जोर है और आम आदमी के लिए बड़ा मुश्किल है। इतना ही नहीं पैसा बहुत बड़ा हिस्सा बन गया है जीत के लिए। अन्ना हजारे के अनशन पर उन्होंने कहा कि इससे जोश भर गया हमारे अंदर। युवा सोचता है कि आवाज कैसे उठाए उसे एक रास्ता मिल गया। नफीसा अली ने यह भी कहा कि भ्रष्टाचार को लेकर लोगों की मानसिकता में बदलाव जरुरी है। 'जब वी मेट'  के इस एपिसोड का प्रसारण रविवार 24 अप्रैल को दोपहर 2:30 बजे होगा और इसका दोबारा प्रसारण शुक्रवार 2:30 बजे होगा। प्रेस रिलीज


AddThis