तीन महीने में हो जाएगा उपेंद्र राय की किस्मत का फैसला

E-mail Print PDF

सहारा न्यूज़ नेटवर्क के डायरेक्टर (न्यूज़) उपेन्द्र राय के विरुद्ध मिली शिकायत पर देश की सर्वोच्च जांच एजेंसी सीबीआई ने प्रारंभिक जांच शुरू कर दी है. ज्ञात हो की उपेन्द्र राय के विरुद्ध प्रवर्तन निदेशालय ने सीबीआई की शिकायती पत्र लिखा था, जिसमे यह कहा गया था की कॉरपोरेट दलाल नीरा राडिया को बचाने के लिए सहारा न्यूज़ के उपेन्द्र राय ने निदेशालय के अधिकारियों को दो करोड़ बतौर रिश्वत का ऑफर दिया था ताकि मामले को प्रभावित किया जा सके.

यानि नीरा राडिया को बचाने के लिए उपेन्द्र राय खुलकर मैदान में उतर चुके हैं. प्रवर्तन निदेशालय द्वारा लिखे गए पत्र के आधार पर सीबीआई ने मामला दर्ज कर लिया है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने अपने सूत्रों के हवाले से यह खबर दी है कि प्रारंभिक जांच के लिए मामले को रजिस्टर्ड किया जा चुका है और जल्द ही उपेन्द्र राय को पूछताछ के लिए सीबीआई कार्यालय से सम्मन भेजा जाएगा. पीटीआई के सूत्रों ने इस बात की भी जानकारी दी है कि प्रारंभिक जांच की समय सीमा तीन महीने राखी गयी है यानि तीन महीने के अंदर ही उपेन्द्र राय की किस्मत का फैसला हो जाएगा और इस बात का भी फैसला हो जाएगा कि उपेन्द्र राय सहारा में कितने दिन के मेहमान हैं.

हालाँकि उपेन्द्र राय अपने उपर लगे सभी आरोपों को बेबुनियाद करार दे रहें हो लेकिन सवालों के जच में तो वो हैं ही. आखिर आम लोगों के मन में यह सवाल तो है ही कि आखिर प्रवर्तन निर्देशालय जैसे जांच एजेंसियों को उपेन्द्र राय से कोई निजी दुश्मनी तो हो नहीं सकती कि उनके विरुद्ध सीबीआई को शिकायत करना पड़े. आखिर निदेशालय के अधिकारियों के सिर्फ उपेन्द्र राय का ही नाम क्यों लिया. हालांकि अब तो मामला सीबीआई कि जांच के दायरे में है लेकिन इसमें कहीं कोई दो राय नहीं हो सकती कि पूरे प्रकरण में मीडिया में ऊंचे पदों पर बैठे कई लोगों के दामन दागदार है. वक्त आने पर यह भी पता चल जाएगा कि हाई प्रोफाइल टू-जी स्पेक्ट्रम घोटाले और कॉरपोरेट दलाल नीरा राडिया को बचाने में किन-किन लोगों की भूमिका रही है. लेकिन एक बात तो तय है कि मीडिया कि साख दांव पर है, और यही स्थिति रही तो मीडिया का और भी वीभत्स चेहरा नज़र आएगा.

लेखक अनंत कुमार झा झारखंड की पत्रकारिता में एक दशक से सक्रिय हैं. प्रिंट और टीवी दोनों माध्यमों में काम कर चुके हैं. इन दिनों दिल्ली में हैं.


AddThis
Comments (12)Add Comment
...
written by media person, May 19, 2011
upendra rai sahi me acha aadmi nahi. jha sahab me aapse sehmat hu jab se sahara join kiya hai tab se sahara ka haal be haal hai.upendra rai ne sirf apne jaankar logo lo moti salary par rakha hai baaki purane employees ke liye kuch nahi kiya wo aaj b bure haal me hain.
...
written by arun kumar, May 16, 2011
upendra jee ko main das salo se mubai fir delhi mai patrkarita karte dekh raha hoon...ek se badhkar ek story kar inhone apna sikka jamaya hai...jo birle kar pate hain..aaj ye sahara news ke head hain..yani zameen se aasman tak ka safar taya kiya ...inhone jis tarah se tarakki ki hai uska jha jaise logo ko sammam karna chahiye..kuchh bhi likhne se pahle inhe lakh bar sochna chahiye...kahi yaisa to nahi ye rai ki itani kam umar ki uplabhdhi se jal bhoon to nahi gaye hain...ya fir inka mansik halat bigad gayi hai...yaad rakhen abhi rai par sirf aarop lage hain...yase mai jha khud ko bhagwan ya fir nyadhish banane ki koshish na kare...nahi ho sakta hai jha khud andar pahoch jaye..
...
written by ek reporter, May 08, 2011
झा जी मुझे लगता है की आप भविष्यबाणी अच्छा कर लेते है और करे भी आप क्यूँ नहीं आपकी जात भी भी तो है पंडित वाली
जरा अपनी किस्मत का भी तो करो ,अरे भी उपेन्द्र राय साहब को मै भी जनता हु एक छोटी से मुलाकात या मीटिंग के बाद से क्या प्रतिभा और उच्य विचार
के धनि वयक्ति है , झा जी जरा सोचो किसी मंच पर कुछ कहने से पहले आप भी एक पत्रकार हो मान लो आप रांची में काम रहे थे झारखण्ड के मुख्य मंत्री मधु कोड़ा ने जो घोटाला किया और जाँच एजेंसी सबंधित किसी न्यूज़ कवर करने और कोई भ्रष्ट अधिकारी अगर आप पर ही आरोप लगा देता तो क्या आप गलत हो जाते आज की पत्रकारिता का जो ये हाल हुआ है उसके पीछे भी आप जैसे लोगो की बजह से ही हुआ है जो दुसरे पर कीचड़ उछलने में लगे रहतो हो
हमारी आई पी सी की धारा में भी आरोप बिना सिद्ध किया आरोपी को सजा नहीं डी जाती लेकिन आप सबो ने तो उपेन्द्र राय जी जैसे एक निर्विक पत्रकार को
दोषी करार दे दिया समय है आज के पत्रकारिता में एक दुसरे तली पीटना बंद करो और अपना काम करो और बात रही ईडी भी की अधिकारी की तो आप जान ले की आज के समय अधिकारी से बड़ा चोर कोई नहीं है भारत में यहाँ तक की नेता भी उनसे काम ये बात मै इसलिए कह रहा हु की काम अधिकारी ही करते है नेता तो इनका साझेदार होता हो
...
written by ramesh kumar, May 06, 2011
झा जी आपने बिल्कुल सही लिखा...उपेंद्र राय जैसे लोग मीडिया पर कलंक है...इन लोगों को मीडिया परिवार से बहार कर देना चाहिए...ये सच मैं दलाल है...और इन्होंने पत्रकारिता को बदनाम कर दिया है...रमेश कुमार
...
written by media person, May 05, 2011
Ab to sach mein lagne laga hai ke sahara group mein Upendra Rai aur unke chamchin ke gine chune din rah gaye hain kyonki Sahara shri is dalal ko apne group mein rakh kar sarkar se panga nahin le sakte aur gar nahin hataya to sarkar inki neev hila kar rakh degi. Ab to bas ye hai ki sahara ji faisla kintni jald ldete hain.
Upendra Rai ne jis kadar imandar logon to side line kar chamchon aur dalaon ko uchch padon par asin kiya hai woh asal mein is kabil hi nahin hain.
Agar baat karein Rajnikant ki jo samay head hain unko to bas patrkarita ke naam par astrology based programme hi dikahna aata hai woh adadha adhoora. Kahe ko to wo editor hain lekin agra pandit ji kah dein bahar mat niklo dasha thik nahin hai to woh bahar na niklein. Sirf itna hi nahi ye mahashay kaam to karne ka dum to bhartey hain samy ke saath lekin Ravi ke saath mil kar apna astrology based wabe site launch karte hain taaki gar sahara min daal na galey to panditayee ka jhoota dhandha chalta rahe.

Ab agar baat karein manoj Manu ki to use Chamacha giri se hi fursat nahin hai.
Jahan tak UP head ka sawal hai usey to char line editorial ka likhna bhi nahin aata lekin baatein aisi ki har waqt munh se gaali hi nukalti hai.
Sirf editorial hi nahin Upendra Rai ne sirf editorial hi Nahin Technical mein bhi aise logon ko laayaa hai jinhein technical ka T bhi nahin pata hai. unhin logon mein se ek ka naam kisi mahila ke saath chhed chhad se bhi juda tha lekin unka koi kuchh nahin bigad saka kyonki usey upendra Rai ne hi laayaa tha. Techncal mein agar baat karein Rajeev Dixit ,P A Bhakta chalam aur Shayam acharya ki to ye teeno Gandhi ji ke teen bandar ke samaan hain jin hein unka kaam aana to door ki baat unhein apana role bhi nahi pataa is liyee ye teeno din ghoomte rahte hain aur shaam hone ka intezaar karte hain taki suryaast hote hi bahar nikal kar daaru ki bottle kholi ja sakey.
Ab charcha karein agar shri maan R S Chauhan ki to woh kaam to kartey hain Sahara ke liye lekin Channel set ka kaan Karne jatey hain Vijay Rai kaa jo ki sam bandh mein Vijay aur Upendra Rai ke relation mein maaney jaatey hain.
arthhat ant mein asamy tera raam hi sahara
...
written by media person, May 05, 2011
adafaf
...
written by ashu, May 05, 2011
श्री झा साहब आपको क्या सहारा ऑफिस से फ़ोन आया है या आपकी कोई सेटिंग है जो आप बोल रहे हो ३ महीने ...........हाँ इस खबर से यह जरूर लगता है की आप की उपेन्द्र राय से कोई दुश्मनी है या आप उनसे जलते हो या फिर आप सहारा ज्वाइन करना चाहते हो इस तरह अपनी भड़ास किसी मंच पर मत निकालो आप खुद एक जोक बन जाओगे.......
...
written by kumar kintu, May 05, 2011
Jha sahab Kisi Ke uper arop lagna aasan hota hai koi bhi kisi bhi prakar ka aarop laga sakta . aap ke es blog ke padne se ye pata chal;ata hai ki aap bhi bahut bade khiladi ho aur aapka aarop lagane ka mansa sahi nahi hai
...
written by Md. Afroz, May 05, 2011
Mr Jhan mai aap ke upar comment to nahi karna chata hoon lekin Upendra Rai ke bare me likh kar aap ne khud ko is kabil bana liya hai ki log aap ko bhi padhe,aisa log apne ko famos karne ke liye karte hai isme koi nai bat nahi hai.Mr jhan aap ki lekhni ko maine bahoot dhyan se padha isme ek bat to spast hai ki aap SAHARA ke bare me jankari rakhte hai jaisa ki aap ne likha hai ki 3 month me faisala ho jayega ki Mr Rai SAHARA me kitno din ke mehman hai,aap ka yehi statement aap ke man ki bat kahne ke liye kaphi hai ki aap ke man me Mr Rai ke prati kitna `dwesh aur irshya` hai ya to aap SAHARA me Director banne ki taiyari me hai ya to aap apna nam isi tarah ke logo ke sath jodte rahte hai ki log aap ko bhi jane, ya to aap ki bhi jholi me kuch paise kisi ne bira diya hai.aap ko mai ek salah de raha hoo ki agli bar aap Anna Hazare ke bare me kuch aisa hi likhe aap ko aur bhi log padhege.
Dhanyabad
Er. Md Afroz
Gurgaon Hariyana
...
written by gumnam, May 04, 2011
jee bilkul magar jhoot ki umar badi nahi hoti theak usi tarhan upainder rai jhoot hain...jo apno ko sahara main bhar rahe hain...aur sahara employs ki badduain un ko mill rahi hain aur agar bhagwan hai to upaindder rai teen mahene nahi sirf teen din ke mehman hain...aur sahara ki parampara ke hisab se to sahara daghabazon aur galat ka sath kabhi nahi deta...
...
written by PC Ravi, May 04, 2011
अनंत झा साहब को ये कैसे पता कि उपेंद्र राय के बारे में फ़ैसला तीन महीने में हो जाएगा? और ये उन्होंने कैसे लिख दिया कि वे सहारा में कितने दिन रहेंगे इस का निर्णय भी हो जाएगा? क्या अनंत झा भविष्यवक्ता है? ज्योतिषी हैं? कोई डाती महाराज हैं? सुब्रत राय, जेबी राय, स्वप्ना रॉय, सोमांतो राय, सुशांत राय हैं? क्या उन्हें सहारा की महान परंपरा मालूम है? उपेंद्र राय जो भी कर रहे हैं सहारा के लिए कर रहे हैं...क्या अनंत झा साहब को पता है कि जब उपेंद्र राय सहारा में नहीं थे, स्टार में थे, तब भी सुब्रत और नीरा के लिए ''काम'' करते थे, जिसके ऐवज में उन्हें दस लाख रुपया महीना मिलता था और सहारा की एक ''बड़ी कार'' 24X7 शौफर सहित रहती थी?
...
written by pratima shukla, May 04, 2011
apne sahi kaha jha sir sochna padega ki media apni sacchai ke liye jana jata h aj wahe media chand paiso ke liye bika ja raha h.

Write comment

busy