वीओएन न्यूज चैनल के पीछे पड़े उत्तराखंड के नेता और अफसर!

E-mail Print PDF

देहरादून प्रशासन ने देहरादून शहर में वीओएन चैनल का प्रसारण दो बार रुकवाकर लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला किया है। 14 मई से देहरादून में वीओएन का प्रसारण प्रशासन ने केबल में रुकवा दिया ताकि सच्चाई को दबाया जा सके. इसके खिलाफ मीडिया के लोगों ने सचिवालय में धरना प्रदर्शन किया. पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी समेत कई लोगों ने धरना स्थल पर आकर मीडिया पर अंकुश की खिलाफत की है.

मीडिया समिति के अध्यक्ष देवेन्द्र भसीन ने धरनारत पत्रकारों को आश्वस्त किया कि सरकार ने ऐसा क्यों किया और किस स्तर से किया गया, इसका पता कर मामले को जल्द निस्तारित किया जाएगा. लेकिन पत्रकारों ने प्रसारण शुरू होने तक विरोध जारी रखने का एलान कर दिया है. देहरादून से प्रसारित हिन्दी समाचार चैनल वॉयस ऑफ नेशन उत्तराखंड सरकार और प्रशासन के लिये गले की हड्डी बना हुआ है. चैनल ने विगत दो माह के भीतर एक के बाद एक खुलासे करके कई अधिकारियों को जनता के सामने कटघरे में खड़ा कर दिया है.

नानघाट पेयजल योजना के निर्माण में धांधली, कैग रिपोर्ट में पकड़ी गई वित्तीय अनियमितता, बाबा रामदेव के गायब गुरु का मामला, सड़क निर्माण में धांधली, ढैंचा फर्जी बीज वितरण में करोंडों का घोटाला, बाल विकास विभाग में एक्सपायरी डेट के नमक खरीद और भुगतान, पेट्रोल पंपों में घटतौली, मृत व्यक्तियों के नाम पर स्टांप वैंडरिंग, महिला नेत्रियों द्वारा नौकरी दिलाने के नाम पर लूटने वाले गिरोह का पर्दाफाश और उत्तराखंड के मुख्य सचिव सुभाष कुमार द्वारा फर्जी दस्तावजों के तहत नौकरी पाने की पड़ताल समेत कई मामले खोले हैं जिसके बाद चैनल पर लगातार ईमानदार खबरों को बंद करने के लिये दबाव बनाने की कोशिश की गई.

जब चैनल ने अपनी मुहिम जारी रखी तो अंततः 14 मई 2011 को चैनल का प्रसारण देहरादून में चार घंटे तक दोपहर में रोका गया. शाम को जब चैनल ने जिलाधिकारी कैंप कार्यालय में चल रहे गड़बड़झाले का खुलासा किया तो फिर से केबलों के जरिये प्रशासन ने चैनल का प्रसारण रुकवा दिया गया. वीओएन के समाचार सम्पादक राजीव रावत ने कहा कि सवाल यह है कि चैनल के प्रसारण को देहरादून में रोका गया, वह भी बगैर किसी नोटिस या लिखित आपत्ति के. क्या उत्तराखंड प्रशासन लोकतंत्र से ऊपर है जो चौथे स्तंम्भ का गला घोंटने का प्रयास कर रहा है या प्रशासन यह तय करेगा कि कौन सा समाचार आने चाहिये और कौन सा नहीं?


AddThis
Comments (30)Add Comment
...
written by keshav, July 07, 2011
duniya golmal hai magar maal nahi hai ab na jane channel ka kya hoga
...
written by navya raichand, May 27, 2011
VON se humein bahut si ummeed thi . par afsos ye channel humaari ummeed par khara na utar saka . bhai sarkaar se panga lene ko isse kaha kisne tha? Ab vahaan ka saara karya thap ho chuka hai ; aakhir channel ne apna saara saman samet hi liya . Ab vahaan ke saare karamchaari berozgaar ho chuke hain . kai to khaali haath - rote hue apne ghar chale gaye hain . par maneesh verma ko isse kya ? vo to doosron ke khoon paseene ki kamaai par aish uda raha hoga .
mujhe to shak hai ki ye kahin maneesh verna ki chaal to nahi , taaki usse apne karamchaariyon ko paisa na dena pade . Kyunki 2012 mein vidhaan sabha ke chunaav hone vaale hain aur aise samay mein koi channel bandh kaise kar sakta hai .
Ant mein main bhadas 4 media ko dhanyavaad kehna chaahoongi jisne humein apni bhadas nikalne ka ek mazboot platform diya hai .
...
written by Asmit, May 25, 2011
Khoon khaulta hai jab loktantra ke chauthe stambh par koi hamla karta hai, par is stambh ko kai bar patrakar hi peet patrkarita aur amanviya vyvhar se deemak ki tarah khokhla banane mein koi kor kasar nahin chhorhte. VON ke malik bhi aisa hi kar rahe hain. Manish verma ne jis andaz mein channel shuru kiya tha vah to theek tha par ve Imandar sabit nahin hue. Manish verma ne janta ko hi gumrah nahin kiya balki apne karamchariyon jo ki kisi bhi sansthan ki poonji hoti hain, unhen bhi dhokha diya. salary tay ki 20000 pm lekin paisa ya to diya hi nahin ya fir keval 1000 ya 2000 rupaye 2-3 mah men pakdha diye. yah bhi nahin socha ki jo karmchari Bihar, Delhi, MP se aa rakhe hain aur jinhonne tiffin laga rakhe hain unhen uska paisa bhi dena hai. VON karmiyon ke saath Imandar nahin raha to kiske saath rahega. Meri Manish Verma ko salah hai ki ve pahle apna ghar majboot karein. Agar aap majboot honge to janta khud hi cable operator se is channel ko dikhane par jor deti ya cable katva deti. DM ki kya majal ki vah aik channel ka cable par prasaran rukva deta. Manish ji janta se judiye. Kahin to Imandari dikhayiye. karamchari to vishvakarma bhagvan ki tarah hain unhen poojiye. fir dekhiye aap aur apka channel kaise tarakki karta hai. appka shubhchintak.
...
written by aaliya khan, May 22, 2011
Voice of nation aaj shoshan ka aik aujar ban gaya hai. karamchariyaon se 12 ghante kam lena, weekly off na dena aur unhen salary na dena kahan ka kanoon hai. saikron karmiyon se mehnat karakar unka khoon choosne vala manish verma ke saath to yah hona hi tha. Verma ko pata hona chahiye ki himachal pradesh ke Lahul spiti distt. mein adhikansh logon ke naam tibetian ki tarah aur pehnava bhi vaisa hi hota hai. ve bhi buddhist hain. von ne chief secy ke bare me kitna jhooth likaha. yah saaf hai. meri salah hai ki karmiyon ka shoshan karne vale par labour act ke tahat shikanja kasna chahiye. von jhooth ka package hai
...
written by ek patrakaar.., May 20, 2011
voice of nation ka kaam hamesha se hi dalali karne ka raha hai.... aur isne hamesha hi...dalali ki hai... seedhe-saadhe logo ko patrakar banane k naam p isne khoob paisa aitha hai... ye jane bina k wo patrakar wo paisa karz maang kar laae the ya phir... kahi blackmailing kar..k aur uske baad unhone kitni black mailing ki..... voice of nation ko hamesha k lie band kar dena chahie... isi mai electronic media ka bhala hai.... aur rahi baat n.d.tiwari ki to wo maidan mai islie aa khade hue hai, kyu ki.. unhone khud hi voice of nation ko chalane k lie paisa diya hai..aur lagatar de rahe hai.....
sayad aap logo ko yaad hoga ki abhi ek saal pehle n.d.tiwari ka sex scandel samne aaya tha jise ek local channel ne telecast kia tha.... tab lagbhag sabhi channels aur newspapers ne us khabar ko dikhaya tha... n us list mai sirf VON hi aisa tha jisne n.d.tiwari k haq mai baat ki thi....

kya aapko nhi lagta k VON jaise channels ki aad mai aaj hamare desh k ye bhrast neta ek-p-ek galat kaam kar rahe hai....
ek din VON ki sthithi wo hogi jise dekhkar vaakei mai log kahenge... k haan ye hi hasra hona tha is ka....

kehte hai na 100 din chor k aur ek din to police ka aata hi hai.....

pure bharat se sirf VON ne dalali hi ki hai aur kuch nahi..... islie VON jaise channels ka band ho jana hi hamare desh aur yaha ki janta k hit mai hai...

ini logo ne saaf-suthri media ko bhi bhrast kar dia hai...

aur agar media bhi bhrast ho jaegi sabki tarah to hamare desh ko doobne se koi bhi nahi bacha sakta... ye mai likh kar de raha hu....

aaj agar mere paas itni power hoti to mai VON aur iski tarah jin channels ne bhi bhrastachar ko media mai badhawa dia hai mai unhe turant hi band kar deta...
magar afsos mai nhi kar sakta....
Declaration:- maine yaha jo bhi likha hai wo 100% sach aur sirf sach hai... mai VON ka virodhi nahi hu... sirf iski policies ka virodhi hu...
...
written by davil thapar, May 19, 2011
यशवंत जी आपके वेब पोर्टल का रेगुलर पाठक हूँ . लेकिन आपसे कमेन्ट के माध्यम से एक बात कहना चाहता हूँ . आपने जिस अंदाज में VON के बारे में लिखा हैवो तो आपने वों की आधिकारिक भाषा में लिख दिया .लेकिन ये भी जान लीजिये की वों में कितने लोगो को उनका पैसा नहीं मिला .तक़रीबन 10 लाख सैलरी बाकी है लोगो की .और मनीष वर्मा भी बूढ़े नारायण दत्त तिवारी को लेकर झंडा बुलंद कर रहे है . और इस कहावत को भी चरितार्थ किया है .....................सौ-सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली . बूढ़े बूढ़े नारायण दत्त तिवारी को भी परेशान कर रहे है
...
written by aapka shuvchintak, May 19, 2011
मनीष जी ,von चैनल अपने लगभग २ साल पुरे करने की कगार पर खड़ा है.इन २ सालो मैं आपने बहुत उतार चदाव देखे है ये मैं जानता हु .मुझे भी बहुत दुःख होता है जब देखता हु की चैनल अपनी कोई भी खास शाक नहीं बना पाया है .आपने लोग बदले .....नतीजा क्या निकला ये आप खुद जानते है .शुरूआती दौर मैं इस चैनल पर आपने तो पैसा लगाया था लेकिन हमने अपना खून पसीना von पर लगाया इसकी सफलता और विफलता पर आपके बराबर ना सही ,लेकिन आपसे कम भी दुःख नहीं होता है .....बस आपसे दरख्वास्त है लोग बदलने से कुछ नहीं होगा कंटेंट पर ध्यान दीजीये .फिर देखना ये channel no 1 channel ban jayega...aapka shuvchintak.gud luc
...
written by surendra singh, May 18, 2011
von channel ne drhradun mai pahali baar live ki suruat ki . bahut log is se jude lekin koi bhi ise dhng se chla na dsaka sayad is liya ki o pahli baar unko is channel me eak position mili aur uspe khre na utar paye. kai aise bhi log aye the jinhon ne sapne to bahut dikhaye par udaan naa bhar na sake. iski wajha kya thi o achi tarah se jante honge ya phir menegement.mai jayada to is channel ke bare me nahi kah sakta ki iska bhvisya kya hoga par itna janta hu ki is channel ko ache dhang se chlaya jaye to jarut age jayega nahi to nahi
...
written by prabha sharma rai, May 18, 2011
manish ka maksad keval blackmailing karna hee raha hai. kabhi ND ko bap bana kar to kabhi congress ke sahare. saja to milni hee chahiyee. apne bachchoo ke bare mai sochkar sach bolna Seekho manish. pet to kutta bhi palta hai re.
...
written by prabha sharma rai, May 18, 2011
mai to kahti hu ki von kam se kam uttarakahand ka channel hai. paresani yah hai ki uske pas sahi mudde hai lekin unko pesh karne ki bhasha ekdaum ashist. sach kahe to kisi ko gariyane ki. ek our bat hai ki uska malik congresi hai. our hardum apni jogat mai rahta hai. aise aadmi ne chennel nahi kholna chahiyee. agar kholna hai no bolchal ki bhasha to sheekhee. tab to dr nishank theek hee kar rahe hai. koi karra pad jay to jail mai sadte rahenge manish babu.
...
written by ghk, May 18, 2011
von apane aap mai bahut bada channel hai. bas yahi kahana chahata hu
...
written by amit rawat, May 18, 2011
जब आप बेबाक होकर सफलता की सीडी चड़ते हो और कोई आपके सफलता मैं बाधा डाले तो सोचना वाकई आप सफलता की सीडी चढ़ रहे हो ......गुड luck ..
...
written by rakesh, May 18, 2011
chor chor mosere bhai aage aage dekho hota hai kya hai to lagegi hi
...
written by sriniwas pant, May 18, 2011
ek hi ulloo kafi tha barbad gulista ke liye][ yaha har sakh per ulloo betha hai anjam e gulista kya hoga? yahi he nishank sarkar------kewal 6 month jawab mil jayega_--sriniwas pant Dehradun
...
written by ek bhala manus, May 17, 2011
voice of nation news channel to channel ke naam par kalank hai jo sailrey bhi kai kai maheene tak nahi deta or uppr se nikalne ke baad chori ki report bhi likhwa deta hai
...
written by lalit kumar , May 17, 2011
लोकतंत्र के चोथे स्तम्भ से जो भी आज तक टकराया हैं...... उसका हमेशा पतन हुआ ...
जो भी लोकतंत्र के चोथे स्तम्भ से टकराएगा वो चूर- चूर हो जायेगा.......... ऐसा ही एक मामला मैंने छत्तीसगढ़ (रायपुर) में देखा .........जहा पर में हरिभूमि न्यूज़ पपेर में रिपोटर था.............हमारे ही स्टाफ के कुछ पत्रकारों कों थानाध्यक्ष ने बेवजह पीटा ......अगले ही दिन पूरा का पूरा स्टाफ प्रेस क्लब गया...और शहर के तमाम पत्रकारों ने धरना प्रदर्शन किया . .....अंत में रमन सरकार कों झुकना पड़ा....गृहमंत्री ननकी राम ने अगले ही दिन थानाध्यक्ष कों सस्पेंड किया .......... मतलब साफ है लोकतंत्र के चोथे स्तम्भ कि जीत हुई ... ................वोईस ऑफ़ नेशन ने अपनी पड़ताल के ज़रिए जिस तरह कि मुहीम छेड़ी है...............वो काबिले तारीफ है ...................... में उससे खुश हू..........................अभी तो आपने डीएम् कि नाक में दम किया है.................. मज़ा तो तब आएगा जब आप ................................ मुख्य सचिव कि लुटिया डुबोने के बाद निशंक के घोटालो का पर्दाफाश करो........................ उस दिन देखो................. वोईस ऑफ़ नेशन कि टीआरपी कहा जाती है..................
...
written by kailash bisht, May 17, 2011
Media loktantra ka wo stambh hai jise aj tak na to koi daba paya hai or na hi koi daba payega , or jis tareke se Voice of nation ke prasaran ko badhit kiya gaya hai to mujhe afsos ke sath hansi ati hai un satta ke dalalon par or un bhrast adhikariyon par jo shayad ye samaj baithe hain ki prasaran band karne se kuch nahin hoga voice of nation internet par bhi live prasarit hota hai or sirf dehradun me nahi balki pure Vishwa me. Patrakar hamesha dusron ki awaj ko buland karne sadak par utarta hai lekin ab jis tarike se patrakar khud apni ladai ladne ko sadak par utar rahe hain to us se ek batt saf hai ki ab manjil dur nahi or main aise bhrastachariyon ko bus yahi kehna chata hun ki ----------Aye hukmrano sambhal jao ab padtal or tej or nishpaksh hogi or sath hi Dhanyawad tamam mere patrakar bhaiyon ka jo humari padtal ke prerna hai , pure desh ke patrakaron ka bahut bahut abhar,Jai Hind Jai Uttarakhand.
...
written by chanderballabh phondani, May 17, 2011
लोकतंत्र में चैथे स्तंभ पर खतरा मंडरा रहा है। वो भी देवभूमि उत्तराखंड में। सहृदय,मिलनसार और पत्रकारिता से गहरा ताल्लुक रखने वाले मुख्यमंत्री के राज में। अफसोस इस बात का है कि क्या देवभूमि के नौकरशाह जनता के चुने हुए प्रतिनिधियों से बडे़ हो गये हैं। या फिर सब के सब शिखंडी और धृतराष्ट्र की जमात में शामिल होने की कोशिश कर रहे हैें। या किसी में भी सच का सामना करने की हिम्मत नही है। सवाल ये है कि आखिर कब तक कलम को तोड़ने की कोशिश होती रहेगी। ऐसे वक्त पर मुझे उत्तराखंड आंदोलन के मशहूर जन गीत पंक्तियां याद आ रही हैं... ‘‘क्या हुआ जो बावफा जल्लाद तेरे साथ हैं गम नही सब उत्तराखंडी लोग मेरे साथ हैें। एक दिन मुड़ जायेगी तेरी तरफ ये जान ले, आज जितनी नासमझ बंदूक तेरे साथ हैं ।’’
...
written by anil mittal, May 17, 2011
आदरनीय मिश्र जी सप्रेम नमस्कार आपका विचार पढ़ा दुःख हुआ की आपको किसी भी बात की जानकारी नहीं है या फिर आप जानकर भी अंजन बने हुए है श्रीमान जी में आपको बता दू एक वेबसाइट होती है भारत सरकार के सुचना विभाग की जिस में आपको चैनेल के लाइसेंस की जानकारी मिल जाएगी वेसे में उसका लिंक भी दे देता लेकिन में चाहता हु की जब आप इतना लिख सकते है तो उस साईट को भी ढून्ढ सकते है जहा से आपको पता लग जायेगा की चैनल का लाइसेंस है या नहीं ,, दूसरी बात २०० बच्चो के भविष्य की तो मान्यवर उन सभी बच्चो को नारायण स्वामी डेंटल कालेज में ही दोबारा पढाई शुरू हो गए है सरकार ने भी कालेज के और बच्चो के हित को मद्देनज़र रखते हुए ननेताल हाई कोर्ट ने कालेज को दोबारा खुलवा दिया है और कालेज को नाजायज़ रूप से बंद करने पर सरकार सहित अधिकारियो की भी खेचाई की जिसका प्रमाण आपको मिल सकता है अगर आप चाहे तो ,,,, मेरा आपसे अनुरोध है की अगर आपको जानकारी नहीं है तो क्रप्या जानकारी ले कर ही अपना विचार लिखा करे आपका तो में जनता नहीं लेकिन यह पोर्टल रोजाना करोडो लोग देखते है और पढ़ते है आपके एक गलत विचार से लोगो को दुःख हो सकता है ,,मेरा आपकी शान में गुस्ताखी करने का कोई इरादा नहीं था बस आपके पास तक सही जानकारी देना ही मेरा मकसद था
आपका अनिल मित्तल
...
written by anil mittal, May 17, 2011
वोइस ऑफ़ नेसन जिस दिन से शुरू हुआ है लगातार लोगो की बधाई बटोरता आ रहा है इतिहास गवाह है चैनल ने कभी भी दलाली नहीं की बल्कि दलालों के ,,, भ्र्स्ताचारियो के खिलाफ खबर का पर्सारण किया है ऐसा नहीं है की चैनल पर पहले कभी खबर रोकने का दबाव नहीं बनाया गया लेकिन चैनल कभी दबाव में आया ही नहीं आप सभी जानते है जब आप जनता की आवाज़ उठायेगे तो सरकार नाराज़ तो होगी हमें सरकार की चिंता नहीं हमने जनता की आवाज़ को सरकार तक पहुचने का जिम्मा उठाया है और जब तक आप लोगो का हम पर विश्वास है तब तक हमारी भ्र्स्ताचारियो के खिलाफ पड़ताल चलते ही रहेगी
अनिल मित्तल
...
written by Prem Arora 9012043100, May 17, 2011
वोइस ऑफ़ नेशन वी ओ एन चैनल अच्छा चैनल है..उत्तराखंड में एक कमी है अगर आप सरकार विरोधी या कोई भी सची न्यूज़ दिखा दो या लिख दो तो समझो आप निशाने पर आ गए. एक समाचार पात्र है सन्डे पोस्ट वोह हमेशा ही जनता के पक्ष में लिखता है..ज़ाहिर है जब संचार जनता के पक्ष में होगा तो वोह सरकार विरोधी ही होगा..तो उस संचार पत्र का पुराना विज्ञापन भी रोक लिया और नया तो मिलना ही क्या था...पुराने विज्ञापन का पेमेंट भी नहीं दिया....खैर पब्लिक ने साथ दिया और वोह पेपर फिर छापना शुरू हो गया...एक बहुत ही पुराना समाचार पत्र है नैनीताल समाचार...इसी के साथ भी येही हषर....हाँ एक मागज़ीने है पर्वत जन वो सरकार के विरुद्ध लिखती भी है और ऐड भी डंडे के बल पर लेती है...असल में उत्तराखंड में यह भांपा जाता है की इस शक्श का कद क्या है अगर वोह भारी पड़ सकता है तो प्यार से मना लो अगर कमजोर हो तो दबा लो....उत्तराखंड लाइव समाचार पत्र चंडीगढ़ से निकलती है विश्व भर में जाती है...उसको ऐड नहीं मिला क्यों की वोह जनता की आवाज़ बन गई है तो सरकार को उससे क्या लेना देना....और जब ढंग से छाप दी जाये या चला दी जाये तो कोई भी मीन मेख निकाल कर उसको बंद करवा दो या जो पत्रकार विरोध में बोलो उसको उठवा लो की नीति चल रही है...मनीष वर्मा को में निजी तौर पर नहीं जानता पर इतना पता है की जब पंडित नारायण दत्त तिवारी देहरादून पहुँच कर अकेले पड़ गए थे तो मनीष वर्मा उनके साथ हुआ करते थे...न में यह कहूँगा की २०० छात्रों का भविष ख़राब किया है...क्यों के मेरा मानना है अगर वोह छात्र या छात्राएं वास्तव में सच की लड़ाई को समझ रहे होंगे तो उनकी कलम और तीखा लिखेगी....किसी भी जनता के हित में खबर लिखने वाले या चलये जाने पर इस तरह की पाबन्दी लगा देना थीं नहीं है...कोई भी दूध का धुला नहीं...पर एक तरफ़ा फैसला भी ठीक नहीं...उत्तराखंड के शाशन पर्शाशन के अनेक चमचे bhadas4media पर भी निगाह रखते हैं और सूचना विभाग को बताते हैं की उत्तराखंड के बारे में आज इस पोर्टल पर क्या लिखा गया है...उनके माध्यम से में अनुरोध करूँगा की पब्लिक की आवाज़ उठाने वाले पत्र पत्रिकाओं को और टी वी चंनेल्स को भी विज्ञापन दें क्यों असली हकदार तो वोही हैं.....सादर प्रेम अरोड़ा
मनीष वर्मा भाई वी ओ एन की समस्त टीम के साथ हम खड़े हैं एक आवाज़ दे कर देख लो भाई आप
...
written by saurabh singh, May 17, 2011
padtal abi jari hai kyonki kai sfedposh abhi bhi benakab hone hai
...
written by krishnaa kandiyaal, May 17, 2011
प्रशासन की ये हरकत सरासर गलत है . वाकई उत्तराखंड में किस पत्रकारिता की दरकार थी वो राजीव रावत जी के वीओएन थामने के साथ आब पूरी होते हुए देख रही है . इतना स्पस्ट और बेबाक संपादक उत्तराखंड में शयाब कोई और नहीं है. इसलिए रेपोर्तेर्स ईमानदार होते हुए भी सही खबर नहीं देखा पाते. झारखण्ड में रफ़्तार चैनल को चला केर राजीव जी ने उत्तराखंड का नाम रोशन वहां भी किया. ऐसे क्रांतिकारी और उनकी टीम के साती कैलाश बिष्ट की साथ हम सब हैं. झुकना मत .... कृष्णा, tehri
...
written by saurabh singh, May 17, 2011
von ke parsaran ko band karke parsasn ne apne apko sawalo ke ghere me khada kar liya hai desh ke itihas me pehli bar aisa hua ki kisi parsasn ne aisi dabangai dikhai lekin von ki padtal abhi bi jari hai , afsos itna ki samne se var nai piche se ho raha hai agar uttrakhand parsasn me dum hai to samne se var kare pith piche var kayar karte or ha von abhi bi pdtal me juta hai kyoki abhi bhi kai sfed posh aise hai jo janta ki akh me dhol jhok rahe hai abhi pdtal jari hai
...
written by Sanjay Mishra, May 17, 2011
प्रिये यशवंत भाई खबर डालने से पहले चैनल की सच्चाई भी जान लीजिये.... इस चैनल के पास आज तक चैनल का लाइसेंस नहीं है.. इसके मालिक मनीष वर्मा २०० बच्चो का भविष्य अंधकारमय कर दिया है... फर्जी मेडकल कॉलेज नारायण स्वामी चलाकर.. मामला हाई कोर्ट में लंबित है... अलीगढ युनिवेर्सिटी में जिस प्रोफ़ेसर ने आत्म हटाया की थी उसका कारन भी येही बिना अनुमति के चल रहा चैनल है... एक नंबर के दलाल हैं
...
written by parveen kheda, May 17, 2011
VON KeSaath hai Hum
...
written by parveen kheda , May 17, 2011
Dehradun Ke Aala Adhikariyo ki Kis tarah Se Dhhajiya Udai Hai
VON NE Is ke lIYE Badhai Hai Patr Hai VON
...
written by D K dwivedi , May 17, 2011
Koi Ho Khilaaf Lakin Hum Hai VON Ke Saath
Neta Ab Daro Kyon Ki VON Hai Desh Ki Awaaz
D K Dwivedi Rudrapur
...
written by lalit , May 17, 2011
VON ke khilaaf duniya is liye hai
kyon such ka aiyna hai Voice of nation
...
written by rajeev , May 17, 2011
bahut galat hai such ko chhupana
aise logo ke khilaaf ho karyawahi

Write comment

busy