वायस ऑफ़ नेशन का प्रसारण फिर ठप, लगा ताला

E-mail Print PDF

देहरादून से प्रसारित वायस आफ नेशन न्यूज चैनल का प्रसारण तीसरी बार बंद हो चुका है. बताया जा रहा है कि एनएसपीटीएल का बकाया न चुका पाने के बाद इस चैनल का लिंक काट दिया गया.  बिजली का बिल पांच लाख से ज्यादा बकाया होने पर बिजली काट दी गई. कर्मचारियों की छह महीनों की तनख्वाह नहीं दी गई है. कई कर्मचारियों के खिलाफ चोरी की झूठी रिपोर्ट लिखा दी गई. कई कर्मियों के साथ बदतमीजी की गई.

सूत्रों के मुताबिक 26 मई की शाम छह बजे सारे स्टाफ को बहार निकाल कर ताला लगा दिया गया. स्टाफ के लोग चैनल मालिक मनीष वर्मा से अपनी सैलरी की मांग कर रहे हैं और इसके लिए धरना देने की तैयारी कर रहे हैं. बताया जाता है कि प्रबंधन ने चालाकी ये की है कि स्टाफ से पंद्रह दिनों की छुट्टी की अप्लीकेशन लिखवा ली है. इसके बाद ताला लगाया गया. पीसीआर और स्टूडियो पर ताला लटका हुआ है. स्टाफ को समझ में नहीं आ रहा कि ये क्या नाटक हो रहा है.

उधर, सूत्रों का कहना है कि चैनल मालिक मनीष वर्मा का दुर्भाग्य उनके पीछे पड़ा हुआ है. पहले ऐसे लोगों के हाथ में चैनल दे दिया जो चैनल ठीक से चला न सके, बाद में उत्तराखंड राज्य सरकार से पंगा हो गया, अब आर्थिक संकट आ खड़ा हुआ है. कभी एनडी तिवारी के करीबी रहे मनीष वर्मा ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि जिस चैनल को वो अपने प्रभाव व ताकत के विस्तार के लिए ला रहे हैं, एक दिन वही उनकी किरकिरी और संकट का कारण बनेगा.


AddThis
Comments (24)Add Comment
...
written by bhugtbhogi, June 16, 2011
voice of nation phir se kulega ye to pkka hai rhi manish varma ji ka to wo apni jgh teek hai lakin unke sath gddari ki gyi hai unme se ek naam hai pauri beuro chif a.k aggrwal ka jo sare ke sare pasin dkar gya yahan tak ki dusron se liye pasin bhi chukane ko tyr nhi hai ab aap hi btaeye channel bnd nhi hoga to kya hoga.yahan tak ki reporteron ke pasain bhi kha gya
...
written by keshav kumar, June 04, 2011
यशवंत जी नमस्कार ,
वायस ओफ नेशन के साथ यह दुर्भाग्य हरदम से उनके पिछे लगा रहा है । पिछले बार भी चैनल किसी न किसी कारण बस चालू बंद होता रहा है । पिछले 1सालों मे चैनल मे बहुत उतराव चढाव हुआ है , इतनी परेशानियों के बावज़ूद प्रबंधन ने इस पर शायद बिचार करना मुनासिब नही समझता है । जो कोई भी चैनल कि भलाई के लिए काम करता है शायद उसे काम करने कि अजादी नही होती है ।
चैनल के प्रबंधन के द्वारा यह कभी नही सोचा जाता कि इससे जुडे लोगो की क्या खबर है,क्या परेशानियां है । जब तक कोई भी प्रबंध संस्थान अपने से जुडे लोगों का दर्द नही समझता तब तक शायद वह सफलता को हासिल नही कर सकता ।
किसी भी संस्थान कि उन्नति मे उसके कर्मचारी तथा उन्से जुडे लोगों का साथ बहुत जरुरी होता है । खेद है कि इस संस्थान में इसकी प्राथमिकता नही के बराबर है । अगर भविष्य मे प्रबंधकों के द्वारा इसकी प्राथमिकता दी जाती है तो शायद इसका भविष्य सवर सके ।
धन्यवाद
...
written by davil thapar, May 31, 2011
aapne teekh kaha aap humko nahi jaante ..................lekin aapko aur aapke malik ko bhali bahti jaanta hoon .....wo kitne makaar aur jhoote aadmi hai .rahi sahi baat salary ki .kisi channel mein 3 mahine ya 4 mahine ki salary nahi bachti hai ............salar de di jaati hai ...rahi baat vigyapan ki ..............ye baat empolyee kyon soche .wo to apna kaam teekh se kar hi raha hai .ya kaam malik ke sochane ka hai ..usne apna malik wal kaam teekh se nahi kiya .isliye usko vigyaapn nahi mile ..........
last mein ek baat kahna chahte hoon ................jab aukaat nahi thi to channel khol kyon diya ...................aukat rahe tab uske baare mein sochana chahiye
...
written by anil mittal, May 31, 2011
सुशील भाई
आप मेरे बारे में बहुत कुछ जानते है मगर में आपके बारे में कुछ भी नहीं जनता मेरा आपसे अनुरोध है की किरपा करके मुझे भी उन लोगो से मिलवा दे जिन्होंने मुझे उघाई दी है अगर आप सच्चे है तो मेरे सहित जिन तीन नमो का आपने महिमागान किया है उन सभी को उघाई की रकम देने वालो से परिचय जरूर करा दे में आपका आभारी रहूँगा अगर आपके पास एक भी सच्चा आदमी है तो मिलवा जरूर दे वेसे मुझे लग रहा है की आप गलत नाम से लिख कर अपनी आप बीती बता रहे है किसी ने कहा है की आसमान पर थूका खुद के ही मुह पर गिरता है रही बात चैनल की तो में जहा का नमक खता हु वह गद्दारी नहीं करता आपका मुझे पता नहीं
...
written by sushil, May 31, 2011
to anil mithal
anil sahab nischit roop se apko vetan ki jarurat nahi hai aur na ap salary k liye kam karte hai.....mahoday ap har din 1000 ki ugahi kar nagad apne ghar le jate hai..is hisab se ap mahine me kam se kam 30,000 kama lete hai sirf vasuli se agar dav lag jaye to ye ankada 1 lakh bhi pahunch jata hoga...channel bhale hi kamai nahi kar pata ho lekin ap chandi kat rahe hai...jain tv channel me ap ne kai salo kam kiya salary waha bhi nahi mili lekin dehradoon me ap ne lakho ki property khadi kar li...verma ji k channel me aur property bana li...bina salary k ye chamatkar ap ne kaise kiya...apko manish verma ki chinta nahi balki apni kali kamai ki hai.....apki chavi kitni ujwal hai ye to dehardoon k purane patrakar bhali bhanti jante aur samjte hai.....verma ji apka channel bhale hi ghate me hai lekin ap k yaha kam karne wale 2-4 log kahi se ghate me nahi hai....mithal ji bhi unhi me se hai....dusra nam kailash bisht ka hai...inhone bhi bureo aur stringers se ab tak lakho kama liye hai...channel chale na chale inki kamai lagatar jari rehti hai...tisra nam rajiv rawat ka hai....ye bandhu bhi kamai k mamle me kisi se piche nahi.....verma sahab baki karmchario ko chodkar agar ye log apne ap ko ap k sath khada dikhate hai to iski ekmatra vahaj yahi hai ki inhe channel k madhyam se kali kamai karni hai..inhe chinta apki ya ap k channel ki nahi...inhe ye chinta satane lagi hai ki channel band ho gaya to inki kamai ka kya hoga......aastin k sarp ye log hai...jo ap ko das bhi rahe hai aur ap ko pata bhi nahi chal raha hai......jago verma ji jago..varna ye log to ap k hi channel se kama kama kar karodpati ho jayenge aur ap rodpati....
smilies/grin.gifsmilies/grin.gifsmilies/grin.gif
...
written by anil mittal, May 31, 2011
थापर जी
में भी मानता हु की मनीष वर्मा जी ने अपने कर्मचारियों की सलरी देने है अब आप मुझे यह बता दे की किस चैनल में कर्मचारियों की सैलरी बाकि नहीं होती थापर जी रही बात जानने की तो आप मुझे नहीं जानते और में आपको नहीं जनता लेकिन सच्चाई किसी परिचय की मोहताज नहीं होती रही बात नमक हरामी की तो मेने केवल यह कहा है की जिसका नमक खाया हो उसके लिए बुरा करनेवाला क्या अच्छा इन्सान हो सकता है मेरा तो मानन है की नहीं हो सकता मगर हो सकता है की आप उसे अच्छा मानते हो मनीष वर्मा ने जब से चैनल खोला है तब से नुकसान में चल रहे है सारे स्टाफ को लगभग तीन साल से सैलरी घर से दे रहे है विज्ञापन का कोई ठोर ठिकाना अभी तक नहीं हुआ है अब आप खुद सोचे की एक चैनल का कितना खर्च होता है वो सब अब तक मालिक ने हु उठाया है सैलरी की अगर बात करे तो सभी चैनल वाले शायद ही सिल्रे टाइम से देते हो अगर हम कुछेक चनेलो को छोड़ दे तो लेकिन बात वही बड़ा करे तो कोई बात नहीं छोटा कर दे तो मरो झापड़ अंत में आपके लिए ,,,,, वो कत्ल भी करते है तो चर्चे नहीं होते >> हम आह भी भरते है तो होते है बदनाम
...
written by davil thapar, May 31, 2011
मित्तल जी आप जो कोई भी ..........................मैंने आपके बारे में ठीक तरीके से नहीं जानता .......................आप कैसे है और क्या है ............और किस तरह के पत्रकार है.....और आप VON क्या ओहदा में रखते है ...लेकिन आपसे इतना ही कहना चाहता हूँ की आपने नमक हरामी शब्द का गलत इस्तेमाल किया है ......मित्र मैं आपको बता चाहूँगा .....कोई भी एम्पोल्यी जब नौकरी करने जाता है तो पैसे लेकर काम करता है और मालिक और एम्प्लोयी का रिश्ता सिर्फ ऑफिस तक होता है .ऑफिस से निकलने के बाद कोई मालिक और कोई नौकर नहीं होता .रही बात मनीष वर्मा जी की वो तो एक नंबर के झूठे आदमी आदमी है .कितने एम्प्लोयी का पैसा मार रखा है चाहे वो रिपोर्टर हो या डेस्क पर काम करने वाले हो ........................और रही बात रिपोर्टर की .उनको तो आज तक एक भी पैसा ही नहीं मिला डेस्क के लोगो का कम से कम २०, ००० या २५, ००० से किसी की सैलरी वों में बाकि नहीं है ...............आपकी भी सैलरी बाकी ही होगी ............लेकिन मुझे समझ नहीं आ रहा है की आप बिना मतलब के मनीष वर्मा जी झंडा क्यों बुलंद किये है ? आखिर आपके झंडा बुलंदी का राज़ क्या है ?
...
written by onkar bahuguna, May 31, 2011
BURA JO DEKHAN ME CHALA BURA NA MILYA KOI
JYO DIL DUODO AAPNA MUGSE BURA NA KOI

comment likhne wale aadarniy sammanit bhaiyo bhawana wyakt karna accha hai par jaleel karna acha nahi -

kbhi desh se ye nahi puchna chaiye ki desh ne hamare liye kya kiya Apne dil se pucho ki hamne desh ke liye kya kiya

Maneesh verma ji ko Reportero par viswas rakhna chaiye yadi reportaro ka viswas jeeta to channel ki partistha bdti hi hai
...
written by atma ram , May 30, 2011

वोईस ऑफ़ नेशन न्यूज चेनल के मालिक मनीष वर्मा का ससुर बहादुर राम सोनी पुलिस हिरासत में

देहरादून से प्रसारित वोईस ऑफ़ नेशन न्यूज चेनल के मालिक मनीष वर्मा का दुर्भग्य पीछा नहीं छोड़ रहा हैं उनके चेनल के श्रीगंगानगर के ब्यूरो चीफ कम उनके ससुर जी को पुलिस ने हिरासत में ले रखा है और पिछले छ सात दिनों से वे हिरासत में दिन काट रहे है ! मनीष जी के ससुर बहादुर राम सोनी ने शिशु शिक्षा सदन स्कूल के व्यवस्थापक पद पर रहते हुए अपनी दो बेटियो,उनमे से एक मनीष जी की पत्नी और दूसरी उनकी साली है जो देहरादून में ही रहती है के नाम पर तथा गंगानगर की तीन अन्य महिलाओं के नाम पर पंद्रह साल से अनुदान उठा रहे थे ! इस मामले की शिकायत पिछले साल डबलीराठान के सीता राम ने की थी तब इस की जांच की गयी जिसमे बहादुर राम सोनी को पचास लाख रूपए का सरकार को चुना लगाने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है ! अपनी कार पर वोईस ऑफ़ नेशन का बड़ा सा स्टीकर लगा कर घुमने वाले इन साहब ने पुलिस वालो के साथ गंगानगर के अधिकारिओ को ब्लेकमेल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी और ये सारा का सारा पाठ उनके दामाद मनीष वर्मा तथा एक स्कूल की पर्धनाधियापिका ने सिखाया है लोगो से खूब पैसे मारे वोईस ऑफ़ नेशन के नाम पर !
ए सी में रहने वाले मनीष जी के ससुर बहादुर राम सोनी इन दिनों जवाहर नगर थाणे के 8x8 के कमरे में पंखे की हवा में सो रहे है !पहले इनका रिमांड 28 तारीख तक लिया गया था मगर बाद में इनका रिमांड 31 तक बाधा दिया गया है तभी से इनको तनाव शुरू हो गया है ! बहादुर राम सोनी को आपने दामाद मनीष वर्मा से बड़ी उम्मीदे रही की वो कांग्रेसी लीडर है और उन्हें किसी तरह की तकलीफ नहीं होने देंगे,लोगो के सामने बड़ी बड़ी शेखी बघारने वाले बहादुर राम सोनी सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी को अपना खासम ख़ास बताते है! मगर उनकी सारी हेकड़ी पुलिस वालो ने निकाल दी ! साहब सुबह शाम नाश्ता पुलिस वालेअपने तरीके से दे रहे है ! इस तथा कथित पत्रकार और 420 के आरोपी से पुलिस कुछ नरमी से ही पेश आ रही है ! इनके अन्दर जाने के बाद से मनीष वर्मा और उनके साडू साहब ने कोई दर्शन नहीं दिए है !गौरतलब है की बहादुर राम सोनी ने पूर्व में भी टाटा फाइनेंस से निकलवाई थी जिसके 25000 रूपी बकाया थे कही टाटा वाले उसकी मेजिक उठा कर न ले जाए उन्होंने अपनी मेजिक अपने जवाई को दे दी और बदले में उनकी स्विफ्ट कार ले आये तब भी ये श्री मान जी जेल जाते जाते बच गये मगर बकरे की माँ कब तक खेर मनाएगी..................................!
...
written by anil mittal, May 30, 2011
यशवंत जी
नमस्कार मुझे दुःख हुआ की आप खबर को बिना प्रमाणित किये ही अपने पोर्टल पर लिख देते है मेरा आपसे अनुरोध है की खबर की सच्चाई जानकर ही पोर्टल पर लिखे जिस आपने लिखा है की चैनल बंद हो गया है ऐसा बिलकुल नहीं है हम अब भी रोजाना की बहती ऑफिस जाते है भले ही सरकार ने हमारा लिंक बंद करा दिया हो अब हम अपना टेलेपोर्ट बदल कर दो या तीन दिनों में ही शुरू करने वाले है किसी ने सही कहा है , मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है वही होता है जो मंजूरे खुदा होता है ,, हम सच्चाई की रह पर चल रहे है हम अपने पत्रकारिता के धर्म को पूरी म्हणत और ईमानदारी से निभा रहे है तो भगवः हमारा साथ जरूर देगा कुछ लोगो के न चाहने से कोई चैनल बंद नहीं होता है जिस आपने लिखा है कर्मचारियों के खिलाफ चोरी की रिपोर्ट लिखी गए है तो वो भी सरासर गलत है किसी के खिलाफ कोई रिपोर्ट नहीं लिखी गए भले ही उसने चैनल को कितना भी बड़ा नुक्सान ही क्यों न दिया हो और न ही किसी से छुट्टी की अप्लीकेशन ली गए है जिसको छुट्टी जाना था उन्ही लोगो ने दो या तीन दिन की छुट्टी ली है रही बात मनीष जी के दुर्भाग्य की तो यशवं जी यह केवल मनीष वर्मा का ही दम है जो चैनल में जयचंदों के होते हुए भी चैनल को करीब तीन साल चला चूका है किसी भी खबर पर दलाली नहीं की और न ही किसी को दलाली करने दी एक बात से में भी सहमत हु की मनीष जी ने कई साप आस्तीन में जरूर पाले है जिसका परिणाम यह है की वोइस ऑफ़ नैसन में हुई हर खबर आप तक पहुच जाती है में उन लोगो भी खाना चाहूँगा की आपने भी वी ओ एन का नमक खाया है इसलिए ऐसे हरकत मत किया करो जिसे नमक हरामी का दर्ज़ा दिया जाये और अंत में यही कहूँगा की अबके सावन में बादलो ने जाने क्या साजिश की >> मेरा ही घर मिटते का था मेरे ही घर बरसात ही लेकिन अपने दुश्मनों को कहना चाहूँगा कीsmilies/sad.gifsmilies/angry.gif
...
written by aliya khan, May 30, 2011
Dukh hai ki channel is tarah se band ho gaya. agar Imandari aur sachchayee ke saath chalta to aisi naubat nahin aati. par is chennel ne to apne hi karamchariyon se lekar har kisi ko dhokha diya. Manishji aik employer kai logon ko naukri dekar samaaj seva ka kaam bhi karta hai. Ishavar uske saath hota hai. par aapke bare mein har koi achchi raai nahin rakhta. aisa lagta hai sab aap se pareshan the. Aap is duniya se kya lekar jayenge keval badduayen? zara sochiye aur achcha banne ki koshis kijiye.
...
written by Rajesh Arya roorke , May 29, 2011
Jo hua aacha hua is Tv channal ne garib Reporter's se moti rakam leker ID batne ka kaam kiya aur dehat ke ilako se bhole bhale yuvao ko apne jaal me fhashaya Media ki chamk dhamak dekher Media me aane ka fesla kya tha unhe malum nhi tha ki is Tv channal ka Bister goal ho jayega. Aaj ye yuva Media ka naam sunte he kaanp uthte hai, ki kahi yahi channal to unke Samne nhi aa gya. is channal ke Dhan rashi Athne ke kai tarike the. Apne dehradun office bulaker sidhe sadhe yuvao se Dhanrashi athte the, inka paterkarita ka koi maksad he nhi tha.
...
written by एक गुमनाम पत्रकार .................., May 29, 2011
शायद कुछ लोगो को याद हो की ठीक एक साल पहेले इसी दिन इस चैनल मै एक क्रांति का उदय हुआ था .....जब मनीष वर्मा ने सबसे पहली गलती की थी ......रूपए की लालच मे कुछ चाटुकारों की बातो मे आकर पुराने लोगो की टीम को अलविदा कहे दिया , जिन्होंने चैनल के लिए ख़ून पसीना एक किया था . चाटुकारों की मदद से उन्हे टाटा किया और कमान गरिष सेमवाल एंड कम्पनी जोकि टॉप के दलाल थे , उन्हे थमा दी. उस समय भी ठीक कुछ यू ही हुआ था . चैनल मे एंट्री करने वाले टॉप के दलाल गरिष सेमवाल एंड कम्पनी यानि श्री निवास पंथ , चन्दन कुमार झा जसे टॉप चाटुकारों के साथ मिलकर फर्जीवाडा शुरू किया . वर्मा साहब को जबतक खेल समझ अता तब तक गरिष सेमवाल एंड कम्पनी अपना काम कर चुकी थी. इसके बाद गरिष सेमवाल एंड कम्पनी लूट मचा कर चली गयी . लकिन कहते है न की जब आपका विवेक मर जाता है तो आप अपने विनाश की और जाते है . जनाब मनीष वर्मा ने चैनल की कमान कोई राजीव रावत और केलाश बिस्ट नाम के चाटुकारों के हाथ मे डे दी . फिर नतीजा साब के सामने है . वर्मा साहब से इतना ही कहूगा की हिम्मत रखो सब ठीक हूँ जायगा . वू क्या कहते है गेट वेल सून .

एक गुमनाम पत्रकार ..................
...
written by davil thapar, May 29, 2011
ये तो होना ही था ............जिसने भी दूसरो को लुटाने की कोशिश की है ..............वो खुद ही लुट गया है ............................अभी तो पूरा फिल्म बाकी है ................ एम्प्लोए अच काम कर रहे है .................. एम्प्लोए को वही डटे रहना चाहिए ........इसकी शिकायत मुख्या मंत्री से करनी चाहिए .............................ताकि इसके उपर जबरदस्त कार्यवाही हो सके . इअसे दलालों को सजा मिल सके
...
written by viraj saxena, May 29, 2011
hiiiiiiiiii

m.varma g kya baat...........?
sunha h ki ahpka channel band ho gya h..........kya n.d.tiwati ne channel ka lye passha dene se inkar kr diya h.......? varma g kha jata h ki jb kishi k bure din ahte h to vo pagal ho jata h mujhe lagta h ki ........ahp ager apnw off k workro ki saliry time pr dete to unki duha ap k kham ah jate.............by by varma g........channel band hone k ly or bhras media k v.................
...
written by Sumit Srivastava, May 28, 2011
verma ji aapko to apno ne luta staff main kha dum tha
employes ke kasti jab dubi, jab inhe pata cala
channel band tha.
...
written by patrakaar...., May 28, 2011
dil k armaan aansuo mai beh gaya, hum hamesha bewafai mai hi reh gae...
staff ko humne bhi humne nikal dala magar,
sab k sab to dharna dene k lie khade ho gae...

dil k armaan aansuo mai beh gae....

manish verma singing dis nice song... froud...

saaf-saaf kehna chahuga... ki itne logo k sath dhoka karne wala kaise khush reh sakta hai bhala.... bhagwan jo karta hai ache k lie hi karta hai.... good god ji... very good...
...
written by ayush kumar, May 28, 2011
voice of nation ke sath aisa hona to banta hain boss...jo garibo ko lutenge wo khud loot jate hain..jhakas
...
written by ramesh, May 28, 2011
i m feeling sad for employes.. but good for butter baaz now butterbaaz friend.. plz open shop for ur butter..
and employes i m praying to God that very soon you all find a good job dear..
...
written by ek bhugtbhogi, May 28, 2011
वाह जी वाह भगवन इतनी जल्दी हमारी सुनेगा हमें यकीन न था जिस दिन मेने और मेरी बीवी ने नौकरी छोड़ी थी उसी दिन मेने भगवन से बदला लेने को कहा था पर मुझे नहीं पता था की भगवन इतने जल्दी मेरे सुनेगा जय साईं राम सबका भला करना
...
written by vimal dixit, May 28, 2011
yeh to hona hi tha.
...
written by rahul kumar, May 28, 2011
manish verma dalaal hai pahlay is nay collage key naam par lakoo rupay bacchoo say lutay aur ab press ki dhoss sai kyi logoo ko bakfoo bana rahay hai asay logoo ko jail honi chayii
...
written by rakesh, May 28, 2011
aditar ji is fargi chenal ka kya kahna muge to un logo pe taras aa raha hai jo bari uchi jaban rakhte hai jai se kailash bistt rajeev rawat ye do no chamche akir kuch kahte kyo nahi inki to chenal me itne paith thi ki jab inhone join kiya to itne ghamand the ki jai se ibn 7 join kar kiya ho maneesh verma to frod tha hi wastab me in do no ke aane se inki chatu karita se hi ye barbad hua are bad dua to lagegi hi
...
written by rahul, May 28, 2011
gud very nice yeh to hona hi tha ek din

Write comment

busy