''दो टीवीपत्रकार मुझे ब्लैकमेल कर रहे हैं, दो लाख रुपये मांग रहे हैं''

E-mail Print PDF

पता नहीं इन आरोपों में कितनी सच्चाई है. अगर वाकई ये पत्रकार ब्लैकमेल कर रहे हैं तो गंभीर मसला है. पर सच्चाई क्या है, ये तो दोनों पक्षों से बातचीत के बाद ही जाना जा सकता है. पर यह जो पत्र है, वह प्रथम दृष्टया सच लगता है. दोनों आरोपी पत्रकार साथियों को अपना पक्ष रखना चाहिए. वे अपनी सफाई जब चाहें, जितना चाहें लिखकर भेज सकते हैं और उनके पक्ष को भड़ास4मीडिया पर भी उसी प्रमुखता से प्रकाशित किया जाएगा, जितनी प्रमुखता से ये आरोप पत्र छापा जा रहा है. -यशवंत, एडिटर, भड़ास4मीडिया

आरोप पत्र जिस ईमेल के साथ अटैच है, उसमें शुरुआती में कुछ पंक्तियां इस तरह लिखी गई हैं...

from This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it

to This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it

date    Sat, May 28, 2011 at 7:08 PM

subject    Blackmailing by two electronic midea reporters

mailed-by    gmail.com

signed-by    gmail.com

Dear sir, i am yagendra srivastava. two electronic medea reporters are blackmailing me . they want two lakh rupees . details are attached.

yagendra


AddThis
Comments (13)Add Comment
...
written by k c jha, June 07, 2011
किसी पत्रकार पर पैसे वसूलने का इल्‍जाम लगाना बिल्‍कुल आसान होता है/ पर साबित कर के दिखाईये / 99103734819( kalam ki jeet news paper)k c jha
...
written by inshaf, June 03, 2011
Patrakar mahoday agar aap ke upr kisi ne ungli udha di to aap ko mirchi ku lag gayi . Agar aap Sach me us vyakti ki kamiyo ko t v par lana chahte the to khabar chalne ke bad wah aap par iljam lagata to samjh me aata ki ye jhuta aur be buniyad iljam hai. Magar yaha to na khabar chali na kisi ko pata khala aur aap ko merchi lagi...........
...
written by sushil, May 31, 2011
jai ho media ur media walon ki.
kushinager kay reporter ki yah dastan koi nai nahi hai, is say pahlay bhi do reporter vasuli kay aarop may pad chukay hai. par sochanay wali bhat yah hai ki f i r darj karanay waa police may report darj karanay ki bat say inkar kar raha hai, uska kahna hai ki dono reportero nay hi f i r khud darj karai hai.
deeapk srivastav jo in dono kay hitasi najar aatay hai wah mahrajganj kay dalal raporter hai jo ab p7 kay liye gorakhpur say kam kartay hai.ek n g o ur ek sarab mafiya kay liye dalali kartay hai. ur ek langday kay rahnuma hi.itnay giray hua insan jab apna comment karty hai to lagta hi ki patrkarita say bura kam koi nahi.
jai ho media ur chothay stabh ki yadi yu hi chalta raha to to log is pasay say juday sabhi logo say nafrat karnay lagany.
bhi waqt rahtay sudher jay.
...
written by अश्‍वनी तिवारी , May 31, 2011
कुशीनगर जिले में भ्रष्‍ट्राचार चरम पर है और जब भी कोई पत्रकार इस भ्रष्‍ट्राचार को रोकने की कोशिश करता है तो वही भ्रष्‍ट्राचारी इस तरह की वाहियात हरकते करके उनके काम मे रोडा अटकाते है। ऐसा कुशीनगर में पहली बार नही हुआ है कि जब भड़ास का सहारा लेकर किसी इलेक्‍ट्रानिक मिडीया के रिर्पोटर को बदनाम करने की कोशिश की गयी है इसके पूर्व भी एक मामूली किराने के दुकानदार ने एक रिपोर्टर को इसी तरह भड़ास के जरीये बदनाम करने की कोशिश की थी। कुल मिलाकर कुशीनगर जिले में ऐसे गन्‍दे लोग पत्रकारो की आपसी फूट का फायदा उठाकर उन्‍हे बदनाम कर रहे है। मै कुशीनगर जिले के पत्रकारो को आगाह करना चाहता हू क‍ि आप लोग इस खबर को चटखारे लेकर पढने की बजाये एकजुट होकर उस व्‍यक्ति को जिसने जगह जगह अर्जिया दी है उसे बेनकाब करे।
...
written by J.P. Sharma, May 29, 2011
Had ho gayee ab to ek aadmi ne ladki bhagai, or ladki walo ne uski naak kaat di. Bus mil gaya mudda patrakar bhai ko, paisa koun bevkoof mangta hai. Patrakar sahab 1 mahine se naak ke mamle ka 5 baar followup de chuke hai, vo bhi puri stori or add. Ke saath. Shayad unko umeed hai ki party khud aakar mil legi. Lag
...
written by Vinod Gangwal, May 29, 2011
Its easy to target journalist by corrupt people, if any journalist go for right news many people make them afraid, what cournter party has sent on bhadas is only a complaint in writing. and bhadas portal has defamed those 2 journlist. such thing should be stopped. its damage the name of the journalist. if Journs has demanded money than they should informed to police and go to court. get order and regiestred FIR, but why these people are using bhadas portal. actualy this is also a game of some journlaist, they have given such people bhadas mail address to complaint. such complaint are most of the time wrong.please save journlist name from such complaints its heartening.

Vinod Gangwal
...
written by santosh Singh, May 29, 2011
अगर तुम जैसे जनता के लुटेरो पर इन पत्रकारों के बदौलत अगर जनता लूटने से बची और तुम्हारे ऊपर ऍफ़.आई.आर इन पत्रकारों के बदौलत हुआ तो उन पर चाहे कोई भी आरोप लगा दो उसका कोई असर नहीं पड़ता क्योंकि जब पत्रकार कोई खुलासा करता है तो उस पर आरोप लगाना आसन है, जबकि आज कल पत्रकारों पर यह आरोप आये दिन की वह घूस मांग रहे है आम बात हो गई है लेकिन उसके गहराई में तुम्हारे जैसा लोगो को डसने वाला सर्प छिपा है, लेकिन अगर तुम्हारे में दम हो तो एक भी सबूत सामने लाकर दिखावो. करोडो रुपये जनता का डकार कर बचने का नया तरीका अपना रहे हो, अगर तुम सही हो तो कुशीनगर से फरार क्यों हो गए हो , तुमको पोलिस अधीक्षक कुशीनगर से मिलकर इन पत्रकारों की शिकायत करनी चाहिए, जनता की गाढ़ी कमाई लूटने वाले लुटेरे तुमको जनता के पैसे का हिसाब देना पडेगा, अभी जिम्मा पत्रकारों पर आरोप लगाकर नहीं बच पावोगे, जो हम लोगो को फर्जी माला बेचे हो वह एक-एक को पैसा वापस करना पडेगा, तुम्हारे जैसे फर्जी कंपनी चलाकर लूटने वालो की खैर नहीं है क्योंकि अब चैनल वाले भाई लोग स्पीक एशिया के फर्जी वादे का खुलासा कर देश की जनता को लूटने से बचाए और इन्ही भाइयो की बदौलत तुम्हारे जैसे लोगो से अब तो बच जायेंगे, वह लोग इन चैनेल के लोगो को दुआ देंगे, अगर तुम अध्यापक हो तो तुम्हे गुरु नहीं गुरु घंटाल का दर्जा मिलना चाहिए, मै जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कुशीनगर से इस दर्जा को दिलवाने का आग्रह करता हु और इस तरह की खबरों को पत्रकार भाइयो को और प्रमुखता से उठाना चाहिए चाहे आरोप कोई भी लगे,

...
written by santosh Singh, May 29, 2011
अगर तुम जैसे जनता के लुटेरो पर इन पत्रकारों के बदौलत अगर जनता लूटने से बची और तुम्हारे ऊपर ऍफ़.आई.आर इन पत्रकारों के बदौलत हुआ तो उन पर चाहे कोई भी आरोप लगा दो उसका कोई असर नहीं पड़ता क्योंकि जब पत्रकार कोई खुलासा करता है तो उस पर आरोप लगाना आसन है, जबकि आज कल पत्रकारों पर यह आरोप आये दिन की वह घूस मांग रहे है आम बात हो गई है लेकिन उसके गहराई में तुम्हारे जैसा लोगो को डसने वाला सर्प छिपा है, लेकिन अगर तुम्हारे में दम हो तो एक भी सबूत सामने लाकर दिखावो. करोडो रुपये जनता का डकार कर बचने का नया तरीका अपना रहे हो, अगर तुम सही हो तो कुशीनगर से फरार क्यों हो गए हो , तुमको पोलिस अधीक्षक कुशीनगर से मिलकर इन पत्रकारों की शिकायत करनी चाहिए, जनता की गाढ़ी कमाई लूटने वाले लुटेरे तुमको जनता के पैसे का हिसाब देना पडेगा, अभी जिम्मा पत्रकारों पर आरोप लगाकर नहीं बच पावोगे, जो हम लोगो को फर्जी माला बेचे हो वह एक-एक को पैसा वापस करना पडेगा, तुम्हारे जैसे फर्जी कंपनी चलाकर लूटने वालो की खैर नहीं है क्योंकि अब चैनल वाले भाई लोग स्पीक एशिया के फर्जी वादे का खुलासा कर देश की जनता को लूटने से बचाए और इन्ही भाइयो की बदौलत तुम्हारे जैसे लोगो से अब तो बच जायेंगे, वह लोग इन चैनेल के लोगो को दुआ देंगे, अगर तुम अध्यापक हो तो तुम्हे गुरु नहीं गुरु घंटाल का दर्जा मिलना चाहिए, मै जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कुशीनगर से इस दर्जा को दिलवाने का आग्रह करता हु और इस तरह की खबरों को पत्रकार भाइयो को और प्रमुखता से उठाना चाहिए चाहे आरोप कोई भी लगे,
...
written by Sunil Agrahari, May 29, 2011
हम्म्म...! कितने आदमी थे?
दो!...दो पत्रकार थे!
दो पत्रकार...दो लाख रुपये...मेरी खोंपड़िया कह रही है कि दूनों पत्रकार एक-एक लाख रुपये बांट लेंगे...मिल बांट कर खाते हैं, कितने अच्छे आदमी हैं...!
...
written by manish kumar mishra, May 29, 2011
yee 100/ sach hi hoga,kyuki patna mee aaryan nee to aisa hi kiya hai mere sath
...
written by दीपक श्रीवास्‍तव, गोरखपुर, May 29, 2011
श्रीमान यज्ञेन्‍द्र श्रीवास्‍तव जी,
अगर आप राजा हरिश्‍चन्‍द्र की नौवीं पीढी से हैं और आपकी कम्‍पनी बिल्‍कुल गोमुख के गंगाजल जैसी पाक साफ है तो आपके और आपकी कम्‍पनी पर्फेक्‍ट एम बिजनेस के खिलाफ कुशीनगर में धारा ४१९,४२०,४७१ में मुकदमा क्‍यों दर्ज हुआ है इसका जबाब दें... साथ ही 3500 रूपये में फर्जी माला बेंचकर हजारों लोंगों की गाढी कमाई के जो लाखों डकारे हैं उसका भी हिसाब दें... आपकी कम्‍पनी के उन दर्जनों कर्मचारियों के चेक क्‍यों बाउंस हुये इसका जबाब दें और दो दिन से आपकी कम्‍पनी के सारे कर्मचारी बोरिया बिस्‍तर बांधकर अपनी दुकान बन्‍दकर फरार हैं इसका भी जबाब दें.... मित्र.. किसी पत्रकार पर पैसे वसूलने का इल्‍जाम लगाना बिल्‍कुल आसान होता है पर साबित कर के दिखाईये फिर भडास पर अपना दुखडा रोइयेगा...... और जहां तक पैसे लेकर खबर दबाने की बात है तो इल्‍जाम लगाने से पहले कृपया टीवी देखा करें क्‍योकि कल शाम को मुकदमा दर्ज होने के बाद आज सवेरे आजतक, तेज और पी07 पर आपकी कम्‍पनी की सच्‍चाई दिखाई गई है.. आपने टीवी सम्‍पादकों से जिस जांच का रोना रोया है वो जांच जरूर होनी चाहिये और दूध का दूध पानी का पानी भी होना चाहिये पर जांच के बाद पत्रकारों पर झूठे इल्‍जाम लगाने वालों पर जो कार्यवाही होनी चाहिये... उसके लिये भी तैयार रहियेगा जनाब............
...
written by jakhmi, May 29, 2011
ARE BAHI SAHAB AGAR BAT SHI HAI TO JANAB UN PATRKARON KA MOBOLE NUMBER BHI DENA CHAHIYE TAB NA HUM GARIYATE SALE FAARJI PATRKAR KO KAAN SE KHOON NA JUA DETE.
PLZ NUMBER PARKASIT KRE FARJI DALAL PATRKAR KA
...
written by Harishankar Shahi, May 29, 2011
यह कौन सी नई बात है. अब तो इलेक्ट्रोनिक मीडिया के पत्रकार दलाली, ब्लैकमेलिंग, वसूली, ट्रान्सफर पोस्टिंग यह सब ना करते मिले तो उन्हें प्रणाम करने को मन चाहेगा. आखिर पचास हज़ार का कैमरा और चलने के लिए गाडी और ऊपर वालों को घुस करने के लिए खर्च कोई क्यों करेगा. यह सब तो अब आम हो चुका है और जिलों में यही हो रहा है. परन्तु इस मामले में क्या सच्चाई है. यह भी बहर आना चाहिए. कोई भी व्यक्ति इतनी आसानी से मीडिया से पंगा तो नहीं लेना चाहता हैं इसमें कितनी सच्चाई है पता चलनी ही चाहिए.

Write comment

busy