केंद्र ने क्यों लगाई इलेक्ट्रानिक मीडिया पर रोक?

E-mail Print PDF

भ्रष्टाचारियों पर नकेल कसने के लिये, विदेशों में जमा काले धन को देश में वापस लाने के लिये, लोकपाल विधेयक बनवाने के लिये योगगुरू बाबा रामदेव व सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना अजारे द्वारा छेड़े गये मिशन को देशव्यापी समर्थन मिलने के कारण अब केंद्र सरकार ने खबरिया चैनलों पर रोक लगा दी है। मेरे नजरिये से इन खबरिया चैनलों पर केंद्र सरकार द्वारा रोक लगाने का मुख्य मकसद यह है कि यदि चैनलों पर कुछ न दिखाया जाये, तो शायद भ्रष्टाचार विरोधी मिशन को इतना जनसमर्थन न मिल पायेगा।

इस बात को कौन नहीं जानता कि पिछली बार अन्ना द्वारा जंतरमंतर पर किये गये अनशन व बाबा रामदेव के द्वारा रामलीला मैदान में किये गये अनशन को मिला जबरदस्त जनसमर्थन के पीछे कहीं न कहीं इलेक्ट्रानिक मीड़िया का हाथ है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा देश में दंगा भड़कने, देश में कानून व्यवस्था बिगड़ने आदि का हवाला देते हुये सभी खबरिया चैनलों को एडवायजरी नोटिस जारी की है। इसमें भ्रष्टाचार विरोधी मिशन का कोई भी फुटेज न दिखाये जाने की बात कही गयी है। मनमोहन सरकार द्वारा खबरिया चैनलों पर लगाई गयी रोक कितनी कारगर होगी यह तो आने वाला समय ही बतायेगा, कि अन्ना व रामदेव को मिल रहे जनसमर्थन में बृद्धि होगी या कमी।

दिवाकर अवस्थी

लखनऊ


AddThis
Comments (13)Add Comment
...
written by rajesh, June 12, 2011
congress sarkar khule aam loktantra ka gala ghot rahi hai jiska natija hai midia par rok lagana lekin electronic midia ne bhi baba ko bhrstachar ke mudde par samrthan dene ke bajaye unke upar jis trah ka aarop prtyarop kar rahi hai isse aisa lagta hai ki midia bhi congress poshit ho gai hai
...
written by choudhary nishakar, June 10, 2011
Ab media pe rok lagakar sarkar ne sabit kar diya hai ki jiski lathi uski bhaish ...Ab media ka india me koi astar nahi rha. loktntra ka gala ghota ja raha hai..........................................................
...
written by sachin tiwari, June 10, 2011
aakhir kab tak chhipega bhrastachar? abhi aaptkal jaisi sthiti nahi hai. news chanalo ke madyam se sirf sachchai ujagar ki ja rahi hai.
...
written by I Chandra, June 09, 2011
vinas kale viprit budhi... sarkar aapa kho chukii hai use samajh me nhi aa rha ki ab kya kiya jaye. aise me sarkar ek-par-ek atmghati kadam uthati ja rhi hai.
...
written by alok pandya , June 09, 2011
भ्रष्टाचार के खिलाफ लामबंद लोगो के समाचारों पर न्यूज़ सेंसरशिप कर के सरकार ने एक बार फिर आपातकाल कि याद दिला दी. जिस देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ हो रहे आन्दोलन से कानून व्यवस्था बिगड़ने की बात सरकार करने लगे वहा के हालत कितने बिगड़ चुके है इस का अंदाज़ लगाया जा सकता है.
...
written by मोहन, June 09, 2011
आप भी कितना हिसाब किताब रखते है। क्या चार दिन तक चला राम देव का लाइव कम है क्या क्या वाकई में रामदेव या कोई बाबा ही भ्रष्टाचार मिटापायेगा। जी नहीं मै तो कहता हू भ्रष्टाचार आमलोगों में समाया हुआ है। एक गांव का सर्वे कर लिजिए सरकारी नितियों के हिसाब से गांव में बामुश्किल दो या तीन अन्तोदय कार्ड ही उस दायरे में आयेगे लेकिन कार्ड होगे दो सौ वो भी जानते है कि मै भी भ्रष्ट हूं लेकिन वे भी डंका पीट रहे है कि भ्रष्टाचार है मै एक गांव में प्रधान जी के यहां बैठा हुआ था एक गांव का आदमी आया और कहा प्रधान जी बीपीएल कार्ड बन रहा है तो हमारा भी बना दिजिएगा देखिएं मुझे राशन और मिट्टी का तेल नहीं चाहिए मुझे केवल बच्चे के एडिमिशन और शिक्षा पर मिल रही छूट ही चाहिए बाकि कोटेदार को भी फाय्दा होगा क्योकि राशन उसी कार्ड के हिसाब से आ रहा है। अभी उसकी बात खत्म नहीं हुई थी कि एक और आदमी आ धमका और उसने कहा प्रधान जी इंदिरा आवास दिलवा दिजिए झल्लाएं प्रधान ने कहा कि अभी तो आपको पिछले साल इंदिरा आवास मिला था तो क्या हुआ जो कमिशन होगा ले लिजिएगा पिछले वाले प्रधान तो एक एक घर कई कई इंदिरा आवास दे दिये थे । प्रधान निरुत्तर थे उन्हें समझ में नही आ रहा था कैसे मैनेज करु क्यों कि राजनीति भी करनी है वोट आखिर कार यही देगे. हमारी तरफ दयनीय निगाहों से देखते हुए दोनों को आश्वासन का घूट पिलाया और कहा कि रामदेव व अन्ना हजारे इसी जनता के बल पर भ्रष्टाचार को खत्म करने की लड़ाई लड़ रहे है। जरा राजनीति करे सब समझ में आ जायेगा ।
...
written by yashpal singh, June 09, 2011
sarkar ka sochna bhi kush had tak sai hai. na to news channal hi apna sahi kam kar raha hai.kisi bhi khabar k pichha pad jata hai to hath do k pad jata hai
.kisi bhi bada nagar mai koi kutta bhi sad raha hai to usa bhi bar bar dikhata hai.garmin chhatro ma kisan karj k karan atmhatiya karta hai to koi bhi channal na to khabar parmukhuta ka sath utatha
.ki ya desh ma kya ho raha sakro aarusi kand jasa kand hota unha insaf dilna k liya koi news chanal aage nahi aata.
or rahi bharastachar mitana ki batto anna ji to thik hai baki to apni raj neeti chkana ki soch raha hai
ramdev 11hajar sasastr sana banna ki bat karta hai kya ya babao ka kam hai hum sampur bharat bhasi ahinsa ka bal par hi vuvasta ko badal na mai sakhham hai
yashpal singh 9358571274
...
written by VK SHARMA, June 09, 2011
UPA GOVT. JANATAA KE LIYE SHAASHAN NAHI KAR RAHI BALKI KISI PRIVATE LIMITED COMPANY KEE TARAH BUSINESS KAR RAHI HAI... EK TARAF SARKAARI KARAMCHAARI KE LIYE VETAN MILNAA MUSHKIL HOTA JAA RAHAA HAI TO DOOSRI TARAF MINISTER LOG BHRASHTAACHAAR KARKE KARODON RUPYE GATAK RAHEN HAIN.. AUR JAB INKI POL PATTEE KHULNE LAGATI HAI TO YE AB MEEDIA KO BHI DHAMKAANE KEE AUR BADHNE LAGE HAIN... MEDIA KO BHI APNEE REEDH KEE HADDI MAJBOOT RAKHNI HOGI AUR SACH KO SACH KAHNE KEE HIMMAT BANAAYE RAKHNEE HOGI.. KYONKI DESH KEE MITTI KE LIYE BHI KUCH FARJ NIBHAANA CHAHIYE BHAI LOGO !!!
...
written by Jainendra Jyoti, June 09, 2011
Behad sharmnak kadam....is kadam se saaf jahir hota hai ki sarkar kitne paani me hai
...
written by Jiwan Jyoti, June 08, 2011
Sarmnaak,, Kab Tak Chupoge (Manmohan Sarkaar) Patte Ki Aar Me, Kabhi To aaegi Bhindi Bazar Me..
...
written by धीरेन्द्र, June 08, 2011
किस किसको रोकेंगे...
...
written by ishu, June 08, 2011
Bandhu,
Pahile anshan na karne denge, phir upwas bhi na karne denge, 144 dhara laga denge. Ab media ke muh par bhi tala lagadenge.
Kahin ye aghoshit EMERGENCY to nahin. Wo wali emergency ko kitna hi log bura kahen but usko Indira ji ne bol ke lagaya tha. Bakayda declare kiya tha. Is baar yeh bhai log to uske bina hi lagoo kide ja rahe hain.

Inko pata nahin halat kitne kharab karne wale hain yeh log. Baba ko chor, thag, darpok kuchh bhi kah len yeh log aur ho sakta hai baba ke peeche sangh ya BJP bhi ho par aam logon ki bhawnaon ko kab tak daba payenge yeh log. Apni chori kitni chhupa payenge yeh log.
...
written by kanhaiya khandelwal, June 08, 2011
isse saf jahir hai ki sarkar ki fatne lagi hai,ab media apna kaam ouri imamdari se kare

Write comment

busy