केंद्र ने क्यों लगाई इलेक्ट्रानिक मीडिया पर रोक?

E-mail Print PDF

भ्रष्टाचारियों पर नकेल कसने के लिये, विदेशों में जमा काले धन को देश में वापस लाने के लिये, लोकपाल विधेयक बनवाने के लिये योगगुरू बाबा रामदेव व सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना अजारे द्वारा छेड़े गये मिशन को देशव्यापी समर्थन मिलने के कारण अब केंद्र सरकार ने खबरिया चैनलों पर रोक लगा दी है। मेरे नजरिये से इन खबरिया चैनलों पर केंद्र सरकार द्वारा रोक लगाने का मुख्य मकसद यह है कि यदि चैनलों पर कुछ न दिखाया जाये, तो शायद भ्रष्टाचार विरोधी मिशन को इतना जनसमर्थन न मिल पायेगा।

इस बात को कौन नहीं जानता कि पिछली बार अन्ना द्वारा जंतरमंतर पर किये गये अनशन व बाबा रामदेव के द्वारा रामलीला मैदान में किये गये अनशन को मिला जबरदस्त जनसमर्थन के पीछे कहीं न कहीं इलेक्ट्रानिक मीड़िया का हाथ है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा देश में दंगा भड़कने, देश में कानून व्यवस्था बिगड़ने आदि का हवाला देते हुये सभी खबरिया चैनलों को एडवायजरी नोटिस जारी की है। इसमें भ्रष्टाचार विरोधी मिशन का कोई भी फुटेज न दिखाये जाने की बात कही गयी है। मनमोहन सरकार द्वारा खबरिया चैनलों पर लगाई गयी रोक कितनी कारगर होगी यह तो आने वाला समय ही बतायेगा, कि अन्ना व रामदेव को मिल रहे जनसमर्थन में बृद्धि होगी या कमी।

दिवाकर अवस्थी

लखनऊ


AddThis