किशोर मालवीय से शंकराचार्य बोले- 16 बार अनशन कर चुके अन्ना मरते क्यों नहीं?

E-mail Print PDF

जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने स्वामी रामदेव और अन्ना हजारे के आंदोलन को ढोंग और पाखंड करार दिया है। सीएनईबी के सलाहकार संपादक किशोर मालवीय के साथ खास बातचीत में स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने रामदेव पर तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि सत्याग्रह करने का अधिकार केवल उसे है जो सच्चा है।

उन्होंने कहा कि रामदेव न केवल झूठा और पाखंडी हैं बल्कि योग के नाम पर धंधा करने वाले धंधेबाज भी हैं। खुद उन्होंने योग की शिक्षा मुफ्त में अपने गुरू से सीखी और अब यही शिक्षा वह बेच रहे हैं। रामलीला मैदान में रामदेव समर्थकों पर हुई पुलिस कार्रवाई को पुलिस की मजबूरी बताते हुए शंकराचार्य ने इसके लिए रामदेव को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि रामदेव ने रामलीला मैदान में एक करोड़ लोगों के जुटने की घोषणा कर पुलिस को कार्रवाई के लिए मजबूर कर दिया।

पुलिस से बच कर भागने की बात पर शंकराचार्य ने कहा कि यह कायरता है। ये कहना कि पुलिस उनकी हत्या कर देती, बहुत बड़ा झूठ है। और अगर ये मान भी लें कि उनकी हत्या हो जाती तो बड़े काम के लिए बलिदान देना ही पड़ता है। लोकपाल के लिए अन्ना के अनशन को भी शंकराचार्य ने पाखंड बताया। उन्होंने कहा- ''अन्ना हजारे अब तक 16 बार अनशन कर चुके हैं पर मरते नहीं।'' उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार रोकना या कालाधन वापस लाना सरकार और संसद का काम है और ये काम उन्हीं पर छोड़ देना चाहिए।

जगतगुरू शंकराचार्य के साथ किशोर मालवीय की विस्तृत बातचीत आज रात 9:30 बजे सीएनईबी के शो क्लोज एनकाउंटर में देखी जा सकती है।

इस बातचीत की झलक आप यहां भी देख सकते हैं, क्लिक करें- शंकराचार्य कहिन

प्रेस रिलीज


AddThis